Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

मॉरिशस में मनाया जा रहा विश्व हिंदी दिवस

मॉरिशस में विश्व हिंदी दिवस मनाया जा रहा है। मॉरिशस के राष्ट्रपति महामहिम पृथ्वीराज सिंह रूपम, उप प्रधानमंत्री एवं शिक्षा मंत्री लीला देवी दुकन लछुमन और मॉरीशस में भारत की उच्चायुक्त के. नंदिनी सिंगला भी विश्व हिंदी दिवस के आयोजन में शिरकत कर रही हैं। मॉरिशस के राष्ट्रपति व वहां कि जनता को संबोधित करते

मॉरिशस में विश्व हिंदी दिवस मनाया जा रहा है। मॉरिशस के राष्ट्रपति महामहिम पृथ्वीराज सिंह रूपम, उप प्रधानमंत्री एवं शिक्षा मंत्री लीला देवी दुकन लछुमन और मॉरीशस में भारत की उच्चायुक्त के. नंदिनी सिंगला भी विश्व हिंदी दिवस के आयोजन में शिरकत कर रही हैं। मॉरिशस के राष्ट्रपति व वहां कि जनता को संबोधित करते हुए केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहा, “हिंदी हमारे लिए सिर्फ एक भाषा नहीं है, बल्कि यह हमारी जीवन शक्ति और प्राण वायु है। यह न केवल हमें एक दूसरे से जोड़ती है, बल्कि यह अहसास भी दिलाती है कि जब मन और आत्मा मिले हुए हों तो भौगोलिक दूरी कुछ मायने नहीं रखती है।”

हिंदी की महत्ता को बताते हुए डॉ. निशंक ने कहा कि, “हिंदी विश्व की तीसरी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है। इंटरनेट के युग में हिंदी ने अपनी वैश्विक पहुंच में इजाफा किया है। ईमेल, एसएमएस, ईकॉमर्स, ईबुक, इंटरनेट में हिंदी को सहजता से स्वीकार किया जा रहा है। ग्लोबल विश्व में हिंदी बाजार की भाषा बन रही है। गूगल, ओरकल, माइक्रोसॉफ्ट और आईबीएम जैसी बहुराष्ट्रीय कम्पनियां हिंदी को बढ़ावा दे रही हैं। यह हिंदी की बढ़ती ताकत को दिखाता है। हिंदी तेजी से तकनीक की भाषा बन रही है। ब्रिटेन, जर्मनी, चीन और अमेरिका जैसे बड़े देशों में हिंदी स्कूल से लेकर कॉलेजों तक में पढ़ाई जाने वाली भाषा बन गई है। विश्व के करीब 115 शिक्षण संस्थानों में हिंदी का अध्ययन-अध्यापन हो रहा है। हमें मिलकर इसे सयुंक्त राष्ट्र संघ में प्रतिष्ठित कराना है। ”

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल। ( Social media )

विश्व हिंदी दिवस के उद्देश्य को बताते हुए डॉ. निशक ने कहा, “10 जनवरी, 1975 को नागपुर में पहला विश्व हिंदी सम्मलेन का आयोजन किया गया था। इसमें 30 देशों के 122 प्रतिनिधि शामिल हुए थे। विश्व हिंदी दिवस का उद्देश्य दुनियाभर में हिंदी का प्रचार-प्रसार करने का है ताकि हिंदी अंतर्राष्ट्रीय भाषा के रूप में विश्व भर में जानी जाए। भले ही हम दुनियाभर में 2006 से विश्व हिंदी दिवस के रूप में मनाते हों, लेकिन इसकी जड़ें बहुत गहरी हैं।”

यह भी पढ़ें : नेताओं में सही चरित्र की कमी : उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू

हिंदी की भूमिका

उन्होंने वैश्विक पटल पर हिंदी के विकास के लिए मॉरिशस द्वारा उठाए गए कदमों की सराहना करते हुए कहा, “मुझे प्रसन्नता है कि यहां हिंदी का पीढ़ी दर पीढ़ी विकास हो रहा है। विश्व हिंदी सम्मेलन में मॉरिशस की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण रही है। मॉरिशस में अब तक चार विश्व हिंदी सम्मेलन हो चुके हैं। इसके लिए हमें हिंदी के प्रचार प्रसार में मॉरिशस की भूमिका की प्रशंसा करनी चाहिए। पिछला विश्व हिंदी सम्मेलन भी 2018 में मॉरिशस में संपन्न हुआ था। यह सम्मेलन अपने उद्देश्यों में काफी हद तक सफल रहा था।”

भारत सरकार द्वारा हिंदी को विश्व पटल में पहचान दिलाने के लिए किए जा रहे कार्यो का उल्लेख करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हिंदी को उसका वैश्विक रूप दिलाने के लिए भारत की वर्तमान सरकार वैश्विक स्तर पर उल्लेखनीय कार्य कर रही है। हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चाहे भारत हो या भारत से बाहर अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर, दुनिया को हिंदी में ही संबोधित करते हैं। पिछले छह वर्षो में प्रधानमंत्री हिंदी को विश्व पटल पर गौरव दिलवाने में कामयाब रहे हैं।

उन्होनें आगे कहा, “हिंदी को लेकर उनके आग्रह का असर हमारी नई शिक्षा नीति पर भी दिखाई दिया है। नई शिक्षा नीति में मातृभाषा पर विशेष बल दिया गया है। हमारा ही नहीं, विशेषज्ञों का भी मानना है कि बच्चों की प्रारम्भिक शिक्षा मातृभाषा में ही होनी चाहिए। इसका विशेष ध्यान नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में रखा गया है। नई शिक्षा नीति की सबसे बड़ी बात यह है की इसमें सभी शास्त्रीय भाषाओं का संरक्षण किया जाएगा।” उन्होंने सभी का आह्वान करते हुए कहा कि मॉरिशस विश्व में हिंदी का प्रमुख केंद्र बने इसलिए यहां विश्व हिंदी सचिवालय कि स्थापना की गई है और विश्व स्तर पर हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए सचिवालय को और अधिक सशक्त बनाने की जरूरत है। (आईएएनएस)

Popular

अमिताभ बच्चन के साथ बातचीत करते हुए, भारत के गोलकीपर पीआर श्रीजेश (IANS)

केबीसी यानि कोन बनेगा करोड़पति भारतीय टेलिविज़न का एक लोकप्रिय धारावाहिक है । यहा पर अक्सर ही कई सेलिब्रिटीज आते रहते है । इसी बीच केबीसी के मंच पर भारत की हॉकी टीम के गोलकीपर पीआर श्रीजेश पहुंचे । केबीसी 13' पर मेजबान अमिताभ बच्चन के साथ बातचीत करते हुए, भारत के गोलकीपर पीआर श्रीजेश 41 साल बाद हॉकी में ओलंपिक पदक जीतने को लेकर बात की। श्रीजेश ने साझा किया कि "हम इस पदक के लिए 41 साल से इंतजार कर रहे थे। साथ उन्होंने ये भी कहा की वो व्यक्तिगत रूप से, मैं 21 साल से हॉकी खेल रहे है। आगे श्रीजेश बोले मैंने साल 2000 में हॉकी खेलना शुरू किया था और तब से, मैं यह सुनकर बड़ा हुआ हूं कि हॉकी में बड़ा मुकाम हासिल किया, हॉकी में 8 गोल्ड मेडल मिले। इसलिए, हमने खेल के पीछे के इतिहास के कारण खेलना शुरू किया था। उसके बाद हॉकी एस्ट्रो टर्फ पर खेली गई, खेल बदल दिया गया और फिर हमारा पतन शुरू हो गया।"

जब अभिनेता अमिताभ बच्चन ने एस्ट्रो टर्फ के बारे में अधिक पूछा, तो उन्होंने खुल के बताया।"इस पर अमिताभ बच्चन ने एस्ट्रो टर्फ पर खेलते समय कठिनाई के स्तर को समझने की कोशिश की। इसे समझाते हुए श्रीजेश कहते हैं कि "हां, बहुत कुछ, क्योंकि एस्ट्रो टर्फ एक कृत्रिम घास है जिसमें हम पानी डालते हैं और खेलते हैं। प्राकृतिक घास पर खेलना खेल शैली से बिल्कुल अलग है। "

इस घास के बारे में आगे कहते हुए श्रीजेश ने यह भी कहा कि "पहले सभी खिलाड़ी केवल घास के मैदान पर खेलते थे, उस पर प्रशिक्षण लेते थे और यहां तक कि घास के मैदान पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी खेलते थे। आजकल यह हो गया है कि बच्चे घास के मैदान पर खेलना शुरू करते हैं और बाद में एस्ट्रो टर्फ पर हॉकी खेलनी पड़ती है। जिसके कारण बहुत समय लगता है। यहा पर एस्ट्रो टर्फ पर खेलने के लिए एक अलग तरह का प्रशिक्षण होता है, साथ ही इस्तेमाल की जाने वाली हॉकी स्टिक भी अलग होती है।" सब कुछ बदल जाता है ।

Keep Reading Show less

कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। (IANS)

वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बड़े खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को घोषणा की कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ेंगे। उनका ये एलान करोड़ो दिलो को धक्का देने वाला था क्योंकि कोहली को हर कोई कप्तान के रूप में देखना चाहता है । कई दिनों से चल रहे संशय पर विराम लगाते हुए कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। कोहली ने बताया कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 के कप्तानी पद को छोड़ देंगे।

ट्वीट के जरिए उन्होंने इस यात्रा के दौरान उनका साथ देने के लिए सभी का धन्यवाद दिया। कोहली ने बताया कि उन्होंने यह फैसला अपने वर्कलोड को मैनेज करने के लिए लिया है। उनका वर्कलोड बढ़ गया था ।

Keep Reading Show less

मंगल ग्रह की सतह (Wikimedia Commons)

मंगल ग्रह पर घर बनाने का सपना हकीकत में बदल सकता हैं। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आँसुओ की मदद से कंक्रीट जैसी सामग्री बनाई है, जिसकी वजह से यह संभव हो सकता है। मंगल ग्रह पर छोटी सी निर्माण सामग्री लेकर जाना भी काफी महंगा साबित हो सकता है। इसलिए उन संसाधनों का उपयोग करना होगा जो कि साइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के अध्ययन में यह पता लगा है कि मानव रक्त से एक प्रोटीन, मूत्र, पसीने या आँसू से एक यौगिक के साथ संयुक्त, नकली चंद्रमा या मंगल की मिट्टी को एक साथ चिपका सकता है ताकि साधारण कंक्रीट की तुलना में मजबूत सामग्री का उत्पादन किया जा सके, जो अतिरिक्त-स्थलीय वातावरण में निर्माण कार्य के लिए पूरी तरह से अनुकूल हो।

Keep reading... Show less