Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ज़रूर पढ़ें

चिड़ियाघर में जानवरों के बदलते व्यवहार को देखते हुए सुविधाएं और बढ़ा दी गई है|

करीब एक साल से बंद दिल्ली चिड़ियाघर आम जनता के लिए 1 अप्रैल से खुलने जा रहा है। ऐसे में अब जो लोग चिड़ियाघर देखने आएंगे उन्हें जू परिसर में कई बदलाव देखने को मिलेंगे।

करीब एक साल से बंद दिल्ली (Delhi) चिड़ियाघर (Zoo) आम जनता के लिए 1 अप्रैल से खुलने जा रहा है। ऐसे में अब जो लोग चिड़ियाघर देखने आएंगे उन्हें जू परिसर में कई बदलाव देखने को मिलेंगे। जानवरों (Animals) की प्रजातियों में बढोतरी के साथ-साथ परिसर में भारी संख्या में कैमरे और जानवरों के लिए किए गए काम साफ नजर आएंगे। दरअसल कोरोना काल के दौरान जानवरों के व्यवहार में सकारात्मक बदलाव देखा गया, इसी दौरान चिड़ियाघर में कार्यरत लोगों ने जानवरों के बदलते व्यवहार को देखते हुए सुविधाएं और बढ़ा दी।


इस दौरान जानवर बेहद खुश रहने लगे है, जिससे उनके खाने की क्षमता भी बढ़ी है। इतना ही नहीं चिड़ियाघर (Zoo) परिसर को और सुंदर बनाने का प्रयास किया गया है। ताकि लोगों को प्रवेश द्वार से ही चिड़ियाघर पसंद आने लगे।

दिल्ली चिड़ियाघर के निदेशक रमेश कुमार पांडेय (Ramesh kumar pandya) ने आईएएनएस को बताया कि, मौजूदा समय में चिड़ियाघर के अंदर 88 प्रजातियां हैं, जो कि पिछले साल 83 थी। कोरोना काल के दौरान कुछ प्रजातियां बढ़ी हैं, वहीं इस साल कुल 100 प्रजातियां करने का प्रयास किया जा रहा है। सभी प्रजातियों को मिलाकर जानवरों की कुल संख्या 1200 हो गई है। वहीं मौतौं की बात करें तो पिछले साल 170 के करीब थी, लेकिन इस साल करीब 120 जताई जा रही है, जो कि काफी कम है।”

उन्होने आगे कहा, ”दिल्ली चिड़ियाघर में कुल 20 फीसदी बूढ़े जानवर हैं जिनका ध्यान ज्यादा रखना पड़ रहा है। साथ ही हमने जानवरों की नयी प्रजातियों को लाने के लिए बहुत से अन्य चिड़ियाघरों से सम्पर्क किया हुआ है। आने वाले दिनों में यहां लोगों को कई नए जानवर देखने को मिलेंगे। कोरोना काल के दौरान 400 से अधिक कैमरे लगाए गए हैं, पहले ये बस जरूरत के अनुसार ही लगे हुए थे।

दरअसल चिड़ियाघर में जो प्राजतियाँ (Species) बढाई गई है उनमें वाइल्ड बोर (जंगली सुअर), कॉम्ब डक (नक्टा), ब्लैक पार्टीज (काला तीतर), ग्रे पार्टीज (सफेद तीतर) शामिल हुए हैं। वहीं जानकारी के अनुसार अगले चरण में चिंकारा, ऑस्ट्रिच, गुर्गल बतख आदि जानवरों को शामिल करने की कवायद जारी है

लॉकडाउन के बाद जानवरों में गुस्सा कम है थोड़ा शांत रह रहे हैं| (सांकेतिक चित्र,Pixabay)

हालांकि चिड़ियाघर को कोरोना वायरस (Coronavirus) के डर के चलते मे बंद करना पड़ा था, लेकिन इसका असर जानवरों पर बेहद सकारात्मक हुआ है। लॉकडाउन के बाद जानवरों में गुस्सा कम है थोड़ा शांत रह रहे हैं जानवर ज्यादातर खेलते नजर आ रहे हैं।

जानकारी के अनुसार जानवर इतने खुश हैं कि उनके खाने की क्षमता भी बढ़ गई है। इतना ही नहीं बंदी के दौरान चिड़ियाघर परिसर में अधिकारियों ने जानवरों को जंगल जैसा एहसास देनी को कोशिश भी की है।

मांसाहारी जानवरों के बाड़ों में बड़े बड़े लकड़ी के तख्त रखे गए हैं ताकि जानवर जिस तरह अपने शरीर को जंगलों में खुजाते हैं उसी तरह बाड़ों में भी खुजा सकें।

उनके लिए लकड़ी के प्लेटफार्म तैयार किए गए हैं जिसपर जानवर सर्दियों के दौरान बैठे नजर आए। वहीं गर्मियों के दौरान ये प्लेटफार्म के नीचे बैठ सकेंगे।

यह भी पढ़ें :- जिम कार्बेट टाइगर रिजर्व में, पहली बार 50 महिलाएं नेचर गाइड|

पक्षियों को भी प्राकृतिक (Natural) एहसास देने की कोशिश की गई है जिसका असर दिख भी रहा है। चिड़ियाघर में हुए इस बदलाव के बाद जानवर व्यवस्थित नजर आते हैं।

चिड़ियाघर परिसर में वन्य जानवरों से जुड़े चित्र भी बनाए गए है, इसमें वॉल पेंटिग शामिल है तो वहीं पुराने रखे कूड़ेदानों पर भी चित्र बनाए गए हैं ताकि जब लोग घूमने आएं तो उन्हें परिसर सुंदर लगे। (आईएएनएस-SM)

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less