Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

अमेरिका में भारतीय अप्रवासियों में भाजपा सबसे लोकप्रिय पार्टी : सर्वेक्षण

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अमेरिका में भारतीय प्रवासियों के बीच सबसे लोकप्रिय भारतीय राजनीतिक पार्टी है। एक अध्ययन में इसका खुलासा हुआ है।

सर्वेक्षण में शामिल 32 फीसदी भारतीय-अमेरिकियों (Indian-Americans) ने भाजपा का नाम लिया| (Wikimedia Commons)

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) (BJP) अमेरिका में भारतीय प्रवासियों के बीच सबसे लोकप्रिय भारतीय राजनीतिक पार्टी है। एक अध्ययन में इसका खुलासा हुआ है। इनमें से अधिकतर लोगों ने सरकार की नीतियों की आलोचनाएं भी कीं, लेकिन उसके प्रति अपना मजबूत समर्थन भी दिखाया।

सर्वेक्षण में शामिल 32 फीसदी भारतीय-अमेरिकियों (Indian-Americans) ने भाजपा का नाम लिया, जबकि महज 12 फीसदी लोग कांग्रेस पार्टी के साथ खड़े नजर आए। सर्वे में शामिल 40 फीसदी लोगों का कहना था कि वे खुद को किसी भी भारतीय राजनीतिक पार्टी के करीब नहीं पाते हैं।


जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी और यूनिवर्सिटी ऑफ पेनसिल्वेनिया के सहयोग से कानेर्गी एंडोमेंट फॉर इंटरनेशनल पीस द्वारा प्रकाशित 2020 इंडियन -अमेरिकन एटिट्यूड सर्वे (आईएएएस) के अनुसार, कुल मिलाकर यदि कांग्रेस और अन्य छोटी पार्टियों के समर्थकों को आपस में जोड़ा जाए, तो भाजपा के अलावा किसी पार्टी के करीब पाए जाने वालों की संख्या 28 फीसदी ही रही।

यूगव द्वारा पिछले साल के सितंबर में 1,200 भारतीय-अमेरिकियों में इस सर्वेक्षण को अंजाम दिया गया था, जिनमें से कुछ यहां के नागरिक थे और कुछ नहीं। इस सर्वेक्षण के आधार पर प्राप्त नतीजों का विशेषज्ञों के एक समूह द्वारा विश्लेषण किया गया और बुधवार को इसे प्रकाशित किया गया।

भारतीय राजनीतिक दलों और नेताओं को अंक दिया। नतीजे में सामने आया कि मोदी को 58, भाजपा को 57| (Twitter)

अध्ययन में कहा गया कि अमेरिकी जनगणना समुदाय सर्वेक्षण के अनुसार भारतीय-अमेरिकियों की संख्या 42 लाख है।

अध्ययन में यह भी कहा गया, उनमें से 26 लाख अमेरिकी नागरिक हैं। 12 लाख अमेरिका में पैदा हुए हैं, 14 लाख लोगों ने आप्रवासन के बाद नागरिकता ली है और उनमें से 42 प्रतिशत के पास भारत की विदेशी नागरिकता भी है।

अध्ययन में कहा गया है कि तीन-चौथाई से अधिक भारतीय -अमेरिकी अपनी भारतीयता को बहुत महत्व देते हैं।

पचहत्तर प्रतिशत भारतीय-अमेरिकियों ने कहा कि वे भारत के समर्थक हैं, लेकिन भारत सरकार के प्रति उनके दृष्टिकोण में भिन्नताएं पाई गईं। जबकि 58 प्रतिशत ने कुछ हद तक सरकार की आलोचनाएं भी कीं। इस दौरान केवल 17 फीसदी लोगों ने खुद को सरकार का समर्थक बताया, जबकि 35 फीसदी लोगों ने सरकार की कुछ नीतियों की आलोचनाएं कीं और 23 फीसदी लोगों ने सरकार की अधिकतर नीतियों की आलोचनाएं कीं।

यह भी पढ़ें :- संयुक्त राष्ट्र ने भ्रष्टाचार से निपटने में मदद के लिए पहल शुरू की

सर्वेक्षण के अनुसार, 49 प्रतिशत भारतीय-अमेरिकियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रदर्शन को बेहतर माना। 35 प्रतिशत लोग मजबूती से उनके समर्थन में नजर आए, लेकिन 31 फीसदी लोगों ने उनके काम को अस्वीकार किया और 22 फीसदी लोग उनके बिल्कुल असहमत नजर आए।

सर्वेक्षण में इस बात का मूल्यांकन किया गया कि कितनी गर्मजोशी से प्रतिभागियों ने भारतीय राजनीतिक दलों और नेताओं को अंक दिया। नतीजे में सामने आया कि मोदी को 58, भाजपा को 57, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) को 46 और कांग्रेस पार्टी (Congress) को 44 और राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को सबसे कम 38 अंक मिले। (आईएएनएस-SM)

Popular

नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड संक्रमण का नही है कोई खतरा ( Pixabay )

Keep Reading Show less

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep reading... Show less