सीआरपीएफ जवानों में तनाव कम करने के लिए शुरू होंगी ‘चौपाल’

सीआरपीएफ जवानों में तनाव कम करने के लिए शुरू होंगी ‘चौपाल’
सीआरपीएफ जवानों में तनाव कम करने के लिए शुरू होंगी 'चौपाल' [Wikimedia Commons]

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने अपने जवानों की मानसिक पीड़ा को दूर करने के लिए 'चौपाल' शुरू करने का फैसला किया है। यह फैसला जवानों के बीच साथियों की हत्या और आत्महत्या की हालिया घटनाओं को देखते हुए लिया गया है।

बता दें की हाल ही में छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में अर्धसैनिक बल के एक शिविर में कांस्टेबल रितेश रंजन ने अपने सर्विस हथियार AK47 राइफल से अपने साथियों पर गोली चला दी , जिसमे चार जवानों की मौत हो गयी और तीन घायल हो गए। सीआरपीएफ के महानिदेशक कुलदीप सिंह ने घटना के जांच के आदेश दिए हैं और उपचारात्मक उपायों के साथ एक रिपोर्ट सौंपने को कहा है।

माना जा रहा है की जवानों में तनाव की वजह से यह सब घटनाएं हो रही है। जवानों के इस मानसिक तनाव को दूर करने के लिए ही चौपाल शुरू करने का फैसला लिया गया है।

सूत्रों के अनुसार, 'चौपाल' की तर्ज पर सभी बटालियनों में ग्रामीण क्षेत्रों में लोकप्रिय सभा गतिविधि का आयोजन किया जाएगा, जिसमे वरिष्ठ अधिकारी सैनिकों की कठिनाइयों और अन्य मुद्दों को जानने के लिए उनके साथ बातचीत करेंगे।

इस साल 2020 से सितंबर तक सबसे बड़े अर्धसैनिक बल में आत्महत्या के 100 से अधिक मामले सामने आए हैं [ Twitter -CRPF ]

इस साल 2020 से सितंबर तक सबसे बड़े अर्धसैनिक बल में आत्महत्या के 100 से अधिक मामले सामने आए हैं। सीआरपीएफ के सूत्रों की मानें तो जवानों को छुट्टी की नामंजूरी, पारिवारिक मुद्दे और कभी-कभी सख्त पोस्टिंग भी जवानों के मानसिक तनाव के प्रमुख कारण हैं।

सूत्रों ने कहा कि इन मुद्दों को हल करने के लिए, गृह मंत्रालय ने सभी केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि प्रत्येक कर्मियों को एक वर्ष में 100 दिन की छुट्टी अवश्य मिले।

एक अधिकारी ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सीएपीएफ को एक सॉफ्टवेयर आधारित ट्रांसफर-पोस्टिंग सिस्टम विकसित करने के लिए भी कहा ताकि सैनिकों को तीन साल की 'कठिन' पोस्टिंग के बाद शांति पोस्टिंग मिल सके, लेकिन इसे कई बलों में भी लागू किया जाना है।

यह पहली बार नहीं था कि सीआरपीएफ ने मानसिक तनाव के कारण होने वाली कठिनाइयों को जानने के लिए जवानों के साथ संवाद करने के लिए इस तरह का कार्यक्रम शुरू किया जा रहा है। उन्हें तनावमुक्त करने के लिए इसके पहले भी कई अन्य तरीके शुरू किए गए हैं।

इस साल जनवरी में, भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम), लखनऊ के विशेषज्ञों ने सीआरपीएफ कर्मियों द्वारा सामना किए जा रहे व्यावसायिक तनाव का समाधान खोजने के लिए एक अध्ययन किया था, जो आत्महत्या और परिवार सहायता प्रणाली के टूटने जैसे चरम मामलों की ओर जाता है।

सीएपीएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि नियमित योग कक्षाएं, दैनिक व्यायाम, परामर्श और अन्य उपचारात्मक उपाय प्रणाली में हैं, लेकिन बलों के मानसिक तनाव और थकान को दूर करने के लिए कुछ नया किया जाना है। (आईएएनएस)

Input: IANS; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com