Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

कोरोना ने चबाई सर्कस की रौनक

पहले देश में करीब 150-200 सर्कस हुआ करते थे, लेकिन सरकारी पाबंदियों के चलते बचे हुए सर्कस भी बंद होने के कगार पर हैं। अब सर्कस चलाने में खास आमदनी नहीं रह गई है।

सर्कस व्यवसायियों की मानें तो कोरोना महामारी के दौरान करीब 10 से 15 सर्कस कंपनी बंद हो गए हैं। (Unsplash)

By – एम.शोएब

कोरोना वायरस के मद्देनजर लागू हुए लॉकडाउन से हर किसी की जीविका पर खासा असर पड़ा। ऐसे में बच्चों और बड़ों की मुस्कुराहट बनने वाले देशभर के सर्कसों के भविष्य पर एक पूर्णविराम लगने का डर बना हुआ है।


महामारी से सर्कस के मालिक, प्रस्तुति देने वाले कलाकार और सर्कस के जानवरों के जीवन बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। हालत ये हो चुकी है कि कई सर्कस संचालकों के पास फोन में रिचार्ज कराने तक के पैसे नहीं हैं।

चहरे पर रंग-बिरंगी मुस्कान के साथ हंसाने वाला जोकर, रिंग मास्टर के साथ आग से खेलते शेर, बाघ और हाथी जैसे जानवर, मौत के कुएं में दौड़ती मोटरसाइकिल, एक छोर से दूसरे छोर पर रस्सी से लटकतीं सुंदर लड़कियां शायद अब उतना देखने को न मिले। मौजूदा हालत को नजर में रखते हुए ये कहना मुश्किल नहीं होगा कि नई पीढ़ी के लिए सर्कस अब इतिहास बनने जा रहा है।

एशियाड सर्कस के मैनेजर अनिल कुमार ने आईएएनएस को बताया, “13 मार्च से हमारा सर्कस बंद पड़ा हुआ है। कलाकर अपने घर चले गए हैं, वहीं कुछ अभी भी सर्कस कैंप में ही रह रहे हैं, लेकिन वे दहाड़ी मजदूरी कर रहे हैं। काम से वापस आने के बाद सर्कस के तंबू में ही आकर सो जाते हैं।”

यह भी पढ़ें – ‘ट्रांसपेरेंसी: पारदर्शिता’ – MX Player पर निशुल्क उपलब्ध

मल्टीमीडिया के जोर पकड़ने से सर्कसों को काफी नुकसान हुआ है। (Unsplash)

उन्होंने बताया, “हालात तो हम लोगों की पहले ही बुरी थी, लेकिन महामारी ने सब कुछ खत्म कर दिया। पहले बस हम दो वक्त की रोटी के लिए ही कमा पाते थे, लेकिन अब तो फोन में रिचार्ज कराने तक के पैसे नहीं हैं। जिसकी वजह से फोन भी बंद हो गए हैं।”

पहले देश में करीब 150-200 सर्कस हुआ करते थे, लेकिन सरकारी पाबंदियों के चलते बचे हुए सर्कस भी बंद होने के कगार पर हैं। अब सर्कस चलाने में खास आमदनी नहीं रह गई है। कुछ सर्कस महंगाई की भेंट चढ़ गए तो कुछ सरकार की ओर से लगाई गई विभिन्न पाबंदियों के चलते दम तोड़ रहे हैं।

हालांकि इन सभी सर्कसों की एक एसोसिएशन भी है जो कि दिल्ली में मौजूद है, लेकिन मेंबर्स न होने की वजह से यह एसोसिएशन भी सक्रिय नहीं है।

सर्कस व्यवसायियों की मानें तो कोरोना महामारी के दौरान करीब 10 से 15 सर्कस कंपनी बंद हो गए, वहीं बची हुई अन्य सर्कस कंपनियां भी तंगी से जूझ रही हैं। उनके मुताबिक, सर्कस का बाजार ही अब सिकुड़ गया है। अब सर्कस करना कोई फायदे का व्यापार नहीं रहा। यदि सरकार ने ध्यान न दिया तो जल्द ही सर्कस का नाम किताबों के पन्नों तक सिमट कर रह जाएगा।

हालांकि, मल्टीमीडिया के जोर पकड़ने से भी इन सर्कसों को काफी नुकसान हुआ है, क्योंकि मनोरंजन के तमाम साधन उपलब्ध होने की वजह से बच्चे और बढ़े दोनों ही फोन पर समय देने लगे हैं। इस वजह से सर्कसों को देखने के प्रति लोगों की रुचि खत्म होती नजर आ रही है। विडियो, म्यूजिक, गेम, चैटिंग आदि ने लोगों का ध्यान सर्कस से भटका दिया। बच्चे भी ऑनलाइन ही सर्कस देखने में रुचि लेते हैं।

भारत के सबसे लोकप्रिय और पुराने सर्कस में से एक रेम्बो सर्कस कोविड-19 महामारी के चलते काफी बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। इस सर्कस शो के सदस्यों को आर्थिक मदद पहुंचाने के लिए शो को डिजिटली आयोजित करना शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़ें – वर्चुअल कंसर्ट में ऐसा कुछ नहीं जो मुझे पसंद हो: रघु दीक्षित

कलाकारों की आर्थिक मदद के लिए कई जगह डिजिटल सर्कस की शुरुआत हो रही है। (Pixabay)

बरोदा निवासी राजेश शाह एक कंसल्टिंग कंपनी चलाते हैं और सर्कस कंपनियों की मदद करते हैं। उन्होंने आईएएनएस से कहा, “आज सिर्फ 10 बड़े सर्कस है। देश भर के करीब 20 बड़े सर्कसों में से फिलहाल यही 10 सर्कस बचे हुएं हैं। कोरोना की वजह से सभी कलाकार अपने अपने घर वापस चले गए हैं।”

“भविष्य में बहुत मुश्किल होगा इन कलाकारो को वापस सर्कस में बुलाना, क्योंकि ये सभी लोग बहुत मेहनती होते है और कुछ न कुछ नया ढूंढ लेंगे”

वर्ष 1920 में मुंबई से शुरू हुए दी ग्रेट बॉम्बे सर्कस ने बुलंदियों का दौर भी देखा। इसी वर्ष इसने 100 वर्ष का सफर पूरा किया है। लेकिन मौजूदा समय में उसकी हालत खराब है। इस सर्कस को दो भाई पार्टनरशिप में चलाते हैं।

यह भी पढ़ें – ओटीटी लहर दिलाती है दूरदर्शन युग की याद

इस सर्कस के मालिक संजीव ने आईएएनएस को बताया, “बीते साथ महीनों में कुछ न होने की वजह से 150 स्टाफ छोड़ कर चले गए हैं। हर दिन 1 लाख रुपये का खर्चा है। बीते 2 सालों में कई सर्कस बंद हो चुके हैं। आर्थिक स्थिति खराब होने की वजह से रिश्तेदारों से भी पैसा उधार लिया है।”

उन्होंने कहा, “इंडियन सर्कस फेडरेशन हम लोगों की एसोसिएशन है, लेकिन वो एक्टिव नहीं है, क्योंकि उसमें मेंबर नहीं हैं। भविष्य में और सर्कस भी बंद होने के कगार पर है।”

संजीव ने आगे कहा, “सरकार को हमारी इंडस्ट्री की आर्थिक मदद करनी होगी। किसी ने नहीं सोचा था कि ये बीमारी इतने लंबे वक्त तक परेशान करेगी। वहीं ऑनलाइन सर्कस दिखाना लंबे वक्त के लिए ठीक नहीं है, क्योंकि एक ऑनलाइन टिकट में एक साथ पूरा परिवार देख लेगा, जिससे भविष्य में हम लोगों की ही भारी नुकसान होगा।” (आईएएनएस)

Popular

इंडियन स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी (ISH) [IANS]

दुनिया की अग्रणी हॉस्पिटैलिटी और पाक कला शिक्षा दिग्गजों में से एक, सॉमेट एजुकेशन (Sommet Education) ने हाल ही में देश के प्रीमियम हॉस्पिटैलिटी संस्थान, इंडियन स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी (ISH) के साथ हाथ मिलाया है। इसके साथ सॉमेट एजुकेशन की अब आईएसएच (ISH) में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जो पूर्व के विशाल वैश्विक नेटवर्क में एक महत्वपूर्ण एडिशन है। रणनीतिक साझेदारी सॉमेट एजुकेशन को भारत में अपने दो प्रतिष्ठित संस्थानों को स्थापित करने की अनुमति देती है। इनमें इकोले डुकासे शामिल है, जो पाक और पेस्ट्री कला में एक विश्वव्यापी शिक्षा संदर्भ के साथ है। दूसरा लेस रोचेस है, जो दुनिया के अग्रणी हॉस्पिटैलिटी बिजनेस स्कूलों में से एक है।

इस अकादमिक गठबंधन के साथ, इकोले डुकासे का अब भारत में अपना पहला परिसर आईएसएच (ISH) में होगा, और लेस रोचेस देश में अपने स्नातक और स्नातकोत्तर आतिथ्य प्रबंधन कार्यक्रम शुरू करेगा।

Keep Reading Show less
Credit- Wikimedia Commons

भारतीय रेलवे (Wikimedia Commons)

पूर्व मध्य रेल ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के निर्देशों के बाद इसके अनुपालन में उल्लेखनीय प्रगति हासिल की है। इको स्मार्ट स्टेशन के रूप में विकसित करने के लिए पूर्व मध्य रेल के 52 चिन्हित स्टेशनों पर रेलवे बोर्ड द्वारा सुझाए गए 24 इंडिकेटर (पैरामीटर) लागू किए हैं। सभी 52 स्टेशनों ने पर्यावरण प्रबंधन के लिए एक प्रमाणन आईएसओ-14001:2015 प्राप्त किया है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा निर्धारित पूर्व मध्य रेल के 52 नामांकित स्टेशनों में से 45 का संबंधित राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोडरें के लिए सहमति-से-स्थापित (सीटीई) प्रस्तावों की ऑनलाइन प्रस्तुतियां सुनिश्चित कीं।

पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेष कुमार ने बताया कि पूर्व मध्य रेल के सभी 45 स्टेशनों के लिए स्थापना की सहमति के लिए एनओसी प्राप्त कर ली गई है और 32 स्टेशनों को कंसेंट-टू-ऑपरेट (सीटीओ) दी गई है। उन्होंने बताया कि इस प्रमाणीकरण ने पूर्व मध्य रेलवे को राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोडरें द्वारा निर्धारित पानी, वायु प्रदूषण नियंत्रण और ठोस अपशिष्ट प्रबंधन मानदंडों की आवश्यकता को सुव्यवस्थित करने में मदद की है।

Keep Reading Show less

वायरस जनित बीमारियों की विश्व स्तरीय जांच अब गोरखपुर में भी हो सकेगा। [IANS]

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में इंसेफेलाइटिस समेत अन्य वायरस जनित बीमारियों की विश्व स्तरीय जांच शुरू हो गई है। गोरखपुर (Gorakhpur) में यह इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR)की क्षेत्रीय इकाई रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर (RMRC) के जरिए संभव हुआ है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के प्रयास से शुरू इस आरएमआरसी में नौ अत्याधुनिक लैब्स बनकर तैयार हैं। बता दें कि मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) इसका उद्घाटन करेंगे।

राज्य सरकार की ओर से मिली जानकारी के अनुसार आरएमआरसी (RMRC) की इन लैब्स के जरिये न केवल बीमारियों के वायरस की पहचान होगी बल्कि बीमारी के कारण, इलाज और रोकथाम को लेकर व्यापक स्तर पर वल्र्ड क्लास अनुसंधान भी हो सकेगा। सबसे खास बात यह भी है कि अब गोरखपुर (Gorakhpur) में ही आने वाले समय में कोरोनाकाल के वर्तमान दौर की सबसे चर्चित और सबसे डिमांडिंग जीनोम सिक्वेंसिंग (Genome Sequencing) भी हो सकेगी। यह पता चल सकेगा कि कोरोना का कौन सा वेरिएंट (Covid variant) अधिक प्रभावित कर रहा है।

Narendra Modi , PM of India, ICMR मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस RMRC का उद्घाटन करेंगे। [Wikimedia Commons]

Keep reading... Show less