IEA का कहना, तेल की महंगाई विश्व अर्थव्यवस्था को कर सकती है मंदा

अगले साल विश्व स्तर पर तेल की मांग औसतन 101.3 मिलियन बैरल प्रतिदिन रहने का अनुमान है।
IEA का कहना, तेल की महंगाई विश्व अर्थव्यवस्था को कर सकती है मंदा
IEA का कहना, तेल की महंगाई विश्व अर्थव्यवस्था को कर सकती है मंदा IANS

अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (International Energy Agency) ने चेतावनी दी है कि ओपेक प्लस (OPEC Plus) द्वारा पिछले सप्ताह तेल उत्पादन में महामारी की शुरुआत के बाद से सबसे बड़ी मात्रा में कटौती करने के फैसले के बाद पश्चिमी सरकारें गुस्से में हैं और कार्टेल की कार्रवाई वैश्विक अर्थव्यवस्था को किनारे कर सकती है। सीएनएन के मुताबिक, पेरिस स्थित एजेंसी ने गुरुवार को अपनी मासिक तेल बाजार रिपोर्ट में कहा, "असंबद्ध मुद्रास्फीति के दबाव और ब्याज दरों में बढ़ोतरी के कारण उच्च तेल की कीमतें वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण बिंदु साबित हो सकती हैं। वैश्विक अर्थव्यवस्था पहले से ही मंदी के कगार पर है।"

आईईए (IEA) ने प्रमुख संस्थानों से वैश्विक विकास की उम्मीदों में और गिरावट का हवाला देते हुए अगले साल विश्व तेल मांग वृद्धि के अपने पूवार्नुमान को 20 प्रतिशत से अधिक घटा दिया।

ओपेक प्लस तेल आपूर्ति में भारी कटौती से दुनियाभर में ऊर्जा सुरक्षा जोखिम बढ़ गया है: IEA
ओपेक प्लस तेल आपूर्ति में भारी कटौती से दुनियाभर में ऊर्जा सुरक्षा जोखिम बढ़ गया है: IEAसांकेतिक (Wikimedia Commons)



अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ने इस सप्ताह कहा कि कई लोग 2023 को मंदी वाले साल की तरह महसूस करेंगे, क्योंकि इसने अपने सकल घरेलू उत्पाद में वृद्धि के अनुमान को 3.2 प्रतिशत की पूर्व भविष्यवाणी से घटाकर 2.7 प्रतिशत कर दिया।

मांग में बहुत कमजोर वृद्धि के बावजूद सऊदी अरब और अन्य प्रमुख तेल उत्पादकों द्वारा आपूर्ति में कटौती से वैश्विक तेल शेयरों में तेजी से कमी आने और कीमतों में वृद्धि होने की उम्मीद है।

आईईए ने कहा, "ओपेक प्लस तेल आपूर्ति में भारी कटौती से दुनियाभर में ऊर्जा सुरक्षा जोखिम बढ़ गया है।"

वैश्विक तेल मांग के लगभग 2 प्रतिशत के बराबर, तेल उत्पादन में 2 मिलियन बैरल प्रतिदिन की कटौती करने के कार्टेल के निर्णय ने सऊदी अरब को व्हाइट हाउस के साथ टकराव के रास्ते पर खड़ा कर दिया है, जिसने राज्य पर ओपेक प्लस सदस्य रूस के साथ गठबंधन करने का आरोप लगाया है।

महामारी के शुरुआती दिनों में ब्रेंट क्रूड को 20 डॉलर प्रति बैरल तक कम कर दिया - जबकि अमेरिकी तेल की कीमतें संक्षेप में नकारात्मक हो गईं, जिससे तेल और गैस उद्योग दिवालिया होने के स्थिति में पहुंच गया।

IEA का कहना, तेल की महंगाई विश्व अर्थव्यवस्था को कर सकती है मंदा
भारत में होगा तेल का उत्‍पादन, अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धी में 10 ब्लॉक की पेशकश



आईईए ने कहा, "इससे उन सुझावों पर संदेह होता है कि ऊंची कीमतें अनिवार्य रूप से अतिरिक्त आपूर्ति के जरिए बाजार को संतुलित करेंगी।" आपूर्ति वृद्धि 2023 में स्पष्ट रूप से धीमी रहने की संभावना है, हालांकि अभी भी एक दिन में 100.6 मिलियन बैरल के रिकॉर्ड तक पहुंचती है।

अगले साल विश्व स्तर पर तेल की मांग औसतन 101.3 मिलियन बैरल प्रतिदिन रहने का अनुमान है।

आईएएनएस/PS

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com