हेलीकॉप्टर दुर्घटना में जीवित बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का बेंगलुरु में होगा इलाज

0
16
ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह, हेलीकॉप्टर दुर्घटना में इकलौते सर्वाइवर। [IANS]

हेलीकॉप्टर दुर्घटना ( IAF Helicopter crash) में जीवित बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह (Varun Singh) को गुरुवार को बेंगलुरु के एयरफोर्स कमांड अस्पताल ले जाने के लिए सुलूर वायुसेना स्टेशन लाया गया। तमिलनाडु के कुन्नूर के पास बुधवार को वायुसेना का एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, जिसमें चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और अन्य 11 लोगों की मौत हो गई थी। दुर्घटना में ग्रुप कैप्टन अकेले जीवित व्यक्ति हैं, जबकि अन्य सभी की मौत हो चुकी है।

80 फीसदी जल चुके वरुण सिंह की शारीरिक स्थिति पर डॉक्टर चुप्पी साधे हुए हैं।

ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह (Varun Singh) को बेंगलुरु एयर कमांड अस्पताल में शिफ्ट करने के लिए सुलूर वायुसेना स्टेशन पर एक विशेष विमान की व्यवस्था की गई है। बेंगलुरु अस्पताल के अधिकारियों ने आईएएनएस को बताया कि घायल अधिकारी के शाम 5.30 बजे तक अस्पताल पहुंचने की उम्मीद है।

बेंगलुरु में वायु सेना के कमांड अस्पताल में उच्च स्तरीय सुविधाएं हैं और गंभीर रोगियों के इलाज के लिए विशेषज्ञ डॉक्टर हैं।

IAF Helicopter crash, Tamil Nadu, CDS General Bipin Rawat

तमिलनाडु के कुन्नूर के पास बुधवार को IAF हेलीकॉप्टर क्रैश हुआ था। [IANS]

इस बीच, जनरल बिपिन रावत (Bipin Rawat), उनकी पत्नी मधुलिका रावत (Madhulika Rawat) और 11 अन्य अधिकारियों के पार्थिव शरीर को नई दिल्ली ले जाने के लिए सुलूर वायुसेना स्टेशन (Sulur Air Force Station) लाया गया, जहां भारी भीड़ जमा हो गई। इस दौरान कई स्थानीय महिलाएं भावुक नजर आईं और उन्हें ‘वंदे मातरम’, ‘भारत माता की जय’ और ‘जय हिंद’ के नारे लगाते देखा गया।

यह भी पढ़ें : जानें कौन थे जनरल बिपिन लक्ष्मण सिंह रावत

सीडीएस (CDS) और अन्य कर्मियों को अंतिम सम्मान देने के लिए सुलूर वायुसेना स्टेशन पहुंचे ऊटी के एक सेवानिवृत्त वायु सेना के जवान सुरुलीनाथन ने आईएएनएस को बताया, “इसे भारतीय सशस्त्र बलों के इतिहास में एक काला दिन माना जा सकता है। एक सेवानिवृत्त वायु सेना कर्मी के तौर पर, मुझे पता है कि वायु सेना का पायलट जिसने हेलीकॉप्टर की कमान संभाली हुई थी, वह एक बहुत ही अनुभवी पायलट था और जांच में बाहरी हमले की थ्योरी सहित सभी कोणों को शामिल किया जाना चाहिए। हमें किसी भी चीज से इनकार नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसे हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए।” (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here