Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

क्या NCERT बच्चों को गलत पाठ पढ़ा रहा है?

देश के अधिकांश विद्यालयों में एनसीईआरटी की पुस्तकों से बच्चों को शिक्षा दी जा रही है। किन्तु एनसीईआरटी के कई पाठ्यक्रमों पर सवालिया-निशान खड़े हो रहे हैं।

(NewsGram Hindi)

देश के अधिकांश विद्यालयों में एनसीईआरटी की पुस्तकों से बच्चों को शिक्षा दी जा रही है। किन्तु एनसीईआरटी के कई पाठ्यक्रमों पर सवालिया-निशान खड़े हो रहे हैं। यह मामला नया नहीं है जब एनसीईआरटी की पुस्तकों में भारतीय इतिहास पर आपत्ति जताई गई हो। यह मामला इसलिए भी संवेदनशील है क्योंकि उन इतिहास की पुस्तकों में भारतीय राजाओं को दरकिनार कर मुगलिया बखान किया गया है और देश के बच्चों को अपने स्वर्णिम इतिहास से वंचित रखा गया है।

यह इस वजह से सवाल के कटघरे में है क्योंकि छत्रपति शिवाजी महाराज और महाराणा प्रताप का इतिहास एनसीईआरटी की पुस्तकों में चार पंक्तियों में समेट दिया गया और मुगलों की पुश्तों का बखान सम्पूर्ण पाठ के रूप में किया गया है। साथ ही पुस्तक में बाबर से लेकर औरंगजेब की बड़ी तस्वीरें मौजूद हैं किन्तु भारत के प्रतापी राजाओं का एक चित्र भी देखने को नहीं मिलता है।


छत्रपति शिवाजी महाराज।(Wikimedia Commons)

बच्चों की पुस्तकों में यह तक दिया गया है कि मुगलों द्वारा हिन्दू मंदिर तोड़ने के पीछे क्या कारण था, और इसके साथ ही मुगलों द्वारा हिन्दुओं पर किए गए अत्याचार को छुपाने की कोशिश की जा रही है। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि भारतीय हिन्दू राजाओं के इतिहास को एनसीईआरटी में कुछ पन्नों में समेट दिया गया किन्तु मुगलिया बखान को 70 से अधिक पन्नों में बताया गया है। साथ ही जब छत्रपति शिवाजी महाराज ने मुगलों के साथ लड़ाई लड़ी और एक अलग ‘हिंदवी स्वराज्य’ की स्थापना की उसे इस पाठ्यपुस्तक में सिर्फ ‘स्थानीय सरकार’ के रूप में लिखा गया।

एनसीईआरटी के पुस्तक में ही ‘दलित’ शब्द का प्रयोग कई बार किया गया है, जब की केंद्रीय अनुसूचित जाति और जनजाति आयोग ने इसके प्रयोग पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। ऐसी ही कई उदाहरण हैं जिससे यह सपष्ट होता है कि, कैसे एनसीईआरटी बच्चों को गलत इतिहास पढ़ा रहा है। जैसे, पुस्तक में उल्लेख किया गया है कि अन्य धर्मों (मुसलमानों और ईसाइयों) का पालन करने वाले लोगों ने हिंदुओं के कारण स्वतंत्रता संग्राम में भाग नहीं लिया, जो कि सरासर गलत है। साथ ही वर्ष 2017 में गुजरात में 2002 में हुए दंगों को ‘गुजरात में मुस्लिम विरोधी दंगों’ वाले शीर्षक को हटाकर ‘गुजरात दंगा’ रखा गया। इस वजह से ही एनसीईआरटी के इतिहासकारों की मंशा पर सवाल उठते रहे हैं।

यह भी पढ़ें: इस्लाम के जन्मस्थान से गूंजेगी राम नाम के सुर

एक रिपोर्ट के अनुसार कक्षा छठीं से लेकर सातवीं कक्षा तक कुल 582 पन्नों में से केवल 50 पन्नों में ही हिन्दुओं के विषय में बताया गया है और बाकि सब में मुगल या अंग्रेज। देश में समय-समय पर इस विषय पर आवाज उठाई गई है। किन्तु संज्ञान कुछ पर ही लिया गया। अब जरूरत यह है कि भारतीय इतिहास को बच्चों के समक्ष विस्तारपूर्वक रखा जाए अन्यथा नींव कमजोर रहेगी तो देश के खिलाफ और भी टूलकिट बनना तय है।

Popular

कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। (IANS)

वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बड़े खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को घोषणा की कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ेंगे। उनका ये एलान करोड़ो दिलो को धक्का देने वाला था क्योंकि कोहली को हर कोई कप्तान के रूप में देखना चाहता है । कई दिनों से चल रहे संशय पर विराम लगाते हुए कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। कोहली ने बताया कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 के कप्तानी पद को छोड़ देंगे।

ट्वीट के जरिए उन्होंने इस यात्रा के दौरान उनका साथ देने के लिए सभी का धन्यवाद दिया। कोहली ने बताया कि उन्होंने यह फैसला अपने वर्कलोड को मैनेज करने के लिए लिया है। उनका वर्कलोड बढ़ गया था ।

Keep Reading Show less

मंगल ग्रह की सतह (Wikimedia Commons)

मंगल ग्रह पर घर बनाने का सपना हकीकत में बदल सकता हैं। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आँसुओ की मदद से कंक्रीट जैसी सामग्री बनाई है, जिसकी वजह से यह संभव हो सकता है। मंगल ग्रह पर छोटी सी निर्माण सामग्री लेकर जाना भी काफी महंगा साबित हो सकता है। इसलिए उन संसाधनों का उपयोग करना होगा जो कि साइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के अध्ययन में यह पता लगा है कि मानव रक्त से एक प्रोटीन, मूत्र, पसीने या आँसू से एक यौगिक के साथ संयुक्त, नकली चंद्रमा या मंगल की मिट्टी को एक साथ चिपका सकता है ताकि साधारण कंक्रीट की तुलना में मजबूत सामग्री का उत्पादन किया जा सके, जो अतिरिक्त-स्थलीय वातावरण में निर्माण कार्य के लिए पूरी तरह से अनुकूल हो।

Keep Reading Show less

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (instagram , virat kohali)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का लोहा इन दिनों हर जगह माना जा रहा है । इसी क्रम में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री हाल के दिनों में टेस्ट क्रिकेट के महान समर्थक और प्रमोटर हैं। साथ ही उन्होंने कोहली की तारीफ भी की खेल को प्राथमिकता देते हुए वो वास्तव में टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहते हैं।"
ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर ने इस बात पर अपनी चिंता व्यक्त की ,कि भविष्य में टेस्ट क्रिकेट कब तक प्राथमिकता में रहेगा। उन्होंने कहा, "चिंता यह है कि यह कब तक जारी रहेगा। उनका यह भी कहना है किइसमें कोई संदेह नहीं है कि जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं और नई पीढ़ी आती है, मेरे जैसे लोगों को जिस तरह टेस्ट क्रिकेट से प्यार है यह कम हो सकता है और यह हमारी पुरानी पीढ़ी के लिए चिंता का विषय है।"

\u0930\u0935\u093f \u0936\u093e\u0938\u094d\u0924\u094d\u0930\u0940 भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और वर्तमान कोच रवि शास्त्री (wikimedia commons)

Keep reading... Show less