बर्ड फ्लू बन सकता है नई महामारी, जानिए इंसानों में कैसे फैलता है ये घातक बीमारी

हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार, बर्ड फ्लू के इंसानों में संक्रमण के जो मामले आए हैं, उनमें से ज्यादातर H5N1 वैरिएंट के हैं। यह वैरिएंट इतना घातक है कि इससे संक्रमित 10 में से 6 लोगों की जान चली जाती है।
Bird Flu : बर्ड फ्लू, इन्फ्लूएंजा वायरस से होने वाला संक्रमण है, इसका दूसरा नाम एवियन फ्लू भी है। अक्सर पक्षियों में फैलता है, खासकर मुर्गे-मुर्गियों में। (Wikimedia Commons)
Bird Flu : बर्ड फ्लू, इन्फ्लूएंजा वायरस से होने वाला संक्रमण है, इसका दूसरा नाम एवियन फ्लू भी है। अक्सर पक्षियों में फैलता है, खासकर मुर्गे-मुर्गियों में। (Wikimedia Commons)

Bird Flu : भारत में एक नए फ्लू का आगमन हो गया है, जिसका नाम बर्ड फ्लू है। ये फ्लू काफी तेजी से अपने पैर पसार रहा है। आपको बता दें पश्चिम बंगाल में 4 साल का बच्चा बर्ड फ्लू से संक्रमित पाया गया है। आमतौर पर बर्ड फ्लू पक्षियों में होता है, लेकिन जिस प्रकार से इंसान इसकी चपेट में आते जा रहे हैं, इस स्थिति को देखते हुए हेल्थ एक्सपर्ट्स की चिंता और भी बढ़ गई है। कुछ समय पहले ही मेक्सिको में बर्ड फ्लू के कारण एक व्यक्ति की मौत हुई थी। अब तो वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने भी इस बीमारी को लेकर अलर्ट जारी कर दिया है। आइए जानते हैं क्या है बर्ड फ्लू? और ये इतना खतरनाक क्यों है?

बर्ड फ्लू, इन्फ्लूएंजा वायरस से होने वाला संक्रमण है, इसका दूसरा नाम एवियन फ्लू भी है। अक्सर बर्ड पक्षियों में फैलता है, खासकर मुर्गे-मुर्गियों में। बहुत कम केस में यह इंसानों को भी संक्रमित कर सकता है। बर्ड फ्लू के कई वैरिएंट हैं। लेकिन इसके केवल 4 वैरिएंट - H5N1, H7N9, H5N6, H5N8 ही इंसानों के लिए खतरनाक है, क्योंकि ये इंसानों को भी संक्रमित कर सकते हैं। इस बीमारी से कई लोगों की मौत भी हो चुकी है।

कैसे फैलता है इंसानों में?

हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार, बर्ड फ्लू के इंसानों में संक्रमण के जो मामले आए हैं, उनमें से ज्यादातर H5N1 वैरिएंट के हैं। यह वैरिएंट इतना घातक है कि इससे संक्रमित 10 में से 6 लोगों की जान चली जाती है। खास तौर पर 4 ऐसे कारण हैं, जिससे इंसानों में बर्ड फ्लू फैलता है। पहला- संक्रमित पक्षियों को छूने से, दूसरा- संक्रमित पक्षियों के मल या बिस्तर को छूने से, तीसरा- संक्रमित चिकन को खाने से और चौथा- जहां मुर्गे-मुर्गी या पक्षी बिकते हैं, वहां से भी संक्रमण हो सकता है।

दुनिया के कई देशों में बर्ड फ्लू बहुत तेजी से फैल रहा है। कोरोना की तुलना में बर्ड फ्लू की मृत्यु दर बहुत ज्यादा है। (Wikimedia Commons)
दुनिया के कई देशों में बर्ड फ्लू बहुत तेजी से फैल रहा है। कोरोना की तुलना में बर्ड फ्लू की मृत्यु दर बहुत ज्यादा है। (Wikimedia Commons)

बर्ड फ्लू के लक्षण?

इस फ्लू के कारण पक्षियों में सांस लेने में कठिनाई, छींक आना, प्रोडक्टिविटी में कमी होती है, वहीं इंसानों में सर्दी, बुखार, खांसी, गले में खराश, मांसपेशियों में दर्द, डायरिया और सांस लेने में कठिनाई होती है। कई गंभीर मामलों में निमोनिया और हृदय की धड़कन भी बढ़ सकती है।

तेजी से फैल रहा है ये फ्लू

दुनिया के कई देशों में बर्ड फ्लू बहुत तेजी से फैल रहा है। अमेरिका में इस फ्लू के कारण 9 करोड़ से ज्यादा मुर्गियों में बीमारी फैल चुकी है। अब इससे गायें भी संक्रमित हो रही हैं। सीडीसी के डायरेक्टर रॉबर्ट रेडफील्ड ने एक टीवी इंटरव्यू में कहा कि कोरोना की तुलना में बर्ड फ्लू की मृत्यु दर बहुत ज्यादा है। कोरोना में मृत्यु दर 0.6% थी, जबकि बर्ड फ्लू में 25 से 50% तक है।

Related Stories

No stories found.
logo
hindi.newsgram.com