मानव अंगों के परिवहन के लिए ड्रोन का उपयोग कर सकता है चेन्नई अस्पताल

गडकरी ने कहा कि राजमार्गों के निर्माण से चेन्नई-बेंगलुरु जैसे विभिन्न शहरों के बीच यात्रा का समय कम हो रहा है, जो अंग परिवहन के लिए मददगार होगा।
मानव अंगों के परिवहन के लिए ड्रोन का उपयोग कर सकता है चेन्नई अस्पताल
मानव अंगों के परिवहन के लिए ड्रोन का उपयोग कर सकता है चेन्नई अस्पताल IANS

चेन्नई स्थित निजी अस्पताल एमजीएम हेल्थकेयर प्रत्यारोपण के लिए अंगों के परिवहन के मद्देनजर ड्रोन का उपयोग करने के तरीके तलाश रहा है। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी एमजीएम हेल्थकेयर में 500 से अधिक सफल हृदय और फेफड़ों के प्रत्यारोपण ऑपरेशन को चिह्न्ति करने के लिए आयोजित एक समारोह के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बोल रहे थे।

गडकरी ने कहा कि राजमार्गों के निर्माण से चेन्नई-बेंगलुरु जैसे विभिन्न शहरों के बीच यात्रा का समय कम हो रहा है, जो अंग परिवहन के लिए मददगार होगा।

इस बीच, एमजीएम हेल्थकेयर के निदेशक प्रशांत राजगोपालन ने कहा कि अस्पताल, चेन्नई हवाई अड्डे से अस्पताल तक अंगों को ले जाने के लिए ड्रोन का उपयोग करने पर विचार कर रहा है।

उनके अनुसार, वर्तमान में ट्रांसप्लांट ऑपरेशन के लिए अंगों को शहर की पुलिस की मदद से ग्रीन कॉरिडोर बनाकर चेन्नई एयरपोर्ट से सड़क मार्ग से पहुंचाया जाता है।

उन्होंने कहा कि इससे जनता को कुछ असुविधा होती है और इसलिए अस्पताल ड्रोन को दूसरे शहरों से मानव अंगों को ले जाने के विकल्प के रूप में देख रहा है।

मानव अंगों के परिवहन के लिए ड्रोन का उपयोग कर सकता है चेन्नई अस्पताल
BHU ने खोज निकाला पित्त की थैली के कैंसर के लिए ज़िम्मेदार म्यूटेशन

अस्पताल के अधिकारियों ने कहा कि कुछ विदेशी देशों में प्रत्यारोपण ऑपरेशन के लिए मानव अंगों का परिवहन प्रचलन में है और भारत में सरकारी अधिकारियों से अनुमति लेनी पड़ती है।

उन्होंने यह भी कहा कि प्रत्यारोपण के लिए मानव अंग वाले बॉक्स का वजन लगभग नौ किलोग्राम होगा और ड्रोन उन्हें आसानी से उठा सकते हैं।

समारोह में बोलते हुए तमिलनाडु के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री सुब्रमण्यम ने कहा कि राज्य अंग प्रत्यारोपण में अग्रणी है।

सुब्रमण्यम ने यह भी कहा कि राज्य सरकार अपने सभी अस्पतालों में अंग प्रत्यारोपण सर्जरी करने के लिए आवश्यक सुविधाएं बनाने के लिए कदम उठाएगी।

(आईएएनएस/PS)

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com