दुनिया का सबसे अमीर हिंदू मंदिर, श्री वेंकटेश्वर मंदिर

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) की संपत्ति में भक्तों द्वारा प्रसाद के रूप में दिए गए भूमि पार्सल, भवन, नकद और सोने की जमा राशि शामिल है।
तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम
तिरुमाला तिरुपति देवस्थानमIANS

दुनिया के सबसे अमीर हिंदू मंदिर (Hindu temple) तिरुमाला में श्री वेंकटेश्वर मंदिर के पास 2.5 लाख करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति है, जिसमें 10.25 टन सोना भी शामिल है। तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) की संपत्ति में भक्तों द्वारा प्रसाद के रूप में दिए गए भूमि पार्सल, भवन, नकद और सोने की जमा राशि शामिल है। टीटीडी, प्राचीन पहाड़ी मंदिर के मामलों को नियंत्रित करती है। मंदिर निकाय के पास देश के विभिन्न हिस्सों में जमीन और इमारतें हैं।

अधिकारियों के अनुसार, भक्तों द्वारा दिए जाने वाले नकद और सोने (gold) के प्रसाद में वृद्धि के कारण टीटीडी राजस्व बढ़ रहा है।

ब्याज दरों में वृद्धि के कारण बैंकों (banks) में सावधि जमा पर मंदिर निकाय की संपत्ति में बढ़ोतरी हो रही है। टीटीडी ने एक श्वेत पत्र में सावधि जमा और सोने के जमा सहित अपनी संपत्ति की सूची घोषित की।

टीटीडी ट्रस्ट बोर्ड ने सोशल मीडिया (social media) रिपोर्टों का खंडन किया और कहा कि उसने आंध्र प्रदेश सरकार और भारत सरकार के बॉन्ड (bond) की प्रतिभूतियों में अधिशेष धन का निवेश करने का निर्णय लिया है। ट्रस्ट का कहना है कि अधिशेष राशि अनुसूचित बैंकों में निवेश की जाती है।

श्री वेंकटेश्वर मंदिर
श्री वेंकटेश्वर मंदिरWikimedia

बोर्ड ने यह भी दावा किया कि उसने 2019 से अपने निवेश दिशानिर्देशों को मजबूत किया है। बैंकों में मंदिर का सोना 2019 के 7.3 टन से बढ़कर 2022 में 10.25 टन हो गया है। भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India) और इंडियन ओवरसीज बैंक (Indian Overseas Bank) में जमा सोने पर भी अच्छी कमाई हो रही है। इसमें एसबीआई के पास 9.8 टन सोना जमा है और शेष इंडियन ओवरसीज बैंक के पास है।

टीटीडी ने बताया, टीटीडी दिशानिर्देशों के अनुसार, स्वर्ण जमा के लिए उच्चतम क्रेडिट रेटिंग (credit rating) वाले अनुसूचित बैंकों से कोटेशन आमंत्रित किए गए थे और आरबीआई (RBI) के पीसीए (शीघ्र सुधारात्मक कार्रवाई प्रक्रिया) का सामना करने वाले बैंकों को आमंत्रित नहीं किया गया था। 30 सितंबर, 2022 तक, टीटीडी के पास 24 सार्वजनिक क्षेत्र और निजी बैंकों के पास 15,938 करोड़ रुपये से अधिक की सावधि जमा थी। सावधि जमा में तीन साल में 2,913 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई।

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम
उज्जैन में कालीदास समारोह का शुभारंभ

टीटीडी के पास देशभर में 7,000 एकड़ से अधिक की 900 से अधिक अचल संपत्तियां हैं। इनमें आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh), तेलंगाना (Telangana), तमिलनाडु ((Tamil Nadu), ओडिशा (Odisha), हरियाणा (Haryana), महाराष्ट्र (Maharashtra) और दिल्ली (Delhi) में भी बड़ी संख्या में मंदिर हैं।

2022-23 के लिए टीटीडी ने 3,100 करोड़ रुपये का बजट पेश किया था। इसने बैंकों में नकद जमा से ब्याज के रूप में आय के रूप में 668 करोड़ रुपये से अधिक का अनुमान लगाया। मंदिर निकाय को भी अकेले हुंडी में नकद प्रसाद के रूप में 1,000 करोड़ रुपये की आय की उम्मीद है।

आईएएनएस/RS

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com