Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

ओटीटी लहर दिलाती है दूरदर्शन युग की याद

साल 1980 के दशक में दूरदर्शन कई कलाकारों को सुर्खियों में लाया था। उसी प्रकार इन दिनों ओटीटी दुनिया में कुछ ऐसा ही हो रहा है। कलाकारों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलने लगा है।

ओटीटी प्लेटफार्म ने ग्लैमर से परे कहानियों को जगह देकर कलाकारों के लिए सुनहरे युग की शरुआत की है। (Unsplash)

By – सुगंधा रावल

ग्लैमर से परे कंटेंट, नौटंकियों से परे किरदार और माध्यम के तौर पर एक पूरी नई स्टार प्रणाली, ये कुछ ऐसे लक्षण हैं, जो पिछले कुछ महीनों में चल रहे ओटीटी लहर को परिभाषित करते हैं।


हालांकि उद्योग पर नजर रखने वाले और व्यापार विशेषज्ञों का कहना है कि ये बातें दूरदर्शन युग की याद दिलाते हैं। वह एक ऐसा दौर था जब भारत में छोटे पर्दे ने वैश्विक अपील के साथ कहानियों का मंथन किया और कई प्रतिभाशाली कलाकारों के लिए नौकरियों के अवसर पैदा कीं। इसके साथ ही उन्हें घर-घर पहचान और नाम भी मिली। ठीक उसी तरह आज ओटीटी प्लेटफार्मों पर हो रहा है।

साल 1980 के दशक में टेलीविजन के सुनहरे युग की पटकथाओं के साथ दूरदर्शन कई कलाकारों को सुर्खियों में लाया, टेलीविजन में अभिनय के अवसरों के द्वार खोले। ओटीटी वही कर रहा है, लेकिन एक बड़े और अधिक संगठित तरीके से।

व्यापार विश्लेषक राजेश थडानी ने आईएएनएस को बताया, “ओटीटी दूरदर्शन के स्वर्ण युग का प्रतिबिंब है। यह लोगों को वह करने की अधिक गुंजाइश देता है, जो वे चाहते हैं। इसने उन कलाकारों को एक मंच दिया है जो फिल्मों में नहीं आ सके। इसने करियर को पुनर्जीवित किया है और सबके लिए आगे आने की संभावनाएं पैदा की हैं।”

यह भी पढ़ें – एंटरटेनमेंट का नया दौर आ चुका है, नए ट्रेंड आ रहे हैं

इन दिनों ओटीटी दुनिया में कुछ ऐसा ही हो रहा है, जहां डिजिटल प्लेटफॉर्म उन कलाकारों के लिए अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए जगह दे रहा है, जिन्हें शायद ही फिल्मों में ऐसा करने के लिए ब्रेक मिला होगा।

विभिन्न क्षेत्रों के कलाकारों को ओटीटी शो और फिल्मों से लोकप्रियता मिली है। नीरज काबी, नमित दास, रसिका दुग्गल, पंकज त्रिपाठी, सुमित व्यास, मानवी गगरू, श्रीया पिलगांवकर, अमित साध, श्वेता त्रिपाठी, कुबेर सेत, अमोल पाराशर, अंगद बेदी, विजय वर्मा, प्रियांशु पेनयुली, बानी जे, सयानी गुप्ता और निधि सिंह उन नामों की सूची में सबसे आगे हैं।

इस बारे में नमित ने कहा, “मैंने अक्सर इस बारे में सोचा है कि 1980 के दशक में टेलीविजन बूम के आने और ‘हम लोग’ और अन्य शो के दिनों में क्या हुआ होगा। मैं उस युग और 2020 तक ओटीटी प्लेटफार्मों के बीच समानताएं देखता हूं।” (आईएएनएस)

Popular

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस तीन दशक से सत्ता से बाहर है। (Wikimedia Commons)

उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) में कांग्रेस(Congress) को अरसा हो गया है सत्ता में आए हुए। लगभग 3 दशक हो गए हैं और अब तक कांग्रेस सत्ता से बाहर है। इसके कई कारण है पर सबसे बड़ा कारण है राज्य में कांग्रेस का गठबंधनों पर निर्भर रहना।

कांग्रेस का गठबंधन(Alliance) का खेल साल 1989 ने शुरू हुआ जब राज्य में वो महज़ 94 सीटें जीत पाई और उसने तुरंत मुलायम सिंह यादव(Mulayam Singh Yadav) के नेतृत्व वाली जनता दल सरकार को समर्थन दे दिया था।

Keep Reading Show less

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep reading... Show less