Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

पढ़िए कैसे एक सेना के जवान ने ब्लड कैंसर के मरीज़ की बचाई जान

संदीपन महाराष्ट्र के लातूर जिले से ताल्लुक रखते हैं। कोरोनावायरस महामारी के दौरान जब सभी खुद के करीबियों के लिए फिक्रमंद नजर आए, उस वक्त संदीपन ने ब्लड स्टेम सेल डोनेशन को अपना कर्तव्य माना।

ब्लड कैंसर से पीड़ित रोगियों के लिए प्रायः ब्लड स्टेम सेल प्रत्यारोपण ही एकमात्र इलाज होता है। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

साल 2019 में संदीपन नामक एक जवान ने डीकेएमएस बीएमएसटी फाउंडेशन के साथ मिलकर खुद को एक ब्लड स्टेम डोनर के रूप में पंजीकृत किया है। यह एक गैर लाभकारी संगठन है, जो ब्लड कैंसर के मरीजों के लिए काम करता है। अपने सैन्य प्रशिक्षण के दौरान फाउंडेशन द्वारा चलाए जा रहे एक अभियान में उन्होंने खुद को पंजीकृत कराया था और साल 2020 में एक मरीज के मैच के रूप में उभरकर सामने आए।

ब्लड कैंसर या थैलेसेमिया और अप्लास्टिक एनीमिया जैसे खून से संबंधित अन्य विकारों से पीड़ित रोगियों के लिए प्रायः ब्लड स्टेम सेल प्रत्यारोपण ही एकमात्र इलाज होता है। हालांकि स्टेम सेल ट्रांसप्लांट के मात्र 30 फीसदी मरीज ही इसका उपचार करा पाने में सक्षम रहते हैं क्योंकि ट्रीटमेंट केवल सिबलिंग मैच के आधार पर ही होता है। बाकी के 70 फीसदी मरीज असंबंधित डोनर को ढूंढ़ने पर निर्भर रहते हैं। ऐसे में यह लोगों के लिए काफी जरूरी हो जाता है कि वे स्टेम सेल डोनर्स के रूप में खुद को पंजीकृत करें। जैसा कि संदीपन ने किया।


संदीपन महाराष्ट्र के लातूर जिले से ताल्लुक रखते हैं। कोरोनावायरस महामारी के दौरान जब सभी खुद के करीबियों के लिए फिक्रमंद नजर आए, उस वक्त संदीप ने ब्लड स्टेम सेल डोनेशन को अपना कर्तव्य माना। इसके लिए वह लातूर से बैंगलोर आए।

यह भी पढ़ें – रक्तदान से जुड़े मुस्लिम भ्रम को दूर करने में जुटे मुस्लिम युवा

डीकेएमएस-बीएमएसटी के सीईओ पैट्रिक पॉल ने कहा, “यात्रा पर प्रतिबंध लगे रहने के चलते सबसे बड़ी चुनौती डोनर और उनके परिवार को उनके होमटाउन से बैंगलुरू तक लाना था। संदीपन भारत के एक सुदूरवर्ती इलाके में तैनात हैं इसलिए हमारे लिए यह जरूरी था कि हम उनके ब्लड स्टेम सेल्स डोनेट के लिए भारतीय सेना से सभी आवश्यक अनुमति प्रदान करें।”

अपने अनुभव के बारे में संदीपन ने कहा, “जब मुझे पेशेंट से मैच होने को लेकर कॉल आया, तो मुझे काफी अच्छा लगा। मैंने इस पर दोबारा नहीं सोचा और जरूरतमंद मरीज को अपना ब्लड स्टेम सेल देने को राजी हो गया।”

संदीपन ने अपने ब्लड स्टेम कोशिकाओं को पीबीएससी (परिधीय रक्त स्टेम सेल) विधि के माध्यम से दान किया। यह प्रक्रिया ब्लड प्लेटलेट डोनेशन के समान ही है। इसमें सर्जरी की जरूरत नहीं पड़ती है और यह काफी सुरक्षित भी है। (आईएएनएस)

Popular

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep Reading Show less

गूगल लॉन्च कर सकता है नया फोल्डेबल फोन जिसको कह सकते है "पिक्सल नोटपैड" (Pixabay)

सर्च ईंजन गूगल अपने पहले फ़ोल्डबल फ़ोन 'पिक्सल फोल्ड' को लॉन्च करने की योजना बना रही है। गूगल ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि इस फोल्डेबल फोन को पिक्सल नोटपैड कहा जा सकता है।
गिज्मोचाइना के रिपोर्ट के अनुसार, सिम सेटअप स्क्रीन के एनिमेशन में एक स्मार्टफोन दिखाया गया है जिसमें एक साधारण सिंगल-स्क्रीन डिजाइन नही बल्कि एक बड़ा फोल्डेबल डिस्प्ले है।

नाइन टू फाइव गूगल के अनुसार, यह डिवाइस गैलेक्सी जेड फोल्ड 3 से कम कीमत की हो सकती है। इस फोल्डेबल डिवाइस की कीमत 1,799 डॉलर हो सकती है।

Keep reading... Show less