Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड संक्रमण का नही है कोई खतरा

भारत मे कोरोना के नए मामले तेजी से फैल रहे हैं। स्थिति को देखते हुए डॉक्टरों ने गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य से सम्बंधित जानकारी साझा की है।

नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड संक्रमण का नही है कोई खतरा ( Pixabay )


भारत मे कोरोना के नए मामले तेजी से फैल रहे हैं। स्थिति को देखते हुए डॉक्टरों ने गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य से सम्बंधित जानकारी साझा की है। गर्भवती महिलाएं कैसे स्वयं के साथ साथ अपने अपने बच्चों को सुरक्षित रखें इस विषय पर डॉक्टरों ने कई सुझाव दिए हैं। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में स्थित किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी ( केजीएमयू ) की स्त्री एवं प्रसूता रोग विशेषज्ञ डॉ.सुजाता देव का कहना है की कोरोना का नया वैरियंट तेजी से फैल रहा है लेकिन यह उतना घातक नही है। उन्होंने कहा कि कोरोना के पहली एवं दुसरी लहर के बाद गर्भवती महिलाओं में जागरूकता बढ़ी है। कोरोना के बढ़ते मामले के बीच गर्भवती महिलाओं को वैक्सीन लगाने का मुहिम जारी है। वैक्सीनेशन से गर्भवती महिलाओं को एक बड़ा सुरक्षा कवच मिला है औऱ आगे उन्होंने कहा कि नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड के फैलने का कोई खतरा नही है।

वरिष्ठ स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ. तृप्ति दुबे जो कि अपोलो हॉस्पिटल नवी मुंबई में कार्यरत है उन्होंने एक सवाल "कोविड के लक्षण है तो क्या करें" पर जवाब देते हुए कहा कि दूध पिलाने वाली मां के अलावा हर किसी को इस बात का गाँठ बांध लेना चाहिए कि संक्रमण सिर्फ ड्राप्लेट (मुंह और नाक से सांस लेने,खांसने,छीकने या थूकने के दौरान निकलने वाली छोटी-छोटी बूंदें ) से फैलता है। माँ के दूध से बच्चों में संक्रमण का खतरा महज एक अपवाद है।


Corona, newborn, omicron, helth, \u0938\u094d\u0935\u093e\u0938\u094d\u0925\u094d\u092f, कोरोना की पहली एवं दूसरी लहर के बाद टीकारण के प्रति गर्भवती महिलाओं में जागरूकता बढ़ी है ( Pixabay )

उन्होंने सलाह देते हुए कहा कि महिलाएं जो संक्रमित है और जिस कमरे में वह आइसोलेट हैं उस कमरे से अपने बच्चे को हर सम्भव अलग रखने की कोशिश करें। उन्होंने बताया कि अपने कमरे में ब्रेस्ट पंप से दूध निकालकर जो उनके बच्चे की देखभाल कर रहे उसको बच्चे को पिलाने के लिए दें। उन्होंने बताया कि दूध निकालने से पहले ब्रेस्ट पंप को बेहतर तरीके से सैनिटाइज जरूर करें।उन्होंने कहा यदि किसी महिला में संक्रमण का कोई लक्षण नही है तो कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अपने बच्चों को अपने साथ रख सकती है। कोविड नियमों का पालन करते हुए अपने बच्चे को खुद से दो मीटर की दूरी पर रखें और हर बार दूध पिलाने से पहले अपने हाथ जरूर धुलें। हर समय सही ढंग से मास्क लगाकर रखें। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने भी इस बात पर जोर देते हुए कहा है कि कोरोना के दौरान भी महिलाओं को बच्चों को दूध पिलाने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। यह दोनों के लिए लाभकारी है।

यह भी पढ़े - विश्व में 99 फीसद कोरोना मामलों के पीछे डेल्टा वैरिएंट- विश्व स्वास्थ्य संगठन

डॉ. तृप्ति दुबे ने बताया कि गर्भावस्था में महिलाओं को सांस से सम्बंधित समस्याएं अधिक होती है इस अवस्था मे गर्भवती महिलाएं सांस से संबंधी संस्तुत मेडीकेशन नही कर सकती है ऐसी महिलाओं के ईलाज में यह एक गंभीर समस्या है। उन्होंने बताया कि टिका लगवाने का सबसे बढ़िया समय गर्भावस्था के तीन महीने के बाद का होता है।

Input - IANS; Edited by Abhay Sharma

Popular

यूएनईपी की रिपोर्ट ने कहा जलवायु लक्ष्यों को पूरा करने में भारत विकसित देशों से आगे [Wikimedia Commons]

पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव (Bhupendra Yadav) के अनुसार, विकसित देश जहां जलवायु परिवर्तन(global warming) से लड़ने के अपने लक्ष्यों को पूरा करने में विफल दिख रहे हैं, वहीं भारत ने अपने लक्ष्य को पार कर लिया है।

उन्होंने(Bhupendra Yadav) मंगलवार को जलवायु कार्रवाई पर महासभा की एक उच्च स्तरीय बैठक में कहा, "जहां विकसित दुनिया 2020 से पहले की अवधि में 18 प्रतिशत की कमी के लक्ष्य के मुकाबले सिर्फ 14.8 प्रतिशत (ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन) उत्सर्जन में कमी के साथ कार्यो का प्रदर्शन कर रही है, वहीं भारत उत्सर्जन में कमी के अपने स्वैच्छिक लक्ष्य को प्राप्त कर रहा है।"

उन्होंने कहा, "पेरिस समझौते के तहत हमारे 2030 लक्ष्यों को महत्वाकांक्षी और पेरिस समझौते के लक्ष्यों के अनुकूल माना जाता है। हम उन लक्ष्यों को प्राप्त करने की राह पर हैं ।"

मंगलवार को जारी संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) की उत्सर्जन गैप रिपोर्ट ने भी भारत की इस उपलब्धि की पुष्टि की और कहा(Bhupendra Yadav) कि उसे इस सिलसिले में और बेहतर काम करना चाहिए।

रिपोर्ट में कहा गया है , ''भारत को मौजूदा नीतियों के तहत अपने पिछले बिना शर्त एनडीसी (राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान) उत्सर्जन लक्ष्य स्तरों की तुलना में कम से कम 15 प्रतिशत के स्तर तक कम करने का अनुमान लगाया गया, जो उनकी एनडीसी महत्वाकांक्षा को बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण है।"

एनडीसी, ग्लोबल वामिर्ंग को पूर्व-औद्योगिक स्तरों से 2 डिग्री सेल्सियस नीचे रखने के पेरिस जलवायु परिवर्तन(global warming) लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए उत्सर्जन में कटौती के लिए देशों द्वारा निर्धारित लक्ष्य हैं और एनडीसी की महत्वाकांक्षा उन लक्ष्यों को बढ़ा रही है।

रिपोर्ट के अनुसार, केवल रूस और तुर्की ही भारत के समान स्तरों को पूरा कर पाए हैं।

developed and developing countries list विकसित और विकासशील देश (Wikimedia Commons)

Keep Reading Show less

यूनिसेफ की स्थापना संयुक्त राष्ट्र की महासभा ने 11 दिसंबर, 1946 को की थी। (Wikimedia Commons)

यूनिसेफ ने कहा कि वैश्विक स्तर पर 10 में से 3 लोगों या 2.3 अरब लोगों के पास हाथ धोने के लिए घर पर पानी और साबुन नहीं है। संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने 15 अक्टूबर को पड़ने वाले ग्लोबल हैंडवाशिंग डे पर एक फैक्ट शीट में यह बात कही गई की यह स्थिति सबसे ज्यादा खराब कम विकसित वाले देशों में है और वहां 10 में से छह से अधिक लोगों के पास हाथ धोने की बुनियादी स्वच्छता, सुविधाएं नहीं हैं।

नवीनतम अनुमानों के अनुसार, दुनिया भर में पांच में से दो स्कूलों में पानी और साबुन के साथ बुनियादी स्वच्छता सेवाएं नहीं हैं, जिससे 818 मिलियन छात्र प्रभावित हैं, जिनमें से 462 मिलियन बिना किसी सुविधा के स्कूलों में जा रहे हैं। सबसे कम विकसित देशों में, 10 में से सात स्कूलों में बच्चों के हाथ धोने के लिए कोई जगह नहीं है।

Keep Reading Show less