Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

26/11 आतंकी हमले के वक्त पाकिस्तान में मौजूद थे गृह मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी!

पूर्व सैन्य खुफिया अधिकारी आर.एस.एन. सिंह ने एक लेख में लिखा है कि लश्कर-ए-तैयबा ने जब 26/11 को मुंबई पर हमला किया, उस समय तत्कालीन केंद्रीय गृह सचिव मधुकर गुप्ता के नेतृत्व में भारत के गृह मंत्रालय और अन्य सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारियों की नौ सदस्यीय उच्चस्तरीय टीम पाकिस्तान के मुरी में थी।

26/11 आतंकी हमले की तस्वीर (Twitter)

मुंबई में हुए 26/11 हमले को एक दशक बीत चुका है। लेकिन जैसे जैसे समय आगे बढ़ रहा है उसी तरीके 26/11 हमले के समय होने वाली घटना भी उजागर हो रही है। इसी तरह अबकी बार एक ऐसा खुलासा किया गया है जो तात्कालिक मनमोहन सिंह सरकार पर कई प्रश्न खड़े कर रहा है? यह खुलासा आर.एस.एन. सिंह द्वारा किया गया है। सिंह एक पूर्व सैन्य खुफिया अधिकारी हैं, जिन्होंने बाद में रिसर्च एंड एनालिसिस विंग में काम किया।

आर.एस.एन.सिंह ने भारतीय रक्षा समीक्षा के लेख में लिखा है लश्कर-ए-तैयबा ने जब 26/11 को मुंबई पर हमला किया, उस समय तत्कालीन केंद्रीय गृह सचिव मधुकर गुप्ता के नेतृत्व में भारत के गृह मंत्रालय और अन्य सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारियों की नौ सदस्यीय उच्चस्तरीय टीम पाकिस्तान के मुरी में थी। टीम 24 नवंबर, 2008 को इस्लामाबाद पहुंची थी और उसे दो दिन बाद, यानी 26 नवंबर को वापस लौटना था। गुप्त रूप से, आतिथ्य को और एक दिन के लिए बढ़ा दिया गया था। इसमें इस्लामाबाद से 60 किमी उत्तर पूर्व में एक हिल स्टेशन मुरी के स्वास्थ्यप्रद वातावरण में एक रात का प्रवास शामिल था। सिंह ने लिखा कि पाकिस्तानी अधिकारियों ने यह सुनिश्चित किया कि मुंबई पर हमले के समय भारत की टीम उस गुप्त स्थान पर रहे।


Rsn Singh, 26/11attack आर एस एनसिंह एक पूर्व सैन्य खुफिया अधिकारी हैं।(Twitter)

लेख में कहा गया है, हमले के दौरान महत्वपूर्ण निर्णय लेने के लिए आवश्यक भारत के सुरक्षा तंत्र के कुछ महत्वपूर्ण सदस्य मुरी में थे। इनमें केंद्रीय गृह सचिव, संयुक्त सचिव, आंतरिक सुरक्षा निदेशक के अलावा अन्य शामिल हैं। इनके पदनाम और पहचान का खुलासा सुरक्षा और गोपनीयता के कारण नहीं किया जा सकता। हालांकि, एक वरिष्ठ अधिकारी को बहुत देर से टीम में शामिल किया गया था और वह भी एक वरिष्ठ मंत्री के कहने पर। माना जाता है कि इसी अधिकारी ने गृह सचिव और अन्य को विस्तारित आतिथ्य स्वीकार करने के लिए राजी किया था। टीम का यह महत्वपूर्ण सदस्य घर पर जरूरी कामों का हवाला देते हुए इस्लामाबाद से लौट आया। यह वही अधिकारी है, जिसे इशरत जहां मामले में अपने रुख के लिए परेशान किया गया था।

लेख में कहा गया है कि 'मुरी हाइजैकिंग' पाकिस्तान द्वारा रणनीतिक धोखे का एक उत्कृष्ट मामला है। हमले के महत्वपूर्ण घंटों के दौरान पाकिस्तान आंशिक रूप से भारत की आंतरिक सुरक्षा कमान और नियंत्रण तंत्र को पंगु बनाने में सफल रहा। लेख में कहा गया है, "सामरिक धोखा पारंपरिक युद्ध का हिस्सा होता है। युद्ध का एक और पहलू है, जिसे सेना में शामिल होने के बाद नियोजित किया जाता है। सैन्य इतिहास रणनीतिक धोखे के कई असाधारण उदाहरणों से भरा पड़ा है। लेकिन यह पहली बार होगा जब किसी राष्ट्र-राज्य ने गैर-राज्य अभिनेताओं द्वारा आतंकवादी हमले के समर्थन में रणनीतिक धोखे का इस्तेमाल किया है।"

यह भी पढ़े - उत्तर प्रदेश की जनता को अब मिलेगा मुफ्त राशन का डबल डोज़

इसके अलावा लेख में 26/11 को एक तरह का युद्ध कहा गया है। सिंह के लेख के अनुसार,"1978 में, जब अटल बिहारी वाजपेयी विदेश मंत्री के रूप में यात्रा पर थे, चीन ने वियतनाम पर हमला किया। इसे आने वाले गणमान्य व्यक्ति के लिए एक राजनयिक अपमान के रूप में माना गया। अपमान और विश्वासघात की दृष्टि से पाकिस्तान का 'मुरी अपहरण' तो छलांग लगाकर इससे भी आगे निकल गया।"

input : आईएएनएस ; Edited by Lakshya Gupta

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

करोना काल में ऑनलाइन शिक्षा। (WIKIMEDIA COMMONS)

हाल ही में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020, जिसे 29 जुलाई 2020 को भारत के केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा अनुमोदित किया गया था, भारत की नई शिक्षा प्रणाली के दृष्टिकोण को रेखांकित करता है। इस नई शिक्षा नीति का उद्देश्य 2040 तक भारत की शिक्षा प्रणाली को बदलना है और अब शिक्षा को देश में आगे बढ़ाने के लिए एक नई पहल की गई है। इस नई योजना को लेकर भारत में गूगल के शीर्ष अधिकारियों और केंद्रीय शिक्षा मंत्री के बीच एक अहम बैठक भी हो चुकी है। जहां गूगल इंडिया और शिक्षा मंत्रालय छात्रों और देश भर के विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों को तकनीकी सहायता प्रदान करने के लिए मिलकर काम करने की योजना बना रहे हैं।

यह साझेदारी ना केवल भारत के छात्रों को मजबूत बनाएगी बल्कि उन्हें क्लासरूम के बाहर भी तकनीकी तौर से सशक्त बनाएगी। साथ ही, भारतीय युवा वैश्विक प्रौद्योगिकी और भविष्य के कौशल से लैस होंगे। गूगल ने शिक्षा के संबंध में भारत में लनिर्ंग प्लेटफॉर्म्स पर 50 से अधिक नई सुविधाएं शुरू की हैं। जैसे:फीचर अपडेट, एडटेक, बेस्ट एडटेक इंडिया, ऑफलाइन कॉन्टेंट, गूगल क्लासरूम, गूगल मीट अपडेट, एजुकेशन न्यूज आदि।

Keep Reading Show less