Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

'हमें जैविक स्वदेशी भोजन करना चाहिए':उपराष्ट्रपति

उत्तरी गोवा में एक नए कॉलेज परिसर के उद्घाटन के अवसर पर आयोजित एक समारोह में उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि बर्गर पिज्जा विदेशों में उपयुक्त हो सकता है, लेकिन हमारे देश के लिए उपयुक्त नहीं है

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि बर्गर पिज्जा विदेशों में उपयुक्त हो सकता है, लेकिन हमारे देश के लिए उपयुक्त नहीं है [ wikimedia commons ]

उत्तरी गोवा में एक नए कॉलेज परिसर के उद्घाटन के अवसर पर आयोजित एक समारोह में उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू(Venkaiah Naidu) ने कहा कि हमें जैविक स्वदेशी भोजन करना चाहिए , न की बर्गर पिज़्ज़ा । कॉलेज समारोह में बोलते हुए, उन्होंने प्रौद्योगिकी द्वारा परिभाषित और जलवायु परिवर्तन से खतरे वाले युग में प्रकृति के महत्व को रेखांकित किया।

उन्होंने(Venkaiah Naidu) कहा ,'' मैं एक विशेष भोजन नहीं बता रहा हूं, भारत में बहुत सारी किस्में हैं, हजारों किस्में हैं। मैं केवल पके हुए भोजन को खाने का सुझाव दे रहा हूं, बासी या फ्रीज किए हुए भोजन को नहीं खाने का सुझाव दे रहा हूं। हमें जैविक स्वदेशी भोजन करना चाहिए, यह बर्गर पिज्जा विदेशों में उपयुक्त हो सकता है, लेकिन हमारे देश के लिए उपयुक्त नहीं है।''

स्वदेशी भोजन के विकल्पों के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा ,'' हमारे पूर्वजों ने अनुभव के आधार पर हमें अच्छे भोजन के कई विकल्प दिए है। हमें यह कोशिश करनी चाहिए कि हमारी युवा पीढ़ी उनका अनुसरण करे।"

उपराष्ट्रपति ने यह भी कहा कि जलवायु परिवर्तन के युग में प्रकृति को संरक्षित करना अनिवार्य है।


उपराष्ट्रपति Venkaiah Naidu ने आगे कहा, "एक तितली उद्यान नवीनतम आईटी उपकरणों के रूप में महत्वपूर्ण है। हमें प्रगति करनी चाहिए लेकिन बेहतर भविष्य के लिए प्रकृति, संस्कृति को एक साथ नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। वे सभी चीजें जो प्रकृति और संस्कृति से जुड़ी है, उनसे छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए। अतिक्रमण करने की प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है इसलिए यह सब बबार्दी हो रही है।"

यह भी पढ़ें : राष्ट्रीय स्तर से लेकर जिला स्तर तक होनी चाहिए अच्छी प्रयोगशाला : मंडाविया

उन्होंने कहा कि आप देख रहे हैं कि दुनिया भर में जलवायु परिवर्तन हो रहा है, क्योंकि हमने प्रकृति की रक्षा नहीं की है। प्रकृति हम पर अपना प्रकोप दिखा रही है। ये कोई अपवाद नहीं है। हर विकसित देश इसका अनुभव कर रहा है। हमें प्रकृति में वापस जाना चाहिए ।

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र के सर्वागीण विकास से ‘आत्मनिर्भर भारत’ का लक्ष्य हासिल होगा। शिवसागर के जेरेंगा पोथार में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के समय से लेकर केंद्र की वर्तमान राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार असम और पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों के विकास को शीर्ष प्राथमिकता दे रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बात चाहे मूलभूत सुविधाओं की हो, संचार व यातायात व्यवस्था की हो, या स्वास्थ्य, शिक्षा एवं रोजगार सृजन की हो – हर क्षेत्र में केंद्र व राज्य की डबल इंजन वाली सरकारें असम के सर्वागीण विकास को आगे बढ़ा रही हैं।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को असम के तेजपुर विश्वविद्यालय के 18वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए युवाओं से आत्मनिर्भर भारत के लिए कार्य करने की अपील की। प्रधानमंत्री मोदी ने नार्थ ईस्ट के विकास के लिए हो रहे प्रयासों का उल्लेख करते हुए युवाओं को संभावनाओं का लाभ उठाने के लिए प्रेरित भी किया। इस दीक्षांत समारोह में वर्ष 2020 में पास होने वाले 1,218 छात्रों को डिग्री और डिप्लोमा प्रदान करने के साथ स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के 48 टॉपरों को स्वर्ण पदक से सम्मानित किया जाएगा। प्रधानमंत्री मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से संबोधन में कहा, आज 1200 से ज्यादा छात्रों के लिए जीवन भर याद रहने वाला क्षण हैं। आपके शिक्षक, आपके माता पिता के लिए भी आज का दिन बहुत अहम है। सबसे बड़ी बात आज से आपके करियर के साथ तेजपुर विश्वविद्यालय का नाम हमेशा के लिए जुड़ गया है।

यह भी पढ़े : Bihar में मंत्रियों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की तो होगी सख्त कार्रवाई

Keep Reading Show less