Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

कड़े फैसला लेना बहुत मुश्किल नहीं होगा- विराट कोहली

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार से यहां वानखेड़े स्टेडियम में शुरू हो रहे दूसरे टेस्ट के लिए टीम में बदलाव के बारे में कड़ा फैसला लेना बहुत मुश्किल नहीं होगा।

कड़ी मेहनत और द्राढ़ता से खिलाड़ियों को फॉर्म में वापस आने में मदद मिलती है- कोहली (file photo)


भारतीय कप्तान विराट कोहली(Virat Kohli) ने गुरुवार को वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस(press conference) करी। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कोहली ने कहा है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार से यहां वानखेड़े स्टेडियम(Wankhede Stadium) में शुरू हो रहे दूसरे टेस्ट के लिए टीम में बदलाव के बारे में कड़ा फैसला लेना बहुत मुश्किल नहीं होगा। वह खिलाड़ी और टीम की आवश्यकताओं के बारे में अच्छे से जानते हैं, जो मैच में निर्णय लेने में एक बड़ी भूमिका निभाएंगे।

विराट कोहली(Virat Kohli) ने कहा, "आपको स्पष्ट रूप से उस स्थिति को समझना होगा जहां टीम को रखा गया है। आपको यह समझना होगा कि खिलाड़ी कहां खड़ा है, आपको परिस्थितियों को समझना होगा और आपको अच्छी तरह से संवाद करना होगा। टीम में विश्वास करना मुश्किल नहीं है। टीम के खिलाड़ियों को एक-दूसरे पर भरोसा है और वे समझते हैं कि टीम की स्थिति और जरूरत के हिसाब से फैसला लिया जाएगा।"


कोहली(Virat Kohli) ने कहा कि टीम प्रबंधन वानखेड़े टेस्ट के लिए बल्लेबाजी और गेंदबाजी पर अंतिम फैसला करने से पहले सभी विकल्पों पर चर्चा करेगा और मौसम की स्थिति को ध्यान में रखते हुए बदलाव पर काम करेगा। वैसे कैप्टन कोहली को एक छोटे ब्रेक के बाद टीम में वापसी के साथ टीम इंडिया(Team India) को अपने बल्लेबाजी क्रम को फिर से मजबूत करना होगा।

इसके अलावा कोहली(Virat Kohli) और मुख्य कोच राहुल द्रविड़(Rahul Dravid) को यह तय करना होगा कि कानपुर(Kanpur) टेस्ट खेलने वाली प्लेइंग इलेवन टीम में किसे बाहर किया जाए। कोहली की जगह प्लेइंग इलेवन में आए मुंबई के बल्लेबाज श्रेयस अय्यर(Shreyas Iyer) ने डेब्यू पर शतक और दूसरी पारी में अर्धशतक बनाकर टीम में शानदार प्रदर्शन किया जिसके बाद से उनकी दावेदारी बढ़ गई है तो वहीं दूसरी जगह खिलाड़ी चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे साथ ही सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल ने उतने रन नहीं बनाए, जितना उनसे उम्मीद की गई थी।

यह भी पढ़े - जाने सभी आईपीएल टीमों के रिटेन खिलाड़ियों के नाम

भारत के कप्तान कोहली(Virat Kohli) ने कहा कि वह वानखेड़े स्टेडियम(Wankhede Stadium) में बल्लेबाजी करने के लिए उत्सुक थे, जहां उन्होंने एक बड़ा दोहरा शतक बनाया था जब भारत ने आखिरी बार मुंबई में एक टेस्ट खेला था। यह कहते हुए कि उन्हें हमेशा वानखेड़े(Wankhede Stadium) में खेलने में मजा आता है, कोहली ने कहा कि उन्होंने हमेशा अपनी पारियों और उनके प्रभाव से आत्मविश्वास हासिल करने में विश्वास किया है।

Input : आईएएनएस ; Edited by Lakshya Gupta

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने आर एस एस की तुलना नक्सलियों से की।

अभी कुछ दिन पहले छत्तीसगढ़ के जिला कवर्धा में दंगों की खबर आई थी। जब वहां जानने पर पता चला दंगा क्यों हुआ? तो यह ज्ञात हुआ कि हिंदुओं का पवित्र एवं पूजनीय भगवा ध्वज को अपमानित कर जलाया गया है, इस विषय पर संपूर्ण हिंदू समाज एक व्यक्ति का बयान का इंतजार कर रहा था , वह हैं छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल। दरअसल केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को एक पुस्तक के विमोचन पर एक सच्चाई कह दी जो कई लोगों को कड़वी लगी। आप को बता दे, यह पुस्तक वीर सावरकर के जीवन पर आधारित है जिसके विमोचन कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत और केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह उपस्थित थे।

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा सावरकर के बारे में एक झूठ फैलाया जाता है कि 1910 में आजीवन कारावास की सजा काट रहे सावरकर ने ब्रिटिश हुकूमत के सामने दया याचिका दी थी। जबकि, सच यह है कि उन्होंने महात्मा गांधी के कहने पर ऐसा किया था। सावरकर ने भारत में मजबूत रक्षा और राजनयिक सिद्धांत को प्रस्तुत किया। इसके अलावा राजनाथ सिंह ने वीर सावरकर के विषय में बताते हुए कहा कि वह भारत के सबसे बड़े और पहले रक्षा मामलों के विशेषज्ञ थे। सावरकर का हिंदुत्व धर्म से ऊपर था। वो किसी के साथ भी भेदभाव नहीं करते थे। उन्होंने हमेशा अखंड भारत की बात की। उनके हिंदुत्व को समझने के लिए गहरी समझ की आवश्यकता है।

Keep Reading Show less