Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर

मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं : कंगना रनौत

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर [Wikimedia Commons]

अपने तीखे अंदाज और रोमांचक किरदारों के लिए अक्सर सुर्ख़ियों में रहने वाली कंगना रनौत ने मंगलवार को एक कार्यक्रम में फिल्म 'धाकड़' के पोस्टर को व्यक्तिगत रूप से लॉन्च किया और पत्रकारों के प्रश्नों का जवाब दिया।

बॉलीवुड में अपने संघर्षों के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा कि मुझे लगता है कि मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं। अब मैं यह 'धाकड़' फिल्म कर रही हूं और मुझे उम्मीद है कि दर्शक इसे पसंद करेंगे।


इसपर जब एक पत्रकार ने उनकी तुलना अर्नोल्ड श्वार्जऩेगर से की तो कंगना ने इसकी प्रशंसा की और उन्होंने बड़ी चतुराई से इसका जवाब भी दिया।

फिल्म धाकड़ के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा की यह बॉलीवुड की पहली महिला केंद्रित जासूसी थ्रिलर है। वह आभारी हैं कि उन्हें अपनी फिल्मों में रोमांचक किरदार निभाने को मिले। कंगना ने कहा ,'' मैं इसे लेकर वास्तव में खुश हूं। मैं खुद को भाग्यशाली मानती हूं कि मैं एक ऐसे चरित्र को चित्रित करने में सक्षम हूं जो अच्छे एक्शन दृश्य करता है। मैं अपने निर्देशक रजनीश घई को धन्यवाद देती हूं जिन्होंने मुझ पर विश्वास किया और मुझे यह मौका दिया।'''

यह भी पढ़ें : अनुष्का ने अपनी बहादुर और साहसी दिखने का श्रेय अपनी बेटी वामिका को दिया

दरअसल फिल्म में कंगना एजेंट अग्नि की भूमिका में दिखेंगी जो बाल तस्करी और महिलाओं के शोषण के दोहरे खतरे का सामना करती है। फिल्म की ख़ास बात यह है की इसमें स्टंट एक अंतर्राष्ट्रीय टीम द्वारा डिजाइन किए गए हैं। साथ ही पुरस्कार विजेता जापानी छायाकार टेटसुओ नागाटा ने कैमरावर्क किया है जो कई हॉलीवुड एक्शन फिल्मों में काम कर चुके। (आईएएनएस )

Input: IANS; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

आज भारत में भी बहुत से लोग उम्र बढ़ने के साथ होने वाली समस्याओं से जूझ रहे हैं। (pixabay)

हाँ, यह बात सत्य है कि ध्यान के माध्यम से हम उम्र बढ़ने के प्रभाव को रोक तो नहीं, लेकिन कम जरूर कर सकते हैं। आज की इस आधुनिक दुनिया में लोग तकनीकी से भरे हुए है। लोग अपने कामों में इतने व्यस्त हो गए हैं कि उन्हें अपने स्वास्थ और उम्र का भी ध्यान नहीं। यह समस्या भारत की ही नहीं बल्कि दुनिया भर के लोगों की है। आज भारत में भी बहुत से लोग उम्र बढ़ने के साथ होने वाली समस्याओं से जूझ रहे हैं। इस तकनीकी दुनिया में मनुष्य खो सा गया है। उसके पास अपने आप पर ध्यान देने के लिए 2 मिनट का समय भी नहीं है। उदाहरण के तौर पर: मनुष्य अपने कार्य में इतना व्यस्त हो गया है कि वह समय बचाने के लिए घर का खाना छोड़ बाहर बने उच्च वसा वाले आहार को खाना पसंद करता है।आमतौर पर, उच्च वसा वाले आहार का प्रभाव मुख्य रूप से त्वचा की उम्र बढ़ने का कारण होता है, जिससे त्वचा में ऑक्सीडेटिव तनाव होता है जिससे सूजन संबंधी क्षति होती है।

Stress, Panic, Negative effect on mind, Serious Health Problem, Lack of concentration नकारात्मक सोच हमरी सोचने और समझने की क्षमता को कम कर देती है। (wikimedia commons)

Keep Reading Show less
भारत में 47 प्रतिशत कामकाजी महिलाऐं कोरोना की वजह से तनाव में। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

भारत की 47 प्रतिशत कामकाजी महिलाएं कोविड-19 महामारी की वजह से अधिक तनाव या चिंता महसूस कर रही हैं। एक नए सर्वेक्षण में गुरुवार को यह बात कही गई है। माइक्रोसॉफ्ट के स्वामित्व वाली लिंक्डइन ने गुरुवार को ‘श्रमबल विश्वास सूचकांक’ (वर्कफोर्स कॉन्फिडेंस इंडेक्स) सर्वेक्षण में दावा किया गया है कि पांच में से दो यानी महिलाओं को अपने बच्चों की देखभाल के लिए कार्य के घंटों से आगे भी काम करना पड़ रहा है।

यह सर्वे 2,254 पेशेवरों के बीच किया गया है।

Keep Reading Show less
बच्चों का तनाव दूर करने में आयुर्वेद कारगर(सांकेतिक तस्वीर, Pexels)

आजकल छात्रों को काफी कम उम्र में ही चिंता करते हुए देखा जा सकता है, जिससे छात्रों की सोचने की क्षमता में बाधा उत्पन्न होती है। यदि बच्चा बहुत अधिक दबाव में है, तो वह अपनी क्षमता के अनुसार प्रदर्शन नहीं कर पाता। कोरोनावायरस महामारी के बीच छात्र ने विभिन्न प्रवेश परीक्षाओं में बैठना शुरू कर दिया है, उन्हें ऐसी स्थितियों से निपटने के दौरान शांत रहने की जरूरत है। छात्रों को अपने स्वास्थ्य के साथ-साथ परीक्षाओं पर भी ध्यान देने की जरूरत है।

जीवा आयुर्वेदा के निदेशक प्रताप चौहान ने कहा, “छात्रों को अपने परिवार और दोस्तों से अतिरिक्त सहायता की आवश्यकता होती है, जो इन दिनों के दौरान प्रवेश परीक्षा के साथ-साथ अन्य परीक्षाओं में शामिल होने जा रहे हैं। कोरोनावायरस से पहले छात्रों को केवल अपनी पढ़ाई पर फोकस करना होता था, लेकिन अब इस वक्त उन्हें पढ़ाई के साथ-साथ सुरक्षित रहने की भी जरूरत है। आयुर्वेद ऐसे समय में तनाव को दूर रखने और मानसिक स्वास्थ्य को कम करने में मदद कर सकता है।”

Keep reading... Show less