Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

किडनी की पथरी को खत्म करेगी यह हर्बल दवा

(NBRI) और (IITR) ने साथ मिलकर किडनी की पथरी को खत्म करने के लिए एक हर्बल दवा विकसित की है। दवा का नाम यूआरओ-05 है जो मौखिक रूप से दी जाएगी।

आईआईटीआर ने दवा की जांच करने पर उसका कोई बड़ा दुष्प्रभाव नहीं पाया है। (Pixabay)

नेशनल बोटानिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट (NBRI) और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टॉक्सिकोलॉजी रिसर्च (IITR) ने एक मूत्र रोग विशेषज्ञ सलिल टंडन के साथ मिलकर किडनी की पथरी को खत्म करने के लिए एक हर्बल दवा विकसित की है। नई दवा का नाम यूआरओ-05 (URO-05) है जो किडनी से पथरी को हटाने के लिए नॉन-इन्वेंसिव विकल्प प्रदान करती है। पांच साल के शोध के माध्यम से लागत प्रभावी दवाओं को विकसित किया गया है।

संस्थान के 67वें वार्षिक दिवस को चिह्न्ति करते हुए मंगलवार को उत्पादन के लिए दवा की तकनीक को एनबीआरआई को हस्तांतरित किया गया।


यह दवा मौखिक रूप से दी जाएगी और यह उत्पादन के लिए तैयार है, वहीं यह छह महीने के भीतर बाजार में उपलब्ध होगी।

इस दवा का क्लिनिकल परीक्षण किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) में किया गया था और अब तक के परीक्षण काफी उत्साहजनक रहे हैं।

यह भी पढ़ें – रक्तदान से जुड़े मुस्लिम भ्रम को दूर करने में जुटे मुस्लिम युवा

दवा को एक सेंटीमीटर पथरी के आकार तक प्रभावी पाया गया है। टंडन ने कहा कि प्रारंभिक परिणामों से पत्थर के आकार में लगभग 75 प्रतिशत की कमी हुई है, वहीं इसका कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं नजर आया।

आईआईटीआर ने विषाक्तता को लेकर दवा की जांच की है और इसे लेने का कोई बड़ा दुष्प्रभाव नहीं पाया है।

दवा गंगा के मैदान में पाए जाने वाले पांच पौधों से तैयार की जाती है। यही नहीं, इसमें प्रयोग होने वाली वनस्पति भी प्रचूर मात्रा में उपलब्ध है, जिसके कारण दवाओं के निर्माण के लिए कच्चे माल की कोई समस्या नहीं होगी।

वैज्ञानिकों का दावा है कि हर्बल दवा पथरी के लिए दी जाने वाली एलोपैथिक दवा टेम्सुलोसिन जितनी ही प्रभावी है। साथ ही, हर्बल होने के कारण इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है। (आईएएनएस)

Popular

भारत ने कहा कि चीन का नया सीमा कानून चिंता का विषय(pixabay)

भारत ने बुधवार को कहा कि भूमि सीमा कानून (लैंड बाउंड्री लॉ) लाने के चीन के ताजा एकतरफा फैसले का सीमा प्रबंधन पर मौजूदा द्विपक्षीय व्यवस्थाओं पर असर पड़ सकता है। चीन के भूमि सीमा कानून पर मीडिया के सवालों के जवाब में, विदेश मंत्रालय (एमईए) के आधिकारिक प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, "हमें यह जानकारी है कि चीन ने 23 अक्टूबर को नया भूमि सीमा कानून पारित किया है। इस कानून में अन्य बातों के अलावा यह कहा गया है कि भूमि सीमा मामलों पर चीन दूसरे देशों के साथ किए या संयुक्त रूप से स्वीकार किए समझौतों का पालन करेगा। इसमें सीमावर्ती क्षेत्रों में जिलों के पुनर्गठन के प्रावधान भी हैं।"

उन्होंने आगे कहा कि भारत और चीन ने सीमा संबंधी प्रश्नों का अभी तक समाधान नहीं निकाला है और दोनों पक्षों ने समानता पर आधारित विचार विमर्श के आधार पर निष्पक्ष, व्यावहारिक और एक दूसरे को स्वीकार्य समाधान निकालने पर सहमति व्यक्त की है।

INDIA चीन के नए भूमि सीमा नियम को भारतीय विदेश मंत्रालय ने एकतरफा फैसला करार दीया।(Pixabay )

Keep Reading Show less

प्रशांत किशोर , तृणमूल कांग्रेस (Twitter, Prashant Kishor)

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर(Prashant Kishor) ने कहा की भाजपा अब वैसी है जैसी आजादी के बाद के शुरुआती 40 वर्षों में कांग्रेस थी। उन्होंने बयान दिया की भाजपा भारतीय राजनीति का केंद्र बन रही है जिससे वो है हारे या जीते ,उसे उखाड़ पाना अगले कई दशकों तक किसी के बस का नहीं है। किशोर ने बुधवार को गोवा में यह बात कही और सोशल मीडिया पर उनके प्रश्नोत्तर सत्र की एक क्लिप साझा की गई है।

प्रशांत(Prashant Kishor) ने इस साल मार्च-अप्रैल में हुए पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस को सत्ता में वापस लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी और उनका यह बयान ऐसे समय में आया है, जब तृणमूल बंगाल के बाहर भी अपनी जगह बनाने की कोशिश रही है।

Keep Reading Show less

इजरायली राजदूत नाओर गिलोन [ profile -twitter ]

इजरायल के राजदूत नाओर गिलोन ने गुरुवार को कहा कि Pegasus जासूसी मुद्दा भारत का आंतरिक मामला है और उनका इस मामले में कुछ बोलना उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि एनएसओ एक निजी कंपनी है और उसके पास अपना सॉफ्टवेयर केवल सरकारी संस्थाओं को बेचने का लाइसेंस है।

गिलोन ने कहा, "यह भारत का आंतरिक मुद्दा है और मैं इस बिंदु से आगे नहीं बोल सकता। वे इसे गैर-सरकारी संस्थाओं को नहीं बेच सकते हैं।"

यह पूछे जाने पर कि क्या भारत सरकार उनसे संपर्क करेगी, उन्होंने कहा कि उन्हें इस बारे में कुछ नहीं पता।

पिछले साल दिल्ली में इजरायली दूतावास के पास हुए विस्फोट का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि अपराधियों को अभी तक पकड़ा नहीं जा सका है, हालांकि दोनों देशों की जांच एजेंसियां एक दूसरे का सहयोग कर रही हैं।

गिलोन ने कहा, "हम सभी दूतावास कर्मियों को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए भारत सरकार के आभारी हैं।"

Keep reading... Show less