Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
राजनीति

BJP छोड़ने के पीछे विधायकों के हैं  व्यक्तिगत स्वार्थ : सिद्धार्थ नाथ सिंह

सिद्धार्थ नाथ सिंह का भारतीय जनता पार्टी छोड़ रहे विधायकों पर पलटवार कहा व्यक्तिगत स्वार्थ और टिकट कटने के डर से छोड़ रहे हैं पार्टी।

भारतीय जनता पार्टी ( उत्तर प्रदेश में ) मंत्री एवं विधायक सिद्धार्थ नाथ सिंह।(Wikimedia Commons)

उत्तर प्रदेश में चुनाव नजदीक है, चुनावी माहौल में कई नेता अपने निजी फायदे को देखते हुए दल बदलने लगे हैं। जिनको आभास हो रहा है पार्टी उनका टिकट काट सकती है या उनको अपने मनपसंद विधानसभा सीट से हटा सकती है वह नेता अब दूसरी पार्टी में अपने फायदे को ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं।

भारतीय राजनीतिज्ञ एवं भारतीय जनता पार्टी (उत्तर प्रदेश सरकार) में मंत्री, इलाहाबाद पश्चिम (विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र) से विधायक सिद्धार्थ नाथ सिंह ने समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा कि, " मंत्री और विधायकों के पार्टी छोड़ने के कई कारण है ! व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए मंत्री और विधायक दल बदल रहे हैं। पार्टी छोड़ रहे नेताओं को डर है कि उन्हें उनकी मनपसंद विधानसभा सीट से टिकट नहीं दिया जाएगा इन सभी लोगों ने पांच साल तक भारतीय जनता पार्टी में मलाई खाने का काम किया है।"


सिद्धार्थ नाथ सिंह ने आगे कहा कि "भारतीय जनता पार्टी जनता से अपने विधायकों के बारे में फीडबैक लेती है और उस आधार पर भरतीय जनता पार्टी विधायकों को टिकट देती है या काटती है !" भारतीय जनता पार्टी जनता के अपने विधायक के नकारात्मक फीडबैक के आधार पर जब नेताओं का टिकट काटती है तो यह लोग पार्टी छोड़ के अन्य पार्टियों में अपनी दाल गलाने की कोशिस करते हैं। समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव की पार्टी में ऐसे लोगों के लिए दरवाजे खुले हैं। अखिलेश यादव सबको पार्टी में शामिल कर लें, हमे इससे कोई एतराज नही है। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी इस बार भी 300 से अधिक सीटों पर अपनी जीत दर्ज करेगी।

यह भी पढ़ें आज के युवाओं में है "Can Do" स्पिरिट- Narendra Modi

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने भारतीय जनता पार्टी को छोड़ चुके कई विधायकों द्वारा उठाये जा रहे दलित और पिछडों के मुद्दे पर पलटवार करते हुए कहा कि "उत्तर प्रदेश में पिछड़ों और दलितों को भटकाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भरतीय जनता पार्टी को छोड़ने वाले विधायक पिछड़ों और दलितों के हित में समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के किसी 10 योजनाओं के नाम बता कर देखें। समाजवादी पार्टी सिर्फ मुसलमानों और यादवों की बात करती है समाजवादी पार्टी से मैं कहूंगा की अन्य पिछड़ी जातियाँ उनका साथ कभी नही देंगी।

बता दें कि हाल ही में भारतीय जनता पार्टी को छोड़ के समाजवादी पार्टी में शामिल होने वाले मंत्री एवं विधायक उत्तर प्रदेश के वर्तमाम सरकार को पिछडो एवं दलितों का विरोधी बताया। उत्तर प्रदेश की सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रशाद मौर्य ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया और उन्होंने समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया। दल बदल रहे नेताओं के द्वारा उठाये जा रहे इन बेबुनियाद मुद्दों पर सिद्धार्थ नाथ सिंह ने एएनआई से बात करते हुए पलटवार किया।

Various source; Edited by - Abhay Sharma

Popular

अटल जी के जयंती पर उन्हें सादर नमन। (Newsgram)

अटल बिहारी वाजपेयी(Atal Bihari Vajpayee) का ज़िक्र भारतीय राजनीति(Indian Politics) में जब भी आता है तो 1996 में लोकसभा में उनके द्वारा कहे गए शब्द सबसे पहले याद आते हैं, "सरकारें आएंगी जाएंगी, पार्टियां बनेंगी-बिगड़ेंगी परन्तु ये देश चलते रहना चाहिए।" अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय राजनीति की ऐसी शख्सियत थे जिनका ना तो किसी ने खुलकर विरोध किया न ही खुलकर अपमान। वे खुलकर विपक्षी नेताओं की सराहना करते थे जितना की वे खुलकर अपनी सरकार के मंत्रियों की आलोचना। उनका शायद ही भारतीय राजनीति में कोई प्रबल विरोधी रहा होगा। आज भाजपा जिस मुकाम पर है उसमे वाजपेयी जी की अहम भूमिका है।

कौन थे अटल बिहारी वाजपेयी ?

Keep Reading Show less

अरविंद केजरीवाल (Wikimedia Commons)

देश में 2022 की शुरुआत में पांच राज्यों में चुनाव होने हैं। इसमें दो राज्य उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) और पंजाब(Punjab) ऐसे राज्य हैं जहां सारे देशवासियों की नजरे टिकी हुई हैं। अगर बात करें पंजाब की तो यह राज्य 2017 के चुनाव से ज़्यादा सुर्खियां आज बटोर रहा है क्योंकि इसबार राज्य में एक तरफ राजनीतिक पारा पहले से कई ज़्यादा गरम है तो दूसरी ओर राज्य में दलों का गणित पूरी तरह बदल चूका है। एक ओर एनडीए(National Democratic) में साथी रहे शिरोमणि अकाली दल(Shiromani Akali Dal) और भारतीय जनता पार्टी(Bhartiye Janta Party) अलग हो चुके हैं, तो वहीं राज्य में सत्ताधारी कांग्रेस में मुख्यमंत्री रहे कैप्टन अमरिंदर सिंह(Captain Amrinder Singh) कांग्रेस से अलग होकर नई पार्टी बनाकर भाजपा के साथ गठबंधन कर चुनाव में उतरने के लिए तैयार हैं। यह सब तो वे बातें हैं जो हमें अखबारों में और टीवी पर देखने को मिल जाती हैं लेकिन इस बार के चुनाव में जो सबसे बड़ा आकर्षण का केंद्र है वो है अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी।

दिल्ली के लिए सब "मुफ्त" है?

Keep Reading Show less

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस तीन दशक से सत्ता से बाहर है। (Wikimedia Commons)

उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) में कांग्रेस(Congress) को अरसा हो गया है सत्ता में आए हुए। लगभग 3 दशक हो गए हैं और अब तक कांग्रेस सत्ता से बाहर है। इसके कई कारण है पर सबसे बड़ा कारण है राज्य में कांग्रेस का गठबंधनों पर निर्भर रहना।

कांग्रेस का गठबंधन(Alliance) का खेल साल 1989 ने शुरू हुआ जब राज्य में वो महज़ 94 सीटें जीत पाई और उसने तुरंत मुलायम सिंह यादव(Mulayam Singh Yadav) के नेतृत्व वाली जनता दल सरकार को समर्थन दे दिया था।

Keep reading... Show less