Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीतने पर खुश हूं : बी प्राक

बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।

गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।(wikimedia commons)

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में कई प्रतिभाशाली लोगों को पुरस्कारों से नवाजा गया एसे में बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है। उन्होंने और भी विजेताओं के साथ इस पल को साझा किया है ये उनके लिए खास पल रहा। गायक ने अपनी बड़ी जीत के बारे में कहा, "यह साल बहुत अच्छा रहा है। लेकिन सबसे ज्यादा यह पुरस्कार जीतने का पल खास हैं। मैं बहुत खुश हूं। मुझे लगता है कि मैं बहुत खुशनसीब हूं कि हमने एक टीम के साथ ऐसा गीत बनाया जो हमारे राष्ट्र के लिए गौरव के साथ गूंजता है।"

साथ हि वह कहते हैं कि इस पल को वह कभी नहीं भूलेंगे। "आज का दिन मेरे करियर के लिए अनमोल दिन है उन्होंने कहा। हर कलाकार चाहता है कि उसकी सराहना की जाए और राष्ट्रीय पुरस्कार से बड़ा सम्मान कोई नहीं हो सकता।"

 \u092b\u093f\u0932\u094d\u092e \u0915\u0947\u0938\u0930\u0940 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था(wikimedia commons)




आप को बता दे कि तेरी मिट्टी बी प्राक के गीत को भारत के नागरिक बहुत उल्लास के साथ गाते हैं क्योंकि यह उन्हें देश की खातिर बलिदान हुए सैनिकों की याद दिलाता है। मनोज मुंतशिर द्वारा लिखा गया गाना और अरको द्वारा रचित 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था।

यह भी पढ़ें :परेश रावल : अश्लील कॉमेडी का समर्थन नहीं किया मैंने कभी भी

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा मार्च 2021 में की गई थी। हाल ही में उनका समापन किया गया क्योंकि उन्होंने हमारे सिनेमा में प्रतिभा को सम्मानित किया और उनका जश्न मनाया। आप को बता दे किबी प्राक के अलावा, मनोज बाजपेयी, रजनीकांत, धनुष, कंगना रनौत और विजय सेतुपति जैसे बड़े फिल्म कलाकारों को भारतीय सिनेमा में उनके काम के लिए सम्मानित किया गया है।(आईएएनएस-PS)

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

उद्योग-व्यापी घटक की कमी ने चिप कारोबार को किया प्रभावित -इंटेल (Wikimedia Commons)

चिप निर्माता कंपनी इंटेल की तरफ से कहा गया है कि तीसरी तिमाही के दौरान उद्योग-व्यापी घटक की कमी ने उसके पीसी चिप कारोबार को प्रभावित किया है, जिसके बाद इंटेल ने अपने स्टॉक में 8 प्रतिशत से अधिक की गिरावट दर्ज की है। कंपनी के अनुसार, वाणिज्यिक, डेस्कटॉप और उच्च अंत उपभोक्ता नोटबुक में विशेष मजबूती के साथ इसके पीसी व्यवसाय में मांग अभी भी उछाल में है।

इंटेल के सीईओ पैट गेल्सिंगर ने गुरुवार देर रात सीएनबीसी को बताया कि 2023 तक सेमीकंडक्टर की कमी रहने की उम्मीद है। कंपनी ने अपने डीसीजी और आईओटीजी व्यवसायों में अत्यधिक सीमित उद्योग-व्यापी आपूर्ति के बावजूद, अपने डीसीजी और आईओटीजी व्यवसायों में मजबूत मांग से प्रेरित 5 प्रतिशत (वर्ष-दर-वर्ष) राजस्व के साथ अपने तीसरी तिमाही में सुधार किया है। पैट गेल्सिंगर ने कहा ,'बाजार 2030 तक दोगुना होकर 1 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है। उस समय सीमा में, अग्रणी-किनारे वाले नोड्स का बाजार कुल के 50 प्रतिशत से अधिक हो जाएगा, जबकि अग्रणी-एज फाउंड्री सेवाओं के लिए बाजार दोगुने की दर से बढ़ेगा।"

दुनिया की सबसे बड़ी सेमीकंडक्टर उत्पादन कंपनी है इंटेल। (Wikimedia commons)

Keep Reading Show less

भारत का स्मार्टफोन बाजार(pixabay)

जैसा कि स्मार्टफोन विक्रेता कम-अंत वाले मोबाइल हैंडसेट की आपूर्ति के मुद्दों से जूझ रहे हैं, ऐसे में भारत में शिपमेंट इस साल तीसरी तिमाही में 5 प्रतिशत (ऑन-ईयर) गिर गई है। गुरुवार को एक नई रिपोर्ट में इसके बारे में जानकारी दी गई। 2021 की तीसरी तिमाही में (जुलाई-सितंबर की अवधि) में, 47.5 मिलियन यूनिट्स को शिप किया गया था और बाजार एक बार फिर शाओमी के नेतृत्व में 24 प्रतिशत शेयर (एक साल पहले की तिमाही से 2 प्रतिशत नीचे) था, इसके बाद सैमसंग 19 प्रतिशत (मार्केट रिसर्च फर्म कैनालिस के आंकड़ों के मुताबिक, एक साल पहले की अवधि से 1 फीसदी कम) और वीवो 17 फीसदी (1 फीसदी नीचे) पर था।

तीसरी तिमाही में साल-दर-साल तुलना करना मुश्किल है, क्योंकि पिछले साल मांग में कमी आई थी। 2021 की तीसरी तिमाही में शिपमेंट दूसरी तिमाही 2021 की तुलना में 47 प्रतिशत अधिक थी, क्योंकि कोविड-19 लहर का प्रकोप कम होने के कारण उपभोक्ता मांग में तेजी से उछाल आया।


विश्लेषक संयम चौरसिया ने कहा, "जून के अंत से, भारत में मांग में उछाल आया है, जो त्योहारी सीजन के दौरान जारी रहने के लिए तैयार है। स्मार्टफोन विक्रेताओं ने पुराने स्टॉक को छुट्टियों की अवधि से पहले चैनल में दिखाने का अवसर बना लिया है।"

Keep Reading Show less

भारत में अगले साल 9.3 प्रतिशत की वेतन वृद्धि का अनुमान है (PIXABAY)

आने वाले समय में भारत में बेहतर वेतन वृद्धि की उम्मीद है जो कि महामारी की वजह से आई सुस्ती के कारण थी । एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में अगले साल 9.3 प्रतिशत की वेतन वृद्धि का अनुमान है और खास बात यह है कि देश एशिया प्रशांत क्षेत्र में सबसे अधिक भुगतान करने वाला देश होगा। एडवाइजरी, ब्रोकिंग और सॉल्यूशंस कंपनी विलिस टावर्स वॉटसन की ताजा रिपोर्ट से पता चलता है कि यह 2021 की तुलना में 8 प्रतिशत की वृद्धि होगी।

आप को बता दे कि भारत के बाद श्रीलंका (5.5 प्रतिशत), चीन (6 प्रतिशत), इंडोनेशिया (6.9 प्रतिशत) और सिंगापुर (3.9 प्रतिशत) का स्थान है एशिया प्रशांत क्षेत्र में 2021 के लिए उच्चतम वेतन वृद्धि के लिए । एक बहुप्रतीक्षित आर्थिक सुधार की ओर इशारा करते हुए, भारत में अधिकांश कंपनियों (52.2 प्रतिशत) ने अगले 12 महीनों के लिए सकारात्मक व्यावसायिक राजस्व दृष्टिकोण का अनुमान लगाया है, जो कि 2020 की चौथी तिमाही में 37 प्रतिशत से अधिक है। कारोबारी परिदृश्य में सुधार से नौकरियों की स्थिति भी सुधरेगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि 30 प्रतिशत कंपनियां अगले एक साल के दौरान नई नियुक्तियों की तैयारी कर रही हैं। यह 2020 की तुलना में लगभग तीन गुना अधिक है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि विभिन्न क्षेत्रों में महत्वपूर्ण कामकाज जैसे इंजीनियरिंग (57.5 प्रतिशत), सूचना प्रौद्योगिकी (53.3 प्रतिशत), तकनीकी कौशल (34.2 प्रतिशत), बिक्री (37 प्रतिशत) और वित्त (11.6 प्रतिशत) में सबसे अधिक भर्तियां देखने को मिलेंगी। इन नौकरियों में कंपनियां ऊंचे वेतन की पेशकश करेंगी।
इस मामले में स्वैच्छिक और अनैच्छिक दोनों तरह से, भारत में यह दर कम देखने को मिली है। भारत में इस संबंध में स्वैच्छिक दर 8.9 प्रतिशत और अनैच्छिक दर 3.3 प्रतिशत दर्ज की गई है।

Keep reading... Show less