Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

लव जिहाद ,धर्मांतरण में ईसाई सबसे आगे : सहयोगी एनडीए नेता

एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।


उन्होनें आगे कहा कि जब एक ईसाई महिला मुस्लिम धर्म के पक्ष में जाती है, तो अन्य समुदायों की सौ महिलाओं की शादी ईसाइयों से होती है। कोई क्यों नहीं बोल रहा है? इसके बारे में । ईसाई लोग महिलाओं से शादी कर रहे हैं। धर्म परिवर्तन में लगे देश का सबसे बड़ा समूह है, ईसाई। मुसलमान उस पैमाने पर, धर्मांतरण नहीं करते हैं। आगे बयान देते हुए उन्होनें नें कहा कि जब लव जिहाद होता है , तो इसमें केवल एक ईसाई महिला को मुस्लिम समुदाय में ले जाया जाता है। जबकि धर्मांतरण में एक पूरा परिवार ईसाई धर्म में जा रहा है।लव जिहाद और धर्मांतरण के बारे में बात करे तो , निस्संदेह ईसाई सबसे आगे हैं ।


कैथोलिक दैनिक दीपिका से जुड़े वरिष्ठ कैथोलिक पादरी रॉय कन्ननचिरा ने शनिवार को शिक्षकों को एक वीडियो संदेश में आरोप लगाया था कि कैथोलिक महिलाओं को प्रेम विवाह में फंसाने के लिए हिंदू युवाओं को रणनीतिक रूप से प्रशिक्षित किया जाता है। इसके बाद कन्ननचिरा ने माफी मांगते हुए दावा किया कि उनका इरादा किसी समुदाय धर्म को चोट पहुंचाने का नहीं था।

इन दावों ने केरल में एक बड़ी बहस छेड़ दी थी कि जब पिछले सप्ताह, कैथोलिक बिशप जोसेफ कल्लारंगट ने आरोप लगाते हुए कहा था कि गैर-मुसलमानों को लक्षित करने के लिए "लव जिहाद" के साथ-साथ "मादक जिहाद" भी है।

यह भी पढ़ें : दलित वोटों की डकैती करना कांग्रेस की पुरानी आदत : भाजपा

इन सब घटनाक्रम के बीच में , विपक्षी नेता वी डी सतीसन ने सांस्कृतिक नेताओं और कलाकारों को पत्र लिखकर केरल में सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने के लिए हस्तक्षेप करने की मांग भी की है।

Edited By: Pramil Sharma

Popular

वराणसी के मणिकर्णिका घाट पे उपस्थित रत्नेश्वर महादेव मंदिर (wikimedia commons)

हमारे देश भारत में अनेकों मंदिर हैं, हर मंदिर कि एक अपनी अलग महिमा है। और उनमें से कुछ मंदिर कई प्रकार के रहस्य लिए मोजूद हैं । भारत में एक ऐसा मंदिर भी हे जो कि अपनी एक अलग पहचान के लिए विख्यात है , जी हा हम बात करने जा रहे हैं वराणसी के मणिकर्णिका घाट पे उपस्थित रत्नेश्वर महादेव मंदिर की। इस मंदिर की मुख्य बात यह है कि यह मंदिर मशहूर पीसा की मीनार की तुलना में ज्यादा एंगल से एक तरफ झुका हुआ है । वहीं अगर बात करें पीसा की मीनार की तो यह मीनार 4 डिग्री झुकी है और वहीं यह मंदिर 9 डिग्री झुका हुआ है। और साथ ही यह मंदिर 74 मीटर उंचा भी है , जबकि पीसा कि मीनार 54 मीटर ही ऊंची हैं । लेकिन इस बात का उल्लेख कही नही मिलता है। इस मंदिर की खासियत के बारे में लोगो को ज्यादा पता भी नहीं है। इसके इतिहास के बारे में बात करे तो यह पता चलता है कि इसका निर्माण ग्वालियर की महारानी बीजा बाई ने 19 वी शताब्दी में करवाया था। यह मंदिर पानी में उपस्थित है। यह मंदिर भगवान महादेव शिव को समर्पित है। यह भगवान शिव का मंदिर है। अगर बात करे मणिकर्णिका घाट की तो यह घाट भी अपनी पुरानी घटनाओ के लिए विख्यात है। मणिकर्णिका का संधि विच्छेद करे तो यह दो शब्दों से मिलकर बना है , जिनके अलग-अलग मतलब है। जिसमें मणि मतलब कान की रिंग है ओर कर्णिका मतलब कान है ।


Keep Reading Show less

भारत के तमिलनाडु राज्य में बसा कन्याकुमारी स्थल (wikimedia commons)

कुमारी देवी मंदिर :

यह स्थान श्रीपद पराई के नाम से भी जाना जाता है। प्राचीन मान्यताओं की बात करे तो इसके अनुसार इस स्थान पर कभी कन्याकुमारी ने भी तपस्या की थी। इसलिए इस स्थान को कन्याकुमारी कहा जाता है। यहां कुमारी देवी के पैरों के निशान भी हैं। कन्याकुमारी के समुद्री तट पर ही कुमारी देवी का मंदिर है, जहां देवी पार्वती के कन्या रूप को पूजा जाता है। प्राचीन कथाओ में कहा गया है कि भगवान शिव ने एक असुर वाणासुर को वरदान दिया था कि कुंवारी कन्या के अलावा किसी के हाथों उसका वध नहीं होगा। प्राचीनकाल में कभी भारत पर शासन करने वाले राजा भरत की आठ पुत्री और एक पुत्र था। राजा भरत ने अपने साम्राज्य को नों बराबर हिस्सों में बांटकर अपनी संतानों को दे दिया था और दक्षिण का हिस्सा उनकी पुत्री कुमारी को मिला। कुमारी भगवान शिव की अनन्य भक्त थीं और भगवान शिव से विवाह करना चाहती थीं। कहा जाता हैं कि विवाह की तैयारियां होने लगीं लेकिन नारद मुनि यह चाहते थे कि वाणासुर नामक असुर का कुमारी के हाथों वध हो जाए। इस कारण शिव और देवी कुमारी का विवाह नहीं हो पाया। कुमारी को शक्ति देवी का अवतार माना जाने लगा और वाणासुर के वध के बाद कुमारी की याद में ही दक्षिण भारत के इस स्थान को 'कन्याकुमारी' कहा जाने लगा। यह भी कहा जाता है कि शहर का नाम देवी कन्या कुमारी के नाम पर पड़ा है । प्रचलित कथाओं में कुमारी देवी को भगवान श्रीकृष्ण की बहन भी माना गया है। प्रचलित कथा के अनुसार ऐसा कहा गया है कि देवी का विवाह संपन्न न हो पाने के कारण बचे हुए दाल-चावल बाद में कंकर बन गए। आश्चर्यजनक रूप से कन्याकुमारी के समुद्र तट की रेत में दाल और चावल के आकार और रंग-रूप के कंकर बड़ी मात्रा में देखे जा सकते हैं।

Keep Reading Show less

वीर हनुमान इंडिया में बहुत लोकप्रिय हैं और उनका यह चित्र हर जगह दिखता है जिसमें हनुमान जी अपनी छाती चीर कर दूसरों को दिखाते हैं, कि उनके दिल में जो विद्यमान हैं वह भगवान राम ही हैं। पर शायद बहुत कम लोगों को पता होगा कि चीन में भी एक वानर देवता हैं सुन वुखोंग, वह ह्वेन त्सांग के साथ बौद्ध ग्रंथ सीखने के लिए अनगिनत कष्ट सहते हुए भारत पहुंचे थे। यहां जो चर्चित है कि वह है चीन के एक मशहूर प्राचीन उपन्यास पश्चिम की तीर्थ यात्रा के नायक मंकी किंग सुन वुखोंग। इस उपन्यास के वर्णन के अनुसार ह्वेन त्सांग अपने प्रशिक्षु मंकी किंग सुन वुखोंग आदि के साथ धर्मग्रंथों से सीखने के लिए महात्मा बुद्ध के पवित्र पर्वत गए थे। लेकिन पश्चिम यात्रा के रास्ते में ह्वेन त्सांग के बजाय मंकी किंग सुन वुखोंग ने राक्षसों के साथ संघर्ष में अपनी वीरता और उत्कृष्टता दिखाई। उधर दानव को मारते समय ह्वेन त्सांग की अक्सर मूर्खता और कायरता साबित हुई। इस तरह वानर राजा सुन वुखोंग, जो इतिहास में कहीं भी मौजूद नहीं था, पश्चिम की यात्रा का सचमुच नायक बन गया।

यह भी पढ़ें : जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वीकार किया अनूठा ट्विटर चैलेंज

वानर राजा सुन वुखोंग की छवि वानर देवता हनुमान की जैसी है। सुन वुखोंग भी एक वानर देवता हैं, और उनके हाथ में भी एक बहुत शक्तिशाली छड़ी यानी गदा है। सुन वुखोंग एक क्षण में हजारों नदियों और पहाड़ों को तुरंत पार कर सकते हैं, और विभिन्न रूप भी धारण कर सकते हैं। सुन वुखोंग और हनुमान के बीच व्यापक समानता के कारण चीन के प्रसिद्ध विद्वान ची श्यैनलीन ने यह सत्यापित किया कि चीन के वानर राजा सुन वुखोंग का प्रोटोटाइप वास्तव में बौद्ध किंवदंतियों के माध्यम से भारत के हनुमान से आया है। या कम से कम इन दोनों के बीच घनिष्ठ संबंध मौजूद रहे हैं। लेकिन उपन्यास पश्चिम की तीर्थ यात्रा की वजह से चीन में ह्वेन त्सांग की तुलना में लोग वानर राजा सुन वुखोंग से अधिक परिचित हैं, और फिल्मों और टीवी सीरीज के प्रभाव के कारण, पश्चिमी देशों में भी मंकी किंग काफी जाने जाते हैं।

Keep reading... Show less