Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

हम समाज में लैंगिक विभाजन को पाटने का संकल्प लेते हैं- Smriti Irani

राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

महिला बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी (Wikimedia Commons)

जैसा कि राष्ट्र ने 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस(National Girl Child Day) मनाया, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री(Union Minister of Women and Child Development) श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी(Smriti Zubin Irani) ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

"शिक्षित करें, प्रोत्साहित करें, सशक्त करें! आज का दिन हमारी लड़कियों को समान अवसर प्रदान करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता को नवीनीकृत करने का दिन है। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर, जैसा कि हम अपनी बेटियों की उपलब्धियों का जश्न मनाते हैं, हम एक समावेशी और समान समाज के निर्माण के लिए लिंग भेद को पाटने का संकल्प लेते हैं”, ईरानी ने अपने ट्वीट संदेश में कहा।


smriti irani, ministry of women and child development महिला बाल विकास मंत्रालय (Wikimedia Commons)

यह भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस समारोह में प्रधानमंत्री Narendra Modi ने उत्तराखंड की टोपी और मणिपुर की स्टोल पहन बटोरी सुर्खियां

भारत की लड़कियों को समर्थन और अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से हर साल 24 जनवरी को देश में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना और बालिका शिक्षा और उनके स्वास्थ्य और पोषण के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना और समाज में लड़कियों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए समाज में लड़कियों की स्थिति को बढ़ावा देना है। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत पहली बार 2008 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा की गई थी।

Input-IANS; Edited By-Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) [Wikimedia Commons]

सन् 1863 में बंगाल के कायस्थ (शास्त्री) परिवार में जन्मे स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) का मूल नाम नरेंद्रनाथ दत्त था। उन्होंने पश्चिमी शैली के विश्वविद्यालय में शिक्षा प्राप्त की, जहाँ उन्होंने पश्चिमी दर्शन , ईसाई धर्म और विज्ञान को जाना। हिंदू आध्यात्मिकता के बारे में बात करने के लिए अमेरिका जाने से पहले खेतड़ी के महाराज अजीत सिंह ने उन्हें 'विवेकानंद' नाम दिया था।

वह रामकृष्ण के प्रमुख शिष्यों में से एक बन गए थे और उन्होंने समाज को सुधारने और इसे एक बेहतर जगह बनाने की कोशिश की थी। स्वामी जी भी ब्रह्म समाज का हिस्सा रहे थे और उन्होंने बाल विवाह को समाप्त करने और साक्षरता का प्रसार करने की कोशिश की थी।

Keep Reading Show less

अपने पारंपरिक परिधान और नंगे पैर पहुंची थीं तुलसी गौड़ा जो उनकी विशेषता को दर्शाता है(Twitter)

एक समय होता था जब केवल उन्हीं लोगों को राष्ट्रीय पुरस्कार जैसे पद्मश्री पद्म भूषण मिलता था जो सत्ताधारी पार्टी के या तो वफादार हो या फिल्मी सेलिब्रिटी। लेकिन कहते हैं ना परिवर्तन प्रकृति का अपरिवर्तनीय नियम है। ठीक इसी प्रकार सत्ता बदली तो राष्ट्रीय पुरस्कार लेने वाले भी परिवर्तित हो गए। आज के समय में जो राष्ट्रीय पुरस्कार के हकदार होता है उसी को यह सम्मान मिलता है। ठीक इसी तरह की उदाहरण हैं कर्नाटक की 72 वर्षीय महिला तुलसी गौड़ा।

तुलसी को पर्यावरण में अहम योगदान देने के लिए राष्ट्रपति ने उन्हें पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया है। तुलसी करीब छह दशक से पर्यावरण संरक्षण गतिविधियों में शामिल हैं। अब तक करीब 30,000 से अधिक पौधे लगा चुकी हैं। राष्ट्रपति से सम्मान लेने वे अपने पारंपरिक परिधान और नंगे पैर पहुंची थीं। जो उनकी विशेषता को दर्शाता है और इसकी तारीफ भी सोशल मीडिया में जमकर हो रही है। इसलिए आज हम आपको भारत की इस महान पर्यावरण संरक्षिका के बारे में बताएंगे -

Keep Reading Show less

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने देश के हर मंडल तक अपने संगठन को पहुंचाने की योजना बनाई है (RSS, Facebook )

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ देश में अपने विस्तार के लिए तमाम योजनाएं बना रही है। संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले ने शनिवार को ऐलान किया है की संघ ने अगले 3 सालों में यानि 2024 तक देश के हर मंडल तक अपने संगठन को पहुंचाने की योजना बनाई है।

कर्नाटक के धारवाड़ में चल रहे संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक के तीसरे और अंतिम दिन मीडिया से बातचीत में दत्तात्रेय होसबाले ने कहा की 2025 में संघ के 100 वर्ष पूरे होने वाले हैं और संघ ने अगले तीन वर्षों में यानि 2024 तक मंडल स्तर तक संगठन के कार्यों को पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इसके साथ ही संघ ने 2022 से 2025 तक कम से कम दो साल का समय देने वाले कार्यकर्ताओं को भी तैयार करने का फैसला किया है।

Keep reading... Show less