Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

लोकतंत्र ने कैसे एक चाय वाले को बनाया पीएम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूनाइटेड नेशन जनरल असेंबली में 76 सत्र मे संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए एक सकारात्मक और प्रेरक भाषण दिया।

स्टेशन पर चाय बेचने वाले का बेटा चौथी बार संयुक्त राष्ट्र को संबोधित कर रहा है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (IANS)

शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूनाइटेड नेशन जनरल असेंबली में 76 सत्र मे संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए एक सकारात्मक और प्रेरक भाषण दिया।

यूएनजीए में भाषणों के सप्ताहांत चरण की शुरुआत के कुछ ही क्षणों के भीतर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "लोकतंत्र उद्धार कर सकता है, लोकतंत्र ने करके दिखाया है"। अपनी बात को आगे कहते हुए उन्होंने गहरी संवेदना से भरी, खुद के बारे में व्यक्तिगत टिप्पणी करते हुए कहा, "स्टेशन पर चाय बेचने वाले का बेटा चौथी बार संयुक्त राष्ट्र को संबोधित कर रहा है।


सबसे लंबे समय तक गुजरात के मुख्यमंत्री और फिर भारत के प्रधानमंत्री के रूप में देश की सेवा करते हुए मुझे 20 साल हो गए। हां, लोकतंत्र ऐसा कर सकता है। लोकतंत्र ने करके दिखाया है। उन्होंने भारत को "मदर ऑफ डेमोक्रेसी" बताते हुए कहा "जब भारत की प्रगति होती है तो विश्व के विकास को भी गति मिलती है"। नरेंद्र मोदी ने यूनाइटेड नेशंस जनरल असेंबली पर निशाना कस्ते हुए अपने भाषण में आचार्य चाणक्य का उल्लेख करते हुए कहा "जब सही समय पर सही कार्य नहीं किया जाता तो समय ही उस कार्य की सफलता को समाप्त कर देता है"।

यह भी पढ़ें : यूएनजीए में पीएम मोदी के संबोधन की 10 प्रमुख बातें

शुक्रवार को मोदी ने न्यूयॉर्क में होने वाले क्वाड सम्मेलन के कार्यक्रम में शामिल हुए, इससे पहले उन्होंने व्हाइट हाउस में क्वाड के साथी देश अमेरिका के राष्ट्रपति जो बिडेन के साथ द्विदेशीय बैठक भी की। पहली इन-पर्सन लीडर-स्तरीय क्वाड मीटिंग ने अक्टूबर 2021 से शुरू होने वाले कोवैक्स सहित कोविड टीकों के निर्यात को फिर से शुरू करने की भारत की घोषणा का स्वागत किया। एक संयुक्त बयान में क्वाड नेता, भारत के नरेंद्र मोदी, ऑस्ट्रेलिया के स्कॉट मॉरिसन, जापान के योशीहिदे सुगा और अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन ने पाकिस्तान और चीन का नाम लेते हुए आतंकवाद, प्रॉक्सी और सीमा पार हमलों की संयुक्त बयान में निंदा की।

Popular

देवेंद्र फडणवीस, पूर्व मुख्यमंत्री महाराष्ट्र (Wikimedia Commons)

मुंबई में अभिनेत्री कंगना रनौत का दफ्तर तोड़े जाने के मामले में महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर हमला बोलते हुए कहा है कि दाऊद का घर छोड़ दिया जाता है, लेकिन कंगना का तोड़ दिया जाता है। शुक्रवार को बिहार दौरे के लिए रवाना होने से पहले दिल्ली में पत्रकारों से बातचीत के दौरान फडणवीस ने महाराष्ट्र सरकार पर कोरोना से नहीं बल्कि कंगना से लड़ने का आरोप लगाया। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा, कंगना कोई बड़ा मुद्दा था नहीं, इस मामले को बड़ा आपने किया है। किसने उसका मकान तोड़ा? आपने तोड़ा। दाऊद के भिंडी बाजार वाले घर को तोड़ने के आदेश के बाद भी एफिडेविट दिया गया कि उसे तोड़ने के लिए मैनपावर नहीं है। दाऊद का घर तो तोड़ने जाते नहीं, कंगना के घर-दफ्तर को तोड़ने जाते हो।

कंगना के ऑफिस को ध्वस्त करने जाती बीएमसी की टीम। (Twitter)

Keep Reading Show less