Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

क्या आसान है हिन्दू धर्म का मजाक उड़ाना?

अज्ञानता के कारण लोग अपने गौरवशाली धर्म को नहीं समझ पा रहे हैं। जिस वजह से वह इस धर्म का बनाने से भी पीछे नहीं हट रहे हैं।

गणेश जी की मूर्ती (unsplash)

हिंदुस्तान एक ऐसा देश है जहां विभिन्न धर्मो के लोग रहते है। हर एक धर्म की अपनी अलग मान्यताएँ भी है। किसी भी धर्म को सामान नज़रिये से देखा जाना चाहिए, लेकिन क्या ऐसा होता है? मेरे लिए इसका उत्तर है नहीं। हिंदुस्तान में अनेक धर्म तो है लेकिन हिन्दू धर्म का खास तौर पर मज़ाक बनाया जाता है। ऐसा क्यों है कि सनातन धर्म का मज़ाक बनाना आसान है। इसके पीछे बहुत से कारण है, इस आर्टिकल में इन्ही कुछ कारणों पर रोशनी डाली गई है।

जागरूकता की कमी- आज का युवा सोशल मीडिया में इतना खोया हुआ है कि उसे मालूम ही नहीं है कि उनका धर्म कितना गौरवशाली है। जब किसी धर्म का युवा ही जागरूक नहीं होगा तो उस धर्म का प्रचार कौन करेगा। ज्यादातर हिन्दू युवाओं को मालूम तक नहीं है कि वेद कितने प्रकार के होते हैं, हमारे धर्म में कितने उपनिषद है, भगवत गीता में कितने श्लोक है। इस अज्ञानता की वजह से कोई भी आकर कुछ भी हिन्दू धर्म के बारे में बुरा कह जाता है और लोग उसी को सच मान लेते है। लोगों में अपने धर्म के बारे में जानने की इच्छा ही नहीं है।


पहले के समय में गुरुकुल हुआ करते थे, जो एक-एक करके समाप्त होते गए जिसकी वजह से लोग अपनी ही संस्कृति के बारे में जान नहीं पाए। आजकल लोग भी शास्त्रों को पढ़ने से कतराते है। वर्तमान काल में हिन्दू देवी देवताओं का मजाक उड़ाने का प्रचलन चल रहा है। कोई भी आकर हिन्दू धर्म का मज़ाक उड़ा कर चला जाता है और अज्ञानी लोग उस पर तालियां मारते हैं। इन लोगो ने अपने ही धर्म का मज़ाक बना कर रख दिया हैं। कॉमेडी और फिल्मों के माध्यम से लगातार धर्म को टारगेट किया जा रहा है। और हैरान करने वाली बात यह है कि उस धर्म के लोग आंख बंद करके उसे यूँ ही जाने देते हैं।

जिन फिल्मों में सच्चाई के अलावा सब कुछ दिखा दिया जाता है उसे ही लोग सच मन लेते है। फिर बिना अपने धर्म को पढ़े उसकी निंदा करते है। वैसे तो भारत एक सेकुलर देश है, जिसका मतलब है सभी धर्म एक सामान है। लेकिन सच्चाई यह नहीं है, हिंदुओं के कार्यक्रमों को लगातार निशाना बनाया जा रहा है। चाहे कोई भी त्यौहार हो हर एक त्यौहार के लिए प्रोपेगेंडा चलाया जाता है। दिवाली पर प्रदुषण, होली पर पानी और मिठाईयों से मोटापे जैसे बहुत सारे उदाहरण है।

यह भी पढ़ेंः युवाओं को कैसे प्रभावित कर रहा है नशा?

हिन्दू धर्म का मज़ाक उड़ाने का सिलसिला बढ़ता जा रहा है क्योंकि इस धर्म के लोगों को ज्यादा लड़ाई झगड़ा पसंद नहीं है। इन्हें बस अपने परिवार की चिंता है, इनकी संस्कृति चाहे बर्बाद हो जाए लेकिन इनका परिवार खुश रहना चाहिए। अगर ऐसा ही चलता रहा तो यह हिंदुस्तान के लिए ठीक नहीं होगा और वह दिन भी दूर नहीं होगा जब हमे अपने अस्तित्व के लिए लड़ना पड़े।

Popular

By – मनोज पाठक

बिहार के सरकारी अस्पतालों में भर्ती मरीजों को अब शुद्ध और पोषक भोजन मिलेगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने अनूठी पहल करते हुए सभी सरकारी अस्पतालों में कैंटीन की सुविघा समाप्त कर ‘दीदी की रसोई’ (Didi ki Rasoi) प्रारंभ करने की योजना बनाई है। इसी रसोई से अस्पतालों में भर्ती मरीजों को भोजन परोसा जाएगा।

Keep Reading Show less

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को यहां कहा कि समाज को आगे बढ़ाने के लिए विकास कार्यों में पुरूषों के साथ महिलाओं की भी भूमिका जरूरी है। उन्होंने कहा कि जल-जीवन-हरियाली अभियान के तहत जगह-जगह तालाबों का निर्माण और जीर्णोद्धार कराया जा रहा है, इसकी देखभाल की जिम्मेदारी जीविका समूहों को दी जाएगी। पूर्णिया के धमदाहा में मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार की आर्थिक स्थिति में जो सुधार आया है, उसमें महिलाओं की महती भूमिका है। उन्होंने कहा कि स्वयं सहायता समूह के मामले में बिहार दूसरे राज्य से काफी पीछे था, लेकिन आज स्थिति यह है कि यहां के जीविका समूह के पैटर्न को अपनाते हुए केंद्र सरकार ने पूरे देश में आजीविका कार्यक्रम लागू किया।

यह भी पढ़ें : पीएम मोदी के दिल में है जम्मू-कश्मीर : गृह मंत्री अमित शाह

मुख्यमंत्री ने इसे और बेहतर बनाने की अपील करते हुए कहा कि जल-जीवन-हरियाली अभियान के तहत जगह-जगह तालाबों का निर्माण और जीर्णोद्धार कराया जा रहा है, इसकी देखभाल की जिम्मेदारी जीविका समूहों को दी जाएगी। जीविका समूह की महिलाओं से अपील करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, “आपसे यही अपेक्षा है कि नई पीढ़ी को जागरूक करें। आपकी प्रेरणा से वे अच्छी दिशा की तरफ बढ़ेंगे। परिवार के लोग आगे बढ़ेंगे तभी परिवार आगे बढ़ेगा। आपका धीरे-धीरे विकसित होना आपकी जागृति को दर्शाता है। “

Keep Reading Show less

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को राज्य में इथेनॉल उत्पादन के लिए गन्ना को प्राथमिकता में रखते हुए कार्य करने का निर्देश अधिकारियों को दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में इथेनॉल उत्पादन की काफी संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि इथेनॉल उत्पादन भी बिहार का ही आइडिया है। मुख्यमंत्री कुमार ने उद्योग विभाग की समीक्षा बैठक में कहा कि राज्य में उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि बिहार में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग की काफी संभावनाएं हैं।

उन्होंने कहा, “राज्य में इथेनल उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए अपने पहले ही कार्यकाल में हमलोगों ने केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा था लेकिन उस समय यह स्वीकार नहीं किया गया।” उन्होंने इस पर किए जा रहे कार्य पर प्रसन्नता जताते हुए कहा कि राज्य में इथेनल उत्पादन की काफी संभावनाएं हैं। इथेनल उत्पादन बिहार का ही आइडिया है। उन्होंने अधिाकरियों को इथेनल उत्पादन के लिए गन्ना को प्राथमिकता में रखते हुए कार्य करने के निर्देश देते हुए कहा कि इससे गन्ना उद्योग को बढ़ावा मिलेगा।

Keep reading... Show less