Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
स्वास्थ्य

कोरोना से मौत होने का खतरा हुआ दोगना!

एक अध्ययन में पाया गया है कि जो लोग गंभीर कोविड -19 संक्रमण से बचे हैं, उनकी तुलना में हल्के और मध्यम लक्षण वाले लोगों में अगले वर्ष में मौत का खतरा दोगुने से अधिक हो सकता है।

कोविड -19 संक्रमण वायरस सांकेतिक इमेज (pixabay)

एक अध्ययन में पाया गया है कि जो लोग गंभीर कोविड -19(COVID-19) संक्रमण से बचे हैं, उनकी तुलना में हल्के और मध्यम लक्षण वाले लोगों में अगले वर्ष में मौत का खतरा दोगुने से अधिक हो सकता है।

अमेरिका में फ्लोरिडा विश्वविद्यालय(University of Florida) के शोधकतार्ओं ने पाया कि 65 वर्ष से कम आयु के गंभीर कोविड -19(Covid-19) रोगियों में असंक्रमित की तुलना में मरने की संभावना 233 प्रतिशत बढ़ी है। जर्नल फ्रंटियर्स इन मेडिसिन में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि 65 वर्ष से कम उम्र के रोगियों के लिए मृत्यु का जोखिम अधिक है।


अपको बता दें, अध्ययन के लिए टीम ने 13,638 रोगियों के इलेक्ट्रॉनिक स्वास्थ्य रिकॉर्ड को ट्रैक किया था, जिन्होंने कोविड -19(Covid-19) के लिए एक पीसीआर(PCR) परीक्षण कराया था जिसमें 178 रोगियों ने गंभीर कोविड -19 लक्षण दिखाए थे, 246 हल्के और मध्यम कोविड -19 लक्षण दिखाए थे। और बाकी के परीक्षण नकारात्मक थे। अध्ययन में शामिल सभी मरीज बीमारी से ठीक हो गए, और शोधकर्ता अगले 12 महीनों तक उनके परिणामों पर नजर रखेंगे।

university of florida, covid-19, research अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ़ फ्लोरिडा ने पाया की ओमीक्रॉन वैरिएंट 223 प्रतिशत तक ज़्यादा संक्रामक है। (Wikimedia Commons)

शोध की मानें तो गंभीर कोविड -19 से बचे लोगों की 80 प्रतिशत मौतें श्वसन या हृदय संबंधी समस्या से होने वाली सामान्य जटिलताओं से जुड़ी नहीं थीं। शोधकतार्ओं ने कहा कि इससे पता चलता है कि रोगियों ने अपने स्वास्थ्य में समग्र गिरावट का अनुभव किया है, जिससे वे विभिन्न बीमारियों की चपेट में आ गए हैं।

यह भी पढ़ें- जाने सभी आईपीएल टीमों के रिटेन खिलाड़ियों के नाम

इसके अलावा हल्के और मध्यम कोविड -19(Covid-19) रोगियों में असंक्रमित की तुलना में मृत्यु दर में उल्लेखनीय वृद्धि नहीं हुई है, जो टीकाकरण के माध्यम से गंभीर बीमारी की संभावना को कम करने के महत्व को उजागर करता है।

Input : आईएएनएस ; Edited by Lakshya Gupta

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें/

Popular

सैमसंग का स्मार्टफोन(pixabay)

दुनिया में नए फ़ोन के साथ उनकी तकनिकी बढ़ती जा रही हैं इसी बीच 5जी जैसे कारकों से प्रेरित, घटक की कमी और सैमसंग द्वारा फोल्डेबल/फ्लिप फॉर्म फैक्टर , वैश्विक स्मार्टफोन थोक मूल्य 2020 में 279 डॉलर (लगभग 20,686 रुपये) से 310 डॉलर (लगभग 22,984 रुपये) तक 11 प्रतिशत से अधिक (ऑन-ईयर) बढ़ी है।2013 के बाद से यह स्मार्टफोन उद्योग में सबसे उच्चतम कीमतें हैं। नए शोध के अनुसार मार्केट रिसर्च फर्म स्ट्रैटेजी एनालिटिक्स के, वैश्विक स्मार्टफोन थोक का राजस्व 2021 में अपने उच्चतम मूल्य 435 बिलियन डॉलर तक पहुंचने के लिए सालाना 21 प्रतिशत से अधिक बढ़ने की उम्मीद है।

रणनीति विश्लेषिकी में विश्लेषक अभिलाष कुमार ने कहा, "यह स्मार्टफोन की बिक्री की मात्रा से प्रेरित है जो सालाना प्लस9 प्रतिशत और उच्च औसत मूल्य बिंदु पर पलटाव करेगा। यह पहली बार है कि पिछले नौ वर्षो में औसत वैश्विक थोक मूल्य 300 डॉलर का आंकड़ा पार कर गया है।"

कुमार ने कहा, "कीमतों में बढ़ोतरी 5जी स्मार्टफोन्स की ओर टेक माइग्रेशन, कंपोनेंट की कमी के कारण आपूर्ति की कमी की वजह से हुई हैं, इसलिए कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है और सैमसंग द्वारा फोल्डेबल/फ्लिप फॉर्म फैक्टर जैसे नए हार्डवेयर इनोवेशन किए जा रहे हैं।"

\u0938\u0948\u092e\u0938\u0902\u0917 सैमसंग के समृद्ध स्मार्टफोन (pixabay )

Keep Reading Show less