Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

हम समाज में लैंगिक विभाजन को पाटने का संकल्प लेते हैं- Smriti Irani

राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

महिला बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी (Wikimedia Commons)

जैसा कि राष्ट्र ने 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस(National Girl Child Day) मनाया, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री(Union Minister of Women and Child Development) श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी(Smriti Zubin Irani) ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

"शिक्षित करें, प्रोत्साहित करें, सशक्त करें! आज का दिन हमारी लड़कियों को समान अवसर प्रदान करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता को नवीनीकृत करने का दिन है। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर, जैसा कि हम अपनी बेटियों की उपलब्धियों का जश्न मनाते हैं, हम एक समावेशी और समान समाज के निर्माण के लिए लिंग भेद को पाटने का संकल्प लेते हैं”, ईरानी ने अपने ट्वीट संदेश में कहा।


smriti irani, ministry of women and child development महिला बाल विकास मंत्रालय (Wikimedia Commons)

यह भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस समारोह में प्रधानमंत्री Narendra Modi ने उत्तराखंड की टोपी और मणिपुर की स्टोल पहन बटोरी सुर्खियां

भारत की लड़कियों को समर्थन और अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से हर साल 24 जनवरी को देश में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना और बालिका शिक्षा और उनके स्वास्थ्य और पोषण के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना और समाज में लड़कियों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए समाज में लड़कियों की स्थिति को बढ़ावा देना है। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत पहली बार 2008 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा की गई थी।

Input-IANS; Edited By-Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

सुभाष चंद्र बोस (File Photo)

हमने अपनी स्कूल(School) की किताबों में अवश्य यह पढ़ा होगा की भारत को स्वतंत्र कराने का काम महात्मा गांधी(Mahatma Gandhi) एवं कांग्रेस(Congress) ने किया है , हो सकता है कई लोग इसे सच्चाई समझ बैठे हो और इसको स्वीकार कर लिया हो की आज़दी चरखा चलाकर ही प्राप्त हुई है, परन्तु इस बात के पीछे भी बहुत रहस्य हैं।

आप लोगों के मन में भी यह अवश्य प्रश्न आता होगा , क्या अंग्रेज(British Government) इतने कमजोर थे कि कांग्रेस(Congress) के द्वारा चलाए जा रहे आंदोलनों को दबा ना सके? ये वही अंग्रेज थे जिन्होंने 1857 में हुए स्वतंत्रता संग्राम को दबा दिया , असहयोग आंदोलन से लेकर भारत छोड़ो आंदोलन ना जाने इनके बीच कितने आंदोलनों को अंग्रेजों ने दबा दिया फिर भी क्या कारण था कि अंग्रेजों को भारत छोड़ना पड़ा?

Keep Reading Show less

नेताजी भारतीय लोगों के दिलों में थे, हैं और आगे भी रहेंगे। ( Wikimedia Commons )

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती समारोह पराक्रम दिवस के अंग के तौर पर आयोजित एक वेबिनार में जर्मनी से शामिल हुईं नेताजी सुभाष चंद्र बोस की बेटी डॉ. अनीता बोस फाफ ने कहा कि नेताजी के पास भारत की वित्तीय और आर्थिक मजबूती के लिए एक विजन था और भारत को आजादी मिलने से पहले ही उन्होंने एक योजना आयोग का गठन कर लिया था।

जर्मनी से इस वेबिनार को संबोधित करते हुए डॉ. अनीता बोस फाफ ने कहा कि नेताजी भारतीय लोगों के दिलों में थे, हैं और आगे भी रहेंगे। उन्होंने कहा कि हालांकि उनके पिता एक धर्मनिष्ठ हिंदू थे लेकिन उनके मन में सभी धर्मों के लिए सम्मान था। उनके पिता ने एक ऐसे भारत की कल्पना की थी जहां सभी धर्म के लोग शांतिपूर्वक सह-अस्तित्व में रहते हों। उन्होंने कहा कि नेताजी लैंगिक समानता के हिमायती थे। उनका दृष्टिकोण एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण करना था जहां पुरुषों और महिलाओं को न केवल समान अधिकार हों, बल्कि वे समान कर्तव्यों का पालन भी कर सकें।

Keep Reading Show less

झारखंड के गोमो रेलवे स्टेशन से जुड़ीं हैं नेता जी की यादें।(Pixabay)

18 जनवरी 1941- यही वो तारीख थी, जब नेताजी सुभाष चंद्र ने आजादी के लिए सशस्त्र संघर्ष छेड़ने के इरादे के साथ देश छोड़ा था। वह इसी दिन झारखंड के गोमो स्थित रेलवे स्टेशन से कालका मेल पकड़कर नेताजी पेशावर के लिए रवाना हुए थे। गोमो के लोगों ने नेताजी से जुड़ी यादें 82 साल बाद आज भी ताजा रखी हैं। उस घटना को याद करने के लिए इस बार भी 17-18 जनवरी की आधी रात को गोमो जंक्शन पर बड़ी संख्या में स्थानीय लोग जमा हुए। इस दौरान हावड़ा-कालका नेताजी एक्सप्रेस ट्रेन के चालक, गार्ड और कर्मचारियों को सम्मानित भी किया गया।

आजाद हिंद फौज को कायम करने के लिए नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने जब देश छोड़ा था, तो उन्होंने आखिरी रात इसी जगह पर गुजारी थी। इसे अब नेताजी सुभाष चंद्र बोस जंक्शन के नाम से जाना जाता है।अंग्रेजी हुकूमत द्वारा नजरबंद किये गये सुभाष चंद्र बोस के देश छोड़ने की यह परिघटना इतिहास के पन्नों पर द ग्रेट एस्केप के रूप में जानी जाती है। 'द ग्रेट एस्केप' की यादों को सहेजने और उन्हें जीवंत रखने के लिए झारखंड के नेताजी सुभाष चंद्र बोस जंक्शन के प्लेटफार्म संख्या 1-2 के बीच उनकी आदमकद कांस्य प्रतिमा लगाई गई है।

Keep reading... Show less