Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

हम समाज में लैंगिक विभाजन को पाटने का संकल्प लेते हैं- Smriti Irani

राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

महिला बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी (Wikimedia Commons)

जैसा कि राष्ट्र ने 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस(National Girl Child Day) मनाया, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री(Union Minister of Women and Child Development) श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी(Smriti Zubin Irani) ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

"शिक्षित करें, प्रोत्साहित करें, सशक्त करें! आज का दिन हमारी लड़कियों को समान अवसर प्रदान करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता को नवीनीकृत करने का दिन है। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर, जैसा कि हम अपनी बेटियों की उपलब्धियों का जश्न मनाते हैं, हम एक समावेशी और समान समाज के निर्माण के लिए लिंग भेद को पाटने का संकल्प लेते हैं”, ईरानी ने अपने ट्वीट संदेश में कहा।


smriti irani, ministry of women and child development महिला बाल विकास मंत्रालय (Wikimedia Commons)

यह भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस समारोह में प्रधानमंत्री Narendra Modi ने उत्तराखंड की टोपी और मणिपुर की स्टोल पहन बटोरी सुर्खियां

भारत की लड़कियों को समर्थन और अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से हर साल 24 जनवरी को देश में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना और बालिका शिक्षा और उनके स्वास्थ्य और पोषण के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना और समाज में लड़कियों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए समाज में लड़कियों की स्थिति को बढ़ावा देना है। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत पहली बार 2008 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा की गई थी।

Input-IANS; Edited By-Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

खुफिया एजेंसियों ने पंजाब में सिख आतंकवादी संगठनों के हमले का खतरा बताया। [Pixabay]

पंजाब में विधानसभा चुनाव (Assembly Elections in Punjab 2022) से पहले खुफिया एजेंसियों ने राज्य प्रशासन को हाई अलर्ट पर रहने की सलाह दी है। एजेंसियों ने राज्य प्रशासन को चेताया है कि सिख फॉर जस्टिस (SFJ), बब्बर खालसा जैसे सिख आतंकवादी संगठन (Terrorist Organization) राज्य के अन्य शहरों में आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे सकते हैं। सूत्र के मुताबिक, इन आतंकवादी संगठनों को पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) द्वारा सक्रिय रूप से समर्थन मिल रहा है। ISI उन्हें चुनावी राज्य में शांति भंग करने के लिए उकसाने का काम कर रहा है।

एजेंसियों ने राज्य प्रशासन को राज्य भर में कड़ी निगरानी रखने के साथ साथ सीमा सुरक्षा बल (BSF) को ड्रोन पर विशेष ध्यान देने को भी कहा है। इसके साथ ही पंजाब में पाकिस्तान के साथ पश्चिमी सीमा पर घुसपैठ के प्रयासों की जांच करने की सलाह दी गयी है।

वहीं 23 दिसंबर को लुधियाना में हाल ही में हुए विस्फोट का मुख्य साजिशकर्ता खालिस्तानी आतंकवादी (Khalistani Terrorist) जसविंदर सिंह मुल्तान जर्मनी की आतंकवाद विरोधी एजेंसियों द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है।

खुफिया एजेंसियों के अनुसार, SFJ और बब्बर खालसा के कई सक्रिय सदस्यों को ISI ने विधानसभा चुनावों में पंजाब को आतंकवादी हमलों (Terrorist Attacks) से अस्थिर करने का काम सौंपा गया है।

Keep Reading Show less

भारत ने रूस और चीन से कहा कि अफगान क्षेत्र का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों के लिए नहीं किया जाना चाहिए।(IANS)

भारत ने रूस और चीन से कहा कि लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूहों द्वारा अफगान क्षेत्र का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों के लिए नहीं किया जाना चाहिए। RIC Meeting त्रिपक्षीय ढांचे की 18 वीं बैठक की अध्यक्षता के दौरान रखा, जो शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग पर हुई, जिसमें रूस और चीन के विदेश मंत्रियों सेर्गेई लावरोव और वांग यी ने भी भाग लिया।

जयशंकर ने अफगानिस्तान में समावेशी और प्रतिनिधि सरकार होने पर भारत के रुख को दोहराते हुए कहा, "RIC देशों के लिए आतंकवाद, कट्टरपंथ, मादक पदार्थों की तस्करी आदि के खतरों पर संबंधित दृष्टिकोणों का समन्वय करना आवश्यक है।" मंत्री ने मास्को और बीजिंग के अपने दो समकक्षों को बताया कि, अफगान लोगों की भलाई के लिए भारत की प्रतिबद्धता के अनुरूप, नई दिल्ली ने देश में सूखे की स्थिति से निपटने के लिए अफगानिस्तान को 50,000 मीट्रिक टन गेहूं की आपूर्ति की पेशकश की थी।

हालांकि, मानवीय पहल में रुकावट आ गई थी, क्योंकि बुधवार तक पाकिस्तान इस खेप को अपने क्षेत्र से गुजरने की अनुमति देने के लिए प्रतिबद्ध नहीं था। जयशंकर ने आज कहा, "RIC देशों को यह सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम करने की जरूरत है कि मानवीय सहायता बिना किसी रुकावट और राजनीतिकरण के अफगान लोगों तक पहुंचे। एक निकट पड़ोसी और अफगानिस्तान के लंबे समय से साथी के रूप में, भारत उस देश में हाल के घटनाक्रमों, विशेष रूप से अफगान लोगों की पीड़ा के बारे में चिंतित है।"

तीनों मंत्रियों ने इस बात पर सहमति जताई कि आरआईसी देशों के बीच सहयोग न केवल उनके अपने विकास में बल्कि वैश्विक शांति, सुरक्षा, स्थिरता में भी योगदान देगा। जयशंकर ने अपने संबोधन में, आरआईसी तंत्र के तहत यूरेशियन क्षेत्र के तीन सबसे बड़े देशों के बीच घनिष्ठ संवाद और सहयोग को बढ़ावा देने के लिए भारत की निरंतर प्रतिबद्धता की भी पुष्टि की। उन्होंने कहा, "मेरा मानना है कि व्यापार, निवेश, स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और राजनीति आदि क्षेत्रों में हमारा सहयोग वैश्विक विकास, शांति और स्थिरता में महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है।"

kashmir, makhan lal bindroo, terrorist attack, article 370

Keep Reading Show less

जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली (सांकेतिक चित्र Pixabay)

हम अक्सर देखा है की आतंकवादी हमेशा दिल्ली या मुंबई जैसे महानगरों के भीड़भाड़ वाले इलाकों में विस्फोटक रखने के लिए डस्टबिन का इस्तेमाल करते आएं हैं लेकिन अब भारत ने आतंकियों के मंसूबो पर पानी फेरने के लिए तरीका खोज निकाला है। भारत ने अब एक ऐसे उपकरण का आविष्कार किया हैं जोकि रेडियो एक्टिव पदार्थों व विस्फोटों की तुरंत पहचान कर ऐसे आतंकी हमलों को रोक देगा। इस अविष्कार में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की भी मदद ली गई है।

दिल्ली विश्वविद्यालय और जामिया मिलिया इस्लामिया की एक फैकल्टी ने मिलकर एक ऐसा डस्टबिन इजात किया है जोकि इंसानो की तरह व्यवहार करता है और कृतिम बुद्धि होने के कारण समझदारी से काम करता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक यह डस्टबिन अर्ली वार्निंग के ज़रिये रसायनिक हमले और विस्फोटकों से सुरक्षा प्रदान करने में सक्षम है।

Keep reading... Show less