Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम

मेटा के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है।

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)

मेटा(Meta) के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है। एनगैजेट की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने कहा कि यूजर्स के फीड और स्टोरीज में पोस्ट करने के तरीके को सशक्त करने वाला एल्गोरिदम अब ऐसे कंटेंट को प्राथमिकता देगा, जिसमें 'बदमाशी, अभद्र भाषा या हिंसा भड़काने वाली सामग्री हो सकती है।'

इंस्टाग्राम के नियम पहले से ही इस प्रकार की अधिकांश सामग्री को प्रतिबंधित करते हैं, जबकि परिवर्तन सीमा रेखा पोस्ट या कंटेंट को प्रभावित कर सकता है जो अभी तक ऐप के मॉडरेटर तक नहीं पहुंची है। कंपनी ने एक अपडेट में बताया, "यह समझने के लिए कि क्या कोई चीज हमारे नियमों को तोड़ सकती है, हम चीजों को देखेंगे जैसे कि कैप्शन एक कैप्शन के समान है जो पहले हमारे नियमों को तोड़ता था।"


Instagram, Meta, Social Media, \u0907\u0902\u0938\u094d\u091f\u093e\u0917\u094d\u0930\u093e\u092e, \u092e\u0947\u091f\u093e 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)


अब तक, इंस्टाग्राम ने ऐप के सार्वजनिक-सामना वाले हिस्सों से संभावित आपत्तिजनक कंटेंट को छिपाने की कोशिश की है, जैसे कि एक्सप्लोर लेकिन यह नहीं बदला है कि इस प्रकार की सामग्री पोस्ट करने वाले खातों का पालन करने वाले यूजर्स के लिए यह कैसा दिखता है। लेटेस्ट परिवर्तन का अर्थ है कि 'समान' वाली पोस्ट जिन्हें पहले हटा दिया गया है, वे विजिटर्स को भी बहुत कम दिखाई देंगी। मेटा के एक प्रवक्ता ने पुष्टि की कि 'संभावित रूप से हानिकारक' पोस्ट अभी भी अंतत: हटाए जा सकते हैं यदि पोस्ट अपने सामुदायिक दिशानिर्देशों को तोड़ती है।

यह भी पढ़ें - नेताजी के पास था भारत की वित्तीय और आर्थिक मजबूती का एक विजन : डॉ. अनीता बोस फाफ

अपडेट 2020 में इसी तरह के बदलाव का अनुसरण करता है जब इंस्टाग्राम ने डाउन-रैंकिंग अकाउंट शुरू किया, जिसमें गलत सूचना साझा की गई थी, जिसे फैक्ट-चेकर्स ने खारिज कर दिया था। इस बदलाव के विपरीत, हालांकि, इंस्टाग्राम ने कहा कि लेटेस्ट नीति केवल व्यक्तिगत पोस्ट को प्रभावित करेगी और 'कुल खातों को नहीं'। (आईएएनएस - AS)

Popular

त्रिपुरा में दंगे भड़काने के आरोप में गिरफ्तार की गई थी दोनों पत्रकार जिनको कोर्ट द्वारा जमानत दे दी गई है (pixabay)

हमारा लोकतंत्र(Democracy) इतना विशाल है कि कभी-कभी बेकसूर को सजा मिल जाती है और जिसने गुनाह किया होता है उसका कुछ नहीं होता आज हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि त्रिपुरा पुलिस(Tripura Police) ने रविवार को रिकॉर्ड छुपाकर समुदायों के बीच नफरत पैदा करने और आपराधिक साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार की गईं दिल्ली की दो महिला पत्रकारों सकुनिया और स्वर्णा झा जो एचडब्ल्यू न्यूज नेटवर्क के लिए काम करती हैं इनको सोमवार को त्रिपुरा के गोमती जिला मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत ने जमानत दे दी।

पत्रकार समृद्धि के. सकुनिया और स्वर्णा झा के लिए जमानत(Bail) की मांग करने वाले वरिष्ठ वकील पीयूष कांति बिस्वास ने कहा कि अदालत ने 75,000 रुपये के मुचलके पर जमानत दी और उन्हें मंगलवार को काकराबन थाने में रिपोर्ट करने को कहा। बिस्वास ने आईएएनएस से कहा, "मैंने अदालत से कहा है कि जरूरत पड़ने पर पुलिस पत्रकारों से पूछताछ कर सकती है।"

Keep Reading Show less

बांग्लादेश के हिंदू मंदिरों को बनाया निशाना। (Wikimedia Commons)

बांग्लादेश के अल्पसंख्यक निकाय के प्रमुख ने हिंदू मंदिरों पर हमले सहित हिंसा की हालिया घटनाओं के विरोध में 23 अक्टूबर को एक दिवसीय विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया है। पिछले तीन दिनों में हमलों में कम से कम चार लोग मारे गए हैं और 70 अन्य घायल हुए हैं। जिन हिंदू नेताओं ने पहले चटगांव में पुलिस की मौजूदगी में दुर्गा पूजा स्थल पर हमलों और तोड़फोड़ के खिलाफ आवाज उठाने के लिए देवी दुर्गा की मूर्तियों को विसर्जित करने से इनकार कर दिया था, उन्होंने आखिरकार शनिवार को मूर्तियों का विसर्जन कर दिया।

बांग्लादेश हिंदू बौद्ध ईसाई एकता परिषद (बीएचबीसीयूसी) के महासचिव एडवोकेट राणा दासगुप्ता ने कहा कि बांग्लादेश के 20 जिलों में दुर्गा पूजा के दौरान धार्मिक कट्टरपंथियों के हमलों में कम से कम चार लोग मारे गए और 70 अन्य घायल हो गए।

Keep Reading Show less

 श्रीलंका के इस्लामिक स्टेट के नेता जहरान हाशिम के वीडियो और भाषणों का इस्तेमाल तमिलनाडु के युवाओं को कट्टरपंथी बनाने के लिए ‘जिहादी’ गिरोह ‘शहादत हमारा मकसद’ (शहादत इज आवर गोल) की ओर से किया गया था। जिहादी गिरोह ने 2017-2018 के दौरान तमिलनाडु में युवाओं को कट्टरपंथी बनाकर जेलों में बंद अपने साथियों को आजाद कराने के लिए हिंसक जिहाद का आह्वान किया था।

इस गिरोह की ओर से विभिन्न सोशल मीडिया ग्रुप बनाए गए थे। विशेष रूप से व्हाट्सएप ग्रुप बनाए गए थे, जिन पर कुछ समय बाद ही क्षेत्र में हिंसक जिहाद की वकालत करने वाली सामग्रियों को प्रसारित करना शुरू कर दिया गया। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने शनिवार को चेन्नई की विशेष अदालत में गिरोह के 10 गिरफ्तार सदस्यों के खिलाफ दायर अपने आरोपपत्र (चार्जशीट) में इन तथ्यों का खुलासा किया है।

Keep reading... Show less