Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

Republic Day 2022 के मौके पर राजपथ पर होगा उत्तराखंड की सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन

बीते साल 2021 में उत्तराखंड की झांकी केदारखंड के मॉडल को स्वीकृति मिली थी। राजपथ पर निकली 'केदारखण्ड की झांकी,' देश में तीसरे स्थान पर रही थी

गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर निकलने वाली झांकी में देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है।(IANS)

गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर निकलने वाली झांकी में देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है। इस बार गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर होने वाली परेड में मोक्षधाम भगवान बदरीविशाल, विश्वप्रसिद्ध टिहरी डैम, हेमकुंड साहिब, ऐतिहासिक डोबरा चांठी पुल से सजी देवभूमि उत्तराखंड की झांकी गणतंत्र दिवस राजपथ पर नजर आएगी। 73वें गणतंत्र दिवस में शामिल की गई इस झांकी में बदरीनाथ मंदिर, विश्वप्रसिद्ध टिहरी डैम, हेमकुंड साहिब,ऐतिहासिक डोबरा चांठी पुल की भव्यता एवं दिव्यता को दशार्या जाएगा।

बीते साल 2021 में उत्तराखंड की झांकी केदारखंड के मॉडल को स्वीकृति मिली थी। राजपथ पर निकली 'केदारखण्ड की झांकी,' देश में तीसरे स्थान पर रही थी। उत्तराखंड को पहली बार झांकी को लेकर पुरस्कार मिला था। राजपथ में केदारखंड की थीम पर निकली उत्तराखंड राज्य की झांकी को काफी सराहा गया था।


Republic day, Uttarakhand, Rajpath, \u0909\u0924\u094d\u0924\u0930\u093e\u0916\u0902\u0921, \u0917\u0923\u0924\u0902\u0924\u094d\u0930 \u0926\u093f\u0935\u0938 गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर निकलने वाली झांकी में देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है।(Wikimedia Commons)

इस बार 12 राज्यों में से देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है, जो समस्त प्रदेश वासियों के लिए गौरव की बात है। इस तरह राज्य गठन के बाद अब 13वीं बार उत्तराखंड की झांकी राजपथ पर होने वाली परेड का हिस्सा बनेगी।

यह भी पढ़ें - कोरोना महामारी में डोलो गोली की हुई रिकॉर्ड तोड़ बिक्री

पर्यटन सचिव श्री दिलीप जावलकर ने कहा कि आस्था का प्रतीक बदरीनाथ मंदिर, हेमकुंड साहिब, विश्वप्रसिद्ध टिहरी डैम और ऐतिहासिक डोबरा चांठी पुल अपने में उत्तराखंड की संस्कृति को समेटे हुए है। गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर इनकी झांकी निकलना हम सबके लिए गौरव की बात है। इसके माध्यम से देश भर के लोग उत्तराखंड की भव्यता और दिव्यता से भी रूबरू होने के साथ सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन किया जाएगा। (आईएएनएस-AS)

Popular

पूर्ततत्विदों द्वारा खोजा गया सूर्य मंदिर। (Twitter)

भारत का सनातन धर्म(Eternal Religion) पुरे विश्व भर में कितना प्रचलित ही यह बात किसी से छिपी नहीं है। दुनिया के विभिन्न हिस्सों में भारत(India) के सनातन धर्म की तर्ज पर प्रकृति पूजा की प्रथा कायम है। हमारे देश में लोग जैसे हिन्दू देवी-देवताओं के साथ सूर्य, चन्द्रमा, जल और पृथ्वी की पूजा करते हैं वैसे ही विश्व के विभिन्न हिस्सों और प्राचीन स्थानों पर लोग प्रकृति के विभिन्न आयामों की पूजा करते हैं। ऐसा ही एक जीता-जागता उदहारण मिस्त्र में देखने को मिला।

मिस्त्र में लोगों ने 4500 हज़ार साल पुराना प्राचीन सूर्य मंदिर(Sun Temple) खोज निकाला है। मान्यता है की यह मंदिर मिस्त्र के राजाओं द्वारा बनवाये गए थे और उनके द्वारा इन मंदिरों में पूजा भी की जाती थी। फिलहाल खोजकर्ताओं ने ऐसे ही 6 मंदिरों की खोज की है लकिन अवशेष और साबुत एक से प्राप्त हुए हैं। इस बात से यह चीज़ तो स्पष्ट है की मिस्त्र के लोग सूर्य की आराधना करते थे।

Keep Reading Show less