Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

हम समाज में लैंगिक विभाजन को पाटने का संकल्प लेते हैं- Smriti Irani

राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

महिला बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी (Wikimedia Commons)

जैसा कि राष्ट्र ने 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस(National Girl Child Day) मनाया, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री(Union Minister of Women and Child Development) श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी(Smriti Zubin Irani) ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

"शिक्षित करें, प्रोत्साहित करें, सशक्त करें! आज का दिन हमारी लड़कियों को समान अवसर प्रदान करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता को नवीनीकृत करने का दिन है। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर, जैसा कि हम अपनी बेटियों की उपलब्धियों का जश्न मनाते हैं, हम एक समावेशी और समान समाज के निर्माण के लिए लिंग भेद को पाटने का संकल्प लेते हैं”, ईरानी ने अपने ट्वीट संदेश में कहा।


smriti irani, ministry of women and child development महिला बाल विकास मंत्रालय (Wikimedia Commons)

यह भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस समारोह में प्रधानमंत्री Narendra Modi ने उत्तराखंड की टोपी और मणिपुर की स्टोल पहन बटोरी सुर्खियां

भारत की लड़कियों को समर्थन और अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से हर साल 24 जनवरी को देश में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना और बालिका शिक्षा और उनके स्वास्थ्य और पोषण के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना और समाज में लड़कियों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए समाज में लड़कियों की स्थिति को बढ़ावा देना है। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत पहली बार 2008 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा की गई थी।

Input-IANS; Edited By-Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

पाकिस्तान में श्रीलंकाई नागरिक की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई। (Wikimedia Commons)

पाकिस्तान(Pakistan) के पंजाब प्रान्त(Punjab Province) से इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई है। पंजाब प्रान्त में एक श्रीलंकाई नागरिक(Srilankan Citizen) प्रियंता कुमार दियवदना की ईशनिंदा(Ishninda) के आरोप में पीट-पीट कर हत्या कर दी गई।

पाकिस्तान के कट्टरपंथी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान के समर्थकों ने एक कपड़ा फैक्ट्री पर हमला किया और इसके जीएम दियवदना की पीट-पीट कर हत्या कर दी। इसके बाद भीड़ ने शव को जला दिया। एक पाकिस्तानी न्यूज़ चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक पोस्टमॉर्टेम की रिपोर्ट में खोपड़ी और जबड़े की हड्डी टूटने को मौत की वजह बताया गया है।

Keep Reading Show less

इंद्रेश कुमार, मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक और वरिष्ठ संघ नेता । [Wikimedia Commons]

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक और वरिष्ठ संघ नेता इंद्रेश कुमार (Indresh Kumar) ने देश के उलेमाओं से कहा कि मदरसे में सिर्फ दीनी और मजहबी तालीम न दें, बल्कि स्किल डेवलपमेंट, कंप्यूटर शिक्षा और दूसरी सभी तालीम भी दें। उन्होंने सीएए और एनआरसी की हिमायत की और विश्वास दिलाया कि दूसरे देशों के सताए अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता दी जाएगी। साथ ही साथ उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को अपनी सीमा में रहने की नसीहत दी।

अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण की निंदा करने पर इमरान खान की कड़ी आलोचना करते हुए वरिष्ठ संघ नेता ने कहा कि दुनिया के मुसलमानों के लिए क्या अयोध्या राम मंदिर समस्या है?

इंद्रेश कुमार (Indresh Kumar) ने कहा कि मदरसे अपनी जमीन को सिर्फ पढ़ाई तक ही सीमित रखें। मदरसों में गैर-कानूनी कामों को बढ़ावा देकर चंद लोग पूरे इस्लाम का नाम खराब करने की कोशिश करते हैं। ऐसे लोगों पर सख्ती की जरूरत है, ताकि ये दहशतगर्द इस्लाम, मुसलमान, मुल्क व मिल्लत का नाम न खराब कर सकें।

वरिष्ठ आरएसएस नेता ने शिक्षा पर जोर देते हुए कहा, "माता-पिता एवं अभिभावकों को चाहिए कि वे भले ही आधे पेट खाएं, लेकिन अपने नौनिहालों को बेहतरीन शिक्षा दें। उन्हें देशभक्ति और वतन के शहीदों की कहानियां भी बचपन से सुनाएं, ताकि अगली पीढ़ी हमारी गुजरी हुई पीढ़ी और गुजरे हुए कल की इज्जत करते हुए अपना भविष्य रोशन बनाए।"

इमरान खान ने अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण की निंदा की थी। संघ नेता ने इसका जवाब देते हुए कहा कि दुनिया के मुसलमानों के लिए क्या अयोध्या राम मंदिर समस्या है? आप भारत के आंतरिक मामलों में दखल देने में इतनी दिलचस्पी क्यों रखते हैं? हिंदू दुनिया में जहां कहीं भी रहते हैं, उस देश के कानूनों के मुताबिक रहते हैं।

Keep Reading Show less

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन(Twitter)

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन(Donald Trump's Administration) में इस्लामिक कट्टरपंथियों से भरे हुए मुल्क पाकिस्तान को सबसे पहले दिसंबर 2018 में धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन(violation of religious freedom) करने के लिए कंट्री ऑफ पर्टिकुलर कॉन्सर्न (सीपीसी) की इस सूची में रखा गया इसके बाद 2020 में भी इसे बरकरार रखा था। लेकिन पाकिस्तान की सरकार को यह उम्मीद थी कि सत्ता परिवर्तन के बाद उसके दिन फिरेंगे। लेकिन बाइडेन प्रशासन ने इन उम्मीदों में पानी फेर दिया।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन(Antony Blinken) ने धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन(violation of religious freedom) करने के लिए पाकिस्तान को कंट्री ऑफ पर्टिकुलर कॉन्सर्न (सीपीसी) के रूप में फिर से नामित किया है जिससे पाकिस्तान सरकार को झटका भी लगा है। पाकिस्तान के अलावा तालिबान को एक विशेष चिंता की इकाई के रूप में पुन: ब्रांडेड किया है। डॉन न्यूज की रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई। डॉन न्यूज की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल जनवरी में सत्ता में आए जो बाइडेन प्रशासन ने दो बदलावों के साथ पुरानी सूची को बरकरार रखा है, जिसमें रूस को शामिल किया गया है और सूडान को सीपीसी श्रेणी से हटा दिया गया है।

Keep reading... Show less