Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

क्या आसान है हिन्दू धर्म का मजाक उड़ाना?

अज्ञानता के कारण लोग अपने गौरवशाली धर्म को नहीं समझ पा रहे हैं। जिस वजह से वह इस धर्म का बनाने से भी पीछे नहीं हट रहे हैं।

गणेश जी की मूर्ती (unsplash)

हिंदुस्तान एक ऐसा देश है जहां विभिन्न धर्मो के लोग रहते है। हर एक धर्म की अपनी अलग मान्यताएँ भी है। किसी भी धर्म को सामान नज़रिये से देखा जाना चाहिए, लेकिन क्या ऐसा होता है? मेरे लिए इसका उत्तर है नहीं। हिंदुस्तान में अनेक धर्म तो है लेकिन हिन्दू धर्म का खास तौर पर मज़ाक बनाया जाता है। ऐसा क्यों है कि सनातन धर्म का मज़ाक बनाना आसान है। इसके पीछे बहुत से कारण है, इस आर्टिकल में इन्ही कुछ कारणों पर रोशनी डाली गई है।

जागरूकता की कमी- आज का युवा सोशल मीडिया में इतना खोया हुआ है कि उसे मालूम ही नहीं है कि उनका धर्म कितना गौरवशाली है। जब किसी धर्म का युवा ही जागरूक नहीं होगा तो उस धर्म का प्रचार कौन करेगा। ज्यादातर हिन्दू युवाओं को मालूम तक नहीं है कि वेद कितने प्रकार के होते हैं, हमारे धर्म में कितने उपनिषद है, भगवत गीता में कितने श्लोक है। इस अज्ञानता की वजह से कोई भी आकर कुछ भी हिन्दू धर्म के बारे में बुरा कह जाता है और लोग उसी को सच मान लेते है। लोगों में अपने धर्म के बारे में जानने की इच्छा ही नहीं है।


पहले के समय में गुरुकुल हुआ करते थे, जो एक-एक करके समाप्त होते गए जिसकी वजह से लोग अपनी ही संस्कृति के बारे में जान नहीं पाए। आजकल लोग भी शास्त्रों को पढ़ने से कतराते है। वर्तमान काल में हिन्दू देवी देवताओं का मजाक उड़ाने का प्रचलन चल रहा है। कोई भी आकर हिन्दू धर्म का मज़ाक उड़ा कर चला जाता है और अज्ञानी लोग उस पर तालियां मारते हैं। इन लोगो ने अपने ही धर्म का मज़ाक बना कर रख दिया हैं। कॉमेडी और फिल्मों के माध्यम से लगातार धर्म को टारगेट किया जा रहा है। और हैरान करने वाली बात यह है कि उस धर्म के लोग आंख बंद करके उसे यूँ ही जाने देते हैं।

जिन फिल्मों में सच्चाई के अलावा सब कुछ दिखा दिया जाता है उसे ही लोग सच मन लेते है। फिर बिना अपने धर्म को पढ़े उसकी निंदा करते है। वैसे तो भारत एक सेकुलर देश है, जिसका मतलब है सभी धर्म एक सामान है। लेकिन सच्चाई यह नहीं है, हिंदुओं के कार्यक्रमों को लगातार निशाना बनाया जा रहा है। चाहे कोई भी त्यौहार हो हर एक त्यौहार के लिए प्रोपेगेंडा चलाया जाता है। दिवाली पर प्रदुषण, होली पर पानी और मिठाईयों से मोटापे जैसे बहुत सारे उदाहरण है।

यह भी पढ़ेंः युवाओं को कैसे प्रभावित कर रहा है नशा?

हिन्दू धर्म का मज़ाक उड़ाने का सिलसिला बढ़ता जा रहा है क्योंकि इस धर्म के लोगों को ज्यादा लड़ाई झगड़ा पसंद नहीं है। इन्हें बस अपने परिवार की चिंता है, इनकी संस्कृति चाहे बर्बाद हो जाए लेकिन इनका परिवार खुश रहना चाहिए। अगर ऐसा ही चलता रहा तो यह हिंदुस्तान के लिए ठीक नहीं होगा और वह दिन भी दूर नहीं होगा जब हमे अपने अस्तित्व के लिए लड़ना पड़े।

Popular

उत्तर प्रदेश के युवाओं के लिए अच्छी खबर। युवाओं को नौकरी और सेवायोजन के काम को अभियान का रूप देते हुए योगी सरकार मिशन रोजगार का आगाज करने जा रही है। मुख्यमंत्री ने नवम्बर 2020 से मार्च 2021 तक प्रदेश में 50 लाख युवाओं को सेवायोजित करने का लक्ष्य तय किया है। यह सेवायोजना मनरेगा से अलग होगी। इसमें सरकारी विभागों, परिषद, निगमों में खाली पदों पर नियुक्ति की प्रक्रिया तो पूरी होगी ही, सरकारी प्रयासों से निजी क्षेत्र में अथवा स्वरोजगार के नए अवसर भी सृजित किए जाएंगे। मिशन रोजगार की कार्ययोजना तैयार है, दीपावली के बाद मुख्यमंत्री इसकी औपचारिक शुरूआत करेंगे। बुधवार को मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने शासन स्तर के उच्चाधिकारियों के साथ मिशन रोजगार की कार्ययोजना पर विचार विमर्श कर अंतिम रूप दिया।

मुख्य सचिव ने कहा कि, “मिशन रोजगार के अन्तर्गत प्रदेश सरकार के विभिन्न विभागों, संगठनों, स्वयंसेवी संस्थाओं, निगम परिषदों, बोर्डो तथा प्रदेश सरकार के विभिन्न स्थानीय निकायों के माध्यम से एक समन्वित रूप से प्रदेश में स्वरोजगार के अधिक से अधिक अवसर सृजित किए जाने का अभियान चलाया जाये।”

Keep Reading Show less
ऑनलाइन, ई-लर्निग जॉब्स की मांग में 4 गुणा वृद्धि : NAUKRI.COM(Naukri.com, Twitter)

अग्रणी जॉब पोर्टल-नौकरी डॉट कॉम ने शुक्रवार को कहा कि उसके प्लेटफॉर्म पर बीते साल की तुलना में कोरोनावायरस महामारी के दौरान पेशेवरों की तरफ से ऑनलाइन, ई-लर्निग और रिमोट रोल्स की मांग में चार गुणा वृद्धि देखी गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि महामारी की मौजूदा स्थिति में शिक्षा के क्षेत्र में घर से काम करने संबंधी जॉब लिस्टिंग में भी साढ़े तीन गुणा इजाफा हुआ है।

जुलाई में शिक्षा और शिक्षण के क्षेत्र में नौकरी डॉट कॉम पर 1000 नई नौकरियां जोड़ी गईं। इनमें से शीर्ष छह मेट्रो शहरों से 55 फीसदी नए जॉब्स जोड़े गए और इनमें दिल्ली-एनसीआर तथा बेंगलुरू सबसे आगे हैं।

Keep Reading Show less