Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

हम समाज में लैंगिक विभाजन को पाटने का संकल्प लेते हैं- Smriti Irani

राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

महिला बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी (Wikimedia Commons)

जैसा कि राष्ट्र ने 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस(National Girl Child Day) मनाया, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री(Union Minister of Women and Child Development) श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी(Smriti Zubin Irani) ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

"शिक्षित करें, प्रोत्साहित करें, सशक्त करें! आज का दिन हमारी लड़कियों को समान अवसर प्रदान करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता को नवीनीकृत करने का दिन है। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर, जैसा कि हम अपनी बेटियों की उपलब्धियों का जश्न मनाते हैं, हम एक समावेशी और समान समाज के निर्माण के लिए लिंग भेद को पाटने का संकल्प लेते हैं”, ईरानी ने अपने ट्वीट संदेश में कहा।


smriti irani, ministry of women and child development महिला बाल विकास मंत्रालय (Wikimedia Commons)

यह भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस समारोह में प्रधानमंत्री Narendra Modi ने उत्तराखंड की टोपी और मणिपुर की स्टोल पहन बटोरी सुर्खियां

भारत की लड़कियों को समर्थन और अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से हर साल 24 जनवरी को देश में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना और बालिका शिक्षा और उनके स्वास्थ्य और पोषण के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना और समाज में लड़कियों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए समाज में लड़कियों की स्थिति को बढ़ावा देना है। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत पहली बार 2008 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा की गई थी।

Input-IANS; Edited By-Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

गूगल लॉन्च कर सकता है नया फोल्डेबल फोन जिसको कह सकते है "पिक्सल नोटपैड" (Pixabay)

सर्च ईंजन गूगल अपने पहले फ़ोल्डबल फ़ोन 'पिक्सल फोल्ड' को लॉन्च करने की योजना बना रही है। गूगल ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि इस फोल्डेबल फोन को पिक्सल नोटपैड कहा जा सकता है।
गिज्मोचाइना के रिपोर्ट के अनुसार, सिम सेटअप स्क्रीन के एनिमेशन में एक स्मार्टफोन दिखाया गया है जिसमें एक साधारण सिंगल-स्क्रीन डिजाइन नही बल्कि एक बड़ा फोल्डेबल डिस्प्ले है।

नाइन टू फाइव गूगल के अनुसार, यह डिवाइस गैलेक्सी जेड फोल्ड 3 से कम कीमत की हो सकती है। इस फोल्डेबल डिवाइस की कीमत 1,799 डॉलर हो सकती है।

Keep Reading Show less

भारत में बढ़ रही है फोल्डेबल स्मार्टफोन की बिक्री!(Wikimedia Commons)

भारत(India) में 2021 में फोल्डेबल स्मार्टफोन(Foldable Smartphone) की बिक्री में 638 प्रतिशत की भारी उछाल देखने को मिल सकती है और इनके 2022 में रिकॉर्ड 3 लाख यूनिट की बिक्री को छूने की उम्मीद है। बुधवार को एक नई रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई। फोल्डेबल स्मार्टफोन का राजस्व (Revenue) अगले साल 60 प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद है, जो उद्योग के लिए 3,200 करोड़ रुपये में अनुवाद करता है।

Samsung galaxy z, Foldable Smartphones सैमसंग के लिए फोल्डेबल स्मार्टफोन की बिक्री से राजस्व में होगी वृद्धि! (Wikimedia Commons)

Keep Reading Show less

10 में से 7 माता-पिता ने कबूला - अधिक फोन इस्तेमाल से उनके बच्चों के साथ संबंध हुए खराब। [Pixabay]

कम से कम 69 प्रतिशत माता-पिता का मानना है कि जब वे अपने स्मार्टफोन (smartphone) में डूबे रहते हैं तो वे अपने बच्चों, परिवेश पर ध्यान नहीं देते हैं और 74 प्रतिशत मानते हैं कि जब उनके बच्चे उनसे कुछ पूछते हैं तो वे चिढ़ जाते हैं। मंगलवार को एक रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई है।

साइबरमीडिया रिसर्च (CMR) के सहयोग से स्मार्टफोन ब्रांड वीवो (vivo) द्वारा 'स्मार्टफोन और मानव संबंध' नामक एक नई रिपोर्ट यूजर्स पर स्मार्टफोन के प्रभाव और उनके संबंधों पर इसके प्रभाव को दर्शाती है।

वीवो इंडिया के ब्रांड स्ट्रैटेजी के डीजीएम योगेंद्र श्रीरामुला ने आईएएनएस से कहा, "किसी भी व्यवहार परिवर्तन में सबसे कठिन चीज जो हमें चाहिए, वह है पहला कदम उठाना।"

श्रीरामुला ने कहा, "इस सर्वेक्षण और बाकी अभियान के माध्यम से यहां हमारा काम अवचेतन मन से उस ज्ञान को चेतन मन में लाना है।"

रिपोर्ट में रेखांकित किया गया है कि स्मार्टफोन (smartphone) पर बिताया जाने वाला औसत दैनिक समय कोविड (covid-19) के बाद के युग में खतरनाक स्तर पर बना हुआ है, क्योंकि पूर्व-कोविड अवधि से स्मार्टफोन पर बिताए गए समय में 32 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

smartphones, relationship of parents with kids, technology, social interaction लोग अपने फोन का इस्तेमाल खाना खाते समय (70 फीसदी) और परिवार के साथ बैठकर (75 फीसदी) करते हैं। [Pixabay]

Keep reading... Show less