Saturday, July 24, 2021
Tags Tibet

Tag: tibet

दलाई लामा : धार्मिक स्वतंत्रता विचार की स्वतंत्रता ही अभिव्यक्ति है

आजकल हम धार्मिक विश्वास की संरचना और मूल्यों के पालन के बीच अंतर कर सकते हैं जो धर्म का सार है, ईमानदारी और सौहार्दता। गैर-विश्वासियों को भी ईमानदार और सच्चा होना चाहिए।

पीएम मोदी ने तिब्बती आध्यात्मिक गुरु दलाई लामा को 86 वें जन्मदिन पर दी बधाई

भारत और चीन के बीच हाल के महीनों में बिगड़ते संबंधों और एक रणनीतिक बदलाव के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को तिब्बती आध्यात्मिक गुरु को उनके 86 वें जन्मदिन की बधाई दी

मुश्किल समय टिकता नहीं है, लेकिन खुशी जरूर रहती है: दलाई लामा

विशाल गुलाटी मुश्किल समय टिकता नहीं है, लेकिन खुशी बनी रहती है- कम से कम तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई...

तिब्बत में विकास और परिवर्तन अद्भुत है : फ्रांसीसी लेखिका

एक दशक से अधिक समय पहले जब मैंने पहली बार तिब्बत (Tibet) की यात्रा की, तो वहां पाया कि तिब्बत में विकास...

80 प्रतिशत भारतीय स्वतंत्र तिब्बत का समर्थन करते हैं : सर्वे

आईएएनएस सी वोटर तिब्बत सर्वेक्षण के अनुसार, लगभग 80 प्रतिशत भारतीय स्वतंत्र तिब्बत का समर्थन करते हैं। इस सर्वेक्षण का अच्छा हिस्सा...

तिब्बती लोगों ने दलाई लामा को नोबेल शांति पुरस्कार मिलने की वर्षगांठ मनाई

निर्वासित तिब्बत सरकार के साथ ही हजारों तिब्बतियों और समर्थकों ने गुरुवार को धर्मगुरु दलाई लामा को नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित...

आसमान को चार मीटर एक्स्ट्रा चीरती हुई माउंट एवरेस्ट की नई ऊंचाई

दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई पहले की तुलना में थोड़ी अधिक है। आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि हो...

Most Read

जीवन के हर पग आवश्यक है एक गुरु की सहायता

सनातन वेदों में कहा गया है कि गुरु ब्रह्म हैं, गुरु विष्णु हैं, गुरु महेश भी हैं। जीवन में गुरु नामक आभूषण...

कुलभूषण खरबंदा: ‘जेम्स बॉन्ड’ से अन्स्र्ट स्टावरो ब्लोफेल्ड की भूमिका से प्रेरित था शाकाल

76 वर्षीय अभिनेता ने कहा, "जब हम कैमरों से शूट करते हैं, तो हम दर्शकों को बेवकूफ नहीं बना सकते। कैमरा हर मिनट की डिटेल कैप्चर करता है। इसलिए, मुझे चरित्र में फिट होने के लिए अपना सिर मुंडवाना पड़ा।

आयुष्मान को सबसे बड़ा अफसोस किशोर कुमार से मिल न पाने का

आयुष्मान ने कहा कि किशोर कुमार सिर्फ एक किंवदंती और एक आइकन नहीं हैं, वह एक संस्था हैं। वह हमेशा मेरे लिए प्रेरणा की किरण रहे हैं

श्रीजेश : युवाओं को लगातार सीनियरों की ड्यूटी के लिए प्रेरित कर रहे हैं

श्रीजेश ने कहा, "जब मैंने पहली बार भारतीय जर्सी पहनी तो मुझे याद है कि मेरे सीनियरों ने मुझसे कहा था कि अगर तुम गलती करोगे तो तुम्हें क्लब या राज्य स्तर पर ही खेलना पड़ेगा। भारतीय जर्सी पहनने से बड़ी जिम्मेदारी आती है।"