Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

हम समाज में लैंगिक विभाजन को पाटने का संकल्प लेते हैं- Smriti Irani

राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

महिला बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी (Wikimedia Commons)

जैसा कि राष्ट्र ने 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस(National Girl Child Day) मनाया, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री(Union Minister of Women and Child Development) श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी(Smriti Zubin Irani) ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

"शिक्षित करें, प्रोत्साहित करें, सशक्त करें! आज का दिन हमारी लड़कियों को समान अवसर प्रदान करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता को नवीनीकृत करने का दिन है। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर, जैसा कि हम अपनी बेटियों की उपलब्धियों का जश्न मनाते हैं, हम एक समावेशी और समान समाज के निर्माण के लिए लिंग भेद को पाटने का संकल्प लेते हैं”, ईरानी ने अपने ट्वीट संदेश में कहा।


smriti irani, ministry of women and child development महिला बाल विकास मंत्रालय (Wikimedia Commons)

यह भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस समारोह में प्रधानमंत्री Narendra Modi ने उत्तराखंड की टोपी और मणिपुर की स्टोल पहन बटोरी सुर्खियां

भारत की लड़कियों को समर्थन और अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से हर साल 24 जनवरी को देश में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना और बालिका शिक्षा और उनके स्वास्थ्य और पोषण के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना और समाज में लड़कियों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए समाज में लड़कियों की स्थिति को बढ़ावा देना है। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत पहली बार 2008 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा की गई थी।

Input-IANS; Edited By-Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

अतरंगी-रे से दृश्य।(सोशल मीडिया)

हाल ही में ऑनलाइन प्लेटफार्म पर रिलीज हुई सारा अली खान(Sara Ali Khan), अक्षय कुमार(Akshay Kumar), और दक्षिण भारत के बड़े अभिनेता धनुष(Dhanush) की फिल्म Atrangi-Re पर विवाद थमता नहीं नजर आ रहा है। सोशल मीडिया पर Boycott Atrangi-Re ट्रेंड कर रहा है, वह इसलिए क्योंकि हिन्दू समाज यह आरोप लगा रहा है कि इस फिल्म में हिन्दू समाज को बदनाम करने और लव-जिहाद को बढ़ावा देने वाले दृश्यों का प्रयोग किया गया है।

फिल्म में भगवान शिव का अपमान किया गया

आपको बता दें कि Atrangi-Re फिल्म में कुछ ऐसे दृश्य हैं जिनका विरोध बड़े स्तर पर हो रहा है। एक दृश्य में सारा अली खान यह कह रही हैं कि "हनुमान जी का प्रसाद समझे हैं, जो कोई भी हाथ फैलाएगा और हम मिल जाएँगे? शिव जी का धतूरा हैं हम, मुँह से जाएँगे तो पि*वाड़े से निकलेंगे।" इसी डाइलोगे लोग आपत्ति जता रहे हैं।

लव जिहाद को बढ़ावा देने का आरोप

आपको बता दें कि हिन्दू समाज से संबंधित दर्शक इस फिल्म पर लव जिहाद को बढ़ावा देने वाला बता रहे हैं। वह इसलिए क्योंकी एक दृश्य में सारा अली खान अपने सह-कलाकार धनुष को यह कहते हुए दिख रही हैं कि "हिन्दू ठाकुर लड़की, और वो कतई मियाँभाई लौंडा, इसे कहते हैं लव स्टोरी।"
साथ एक अन्य दृश्य में मुस्लिम युवक सज्जाद(अक्षय कुमार) खुदको 'श्रीराम' बता रहा है और हिन्दू लड़के का किरदार निभा रहे धनुष को 'रावण' बताया है। आपको यह भी बता दें कि हिन्दू धर्म में आस्था रखने वाली और हवन पूजन करने वाली सारा अली खान की दादी को इस फिल्म में खलनायक के तौर पर दिखाया गया है।

इसके साथ ही इस फिल्म पर बिहार की बोलचाल की भाषा को मजाकिया रूप से दिखाने का आरोप लग रहा है, साथ ही दक्षिण भारतीय नाम पर भी एक दृश्य में मजाक बनाया गया है। आपको बता दें की सोशल मीडिया पर कई लोगों ने इन दृश्यों को छाँट कर अपने सुझावों को पोस्ट किया है। साथ ही दर्शकों ने सेंसर बोर्ड से हिन्दू विरोधी फिल्मों पर कार्रवाई की मांग भी कर रहे हैं।
Source: Various Source; Edited By: Shantanoo Mishra

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!


अक्षय कुमार , एक्टर (Wikimedia Commons)

बॉलीवुड (Bollywood) के 'खिलाडी' अक्षय कुमार (Akshay kumar) अपनी ब्लॉकबस्टर फिल्मों के अलावा अपने कॉमिक किरदारों के लिए भी जाने जाते हैं। अपने दमदार अभिनय के दम पर पिछले तीन दशक से बॉलीवुड पर राज करने वाले सुपरस्टार खुद पर बोझ डालकर काम करने में यकीन नहीं रखते। उनका कहना है की वे सादगी से फिल्में करना चाहते हैं न कि मुश्किलों में।

अक्षय ने 1987 में महेश भट्ट के निर्देशन में बनी फिल्म 'आज' में एक छोटी सी भूमिका के साथ अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत की। इसके बाद खिलाडी कुमार ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। 'धड़कन' , 'बेवफा' , 'ऐतराज' , 'मोहरा' जैसी रोमांटिक फिल्मों के अलावा अक्षय ने कई सुपरहिट कॉमेडी फिल्में भी की है। इनमे 'हेरा फेरी' , 'गरम मसाला' , 'सिंह इज किंग' , 'हॉउसफुल' , 'हे बेबी' से लेकर 'मुझसे शादी करोगी' , 'बॉस' जैसी अनगिनत फिल्में शामिल है।

Keep Reading Show less
अक्षय कुमार , एक्टर (Wikimedia Commons)

बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार (Akshay Kumar) ने 'द कपिल शर्मा शो' पर फिल्म 'अतरंगी रे' में अपनी को-स्टार सारा अली खान (Sara Ali Khan) के काम की तारीफ की। बातचीत के दौरान होस्ट कपिल शर्मा ने अक्षय से नए जमाने के अभिनेताओं के बारे में विचार पूछे। उसी का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि नई पीढ़ी के कलाकार ज्यादा तैयार रहते हैं।

Keep reading... Show less