Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम

मेटा के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है।

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)

मेटा(Meta) के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है। एनगैजेट की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने कहा कि यूजर्स के फीड और स्टोरीज में पोस्ट करने के तरीके को सशक्त करने वाला एल्गोरिदम अब ऐसे कंटेंट को प्राथमिकता देगा, जिसमें 'बदमाशी, अभद्र भाषा या हिंसा भड़काने वाली सामग्री हो सकती है।'

इंस्टाग्राम के नियम पहले से ही इस प्रकार की अधिकांश सामग्री को प्रतिबंधित करते हैं, जबकि परिवर्तन सीमा रेखा पोस्ट या कंटेंट को प्रभावित कर सकता है जो अभी तक ऐप के मॉडरेटर तक नहीं पहुंची है। कंपनी ने एक अपडेट में बताया, "यह समझने के लिए कि क्या कोई चीज हमारे नियमों को तोड़ सकती है, हम चीजों को देखेंगे जैसे कि कैप्शन एक कैप्शन के समान है जो पहले हमारे नियमों को तोड़ता था।"


Instagram, Meta, Social Media, \u0907\u0902\u0938\u094d\u091f\u093e\u0917\u094d\u0930\u093e\u092e, \u092e\u0947\u091f\u093e 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)


अब तक, इंस्टाग्राम ने ऐप के सार्वजनिक-सामना वाले हिस्सों से संभावित आपत्तिजनक कंटेंट को छिपाने की कोशिश की है, जैसे कि एक्सप्लोर लेकिन यह नहीं बदला है कि इस प्रकार की सामग्री पोस्ट करने वाले खातों का पालन करने वाले यूजर्स के लिए यह कैसा दिखता है। लेटेस्ट परिवर्तन का अर्थ है कि 'समान' वाली पोस्ट जिन्हें पहले हटा दिया गया है, वे विजिटर्स को भी बहुत कम दिखाई देंगी। मेटा के एक प्रवक्ता ने पुष्टि की कि 'संभावित रूप से हानिकारक' पोस्ट अभी भी अंतत: हटाए जा सकते हैं यदि पोस्ट अपने सामुदायिक दिशानिर्देशों को तोड़ती है।

यह भी पढ़ें - नेताजी के पास था भारत की वित्तीय और आर्थिक मजबूती का एक विजन : डॉ. अनीता बोस फाफ

अपडेट 2020 में इसी तरह के बदलाव का अनुसरण करता है जब इंस्टाग्राम ने डाउन-रैंकिंग अकाउंट शुरू किया, जिसमें गलत सूचना साझा की गई थी, जिसे फैक्ट-चेकर्स ने खारिज कर दिया था। इस बदलाव के विपरीत, हालांकि, इंस्टाग्राम ने कहा कि लेटेस्ट नीति केवल व्यक्तिगत पोस्ट को प्रभावित करेगी और 'कुल खातों को नहीं'। (आईएएनएस - AS)

Popular

आज के समय में लाल टोपी का मतलब सिर्फ लाल बत्ती है-नरेंद्र मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) मंगलवार को गोरखपुर पहुंचे। मौका था 10 हजार करोड़ की परियोजनाओं का उद्घाटन करने का, लेकिन प्रधानमंत्री ने मंच का इस्तेमाल विरोधियों पर तंज कसने के लिए किया। समाजवादी पार्टी(Samaajvadi Party) का नाम लिए बिना मोदी ने कहा, 'आज पूरा यूपी अच्छी तरह जानता है कि लाल टोपी(Red Cap) का मतलब लाल बत्ती है। उन्हें आपके कष्टों से कोई लेना-देना नहीं है।'

प्रधानमंत्री ने कहा, 'लाल टोपी वाले लोगों को घोटालों के लिए, अपना खजाना भरने के लिए, अवैध कब्जे के लिए, माफिया को खुली लगाम देने के लिए सत्ता की जरूरत है। लाल टोपी वालों को सरकार बनानी है, आतंकवादियों पर दया करनी है, आतंकवादियों को जेल से छुड़ाना है। याद रहे, यूपी के लिए रेड कैप यानी खतरे की घंटी वाला रेड अलर्ट है.'

Keep Reading Show less

मायावती (Wikimedia Commons)

5 राज्यों के चुनाव जैसे-जैसे पास आ रहे हैं वैसे-वैसे राजनीतिक दल चुनाव जीतने के लिए अपनी-अपनी रणनीति बना रहे हैं। सोमवार को नंबर बसपा(Bahujan Samaaj Party) अध्यक्ष मायावती का था जिन्होंने दलितों का मुद्दा उठाकर अपना पारम्परिक वोटबैंक साधने की कोशिश की।

देश के संविधान के निर्माता बाबासाहेब अंबेडकर(Bhimrao Ambedkar) की 65वीं पुण्यतिथि पर पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने दो अन्य राज्यों में विधानसभा चुनावों के लिए अपनी पार्टी की योजनाओं को भी साझा किया।

Keep Reading Show less

कांग्रेस का गठन 25 दिसंबर 1885 में किया गया था। (Wikimedia Commons)

हमारा देश जब 1947 में आज़ाद हुआ था तब हमारे सामने यह बहुत बड़ा सवाल था की हमारे देश का नेतृत्व कौन करेगा? क्योंकि तब न तो हमारे देश के नेताओं ने कभी शासन किया था और न ही हमारे देश के लोगों के पास लोकतंत्र में रहने का अनुभव था। तब देश का नेतृत्व करने की ज़िम्मेदारी स्वतंत्रता आंदोलन का नेतृत्व करने वाली भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस(Indian National Congress) को दी गई। इसके दो कारण थे एक तो कांग्रेस में समाज के हर वर्ग और विचारधारा से जुड़े नेता थे, तो दूसरी तरफ उसने भारत के स्वतंत्रता आंदोलन का सामने से नेतृत्व किया था।

कांग्रेस के वर्चस्व की शुरुवात

Keep reading... Show less