Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
राजनीति

क्या था चंदा बंद सत्याग्रह ?

'चंदा बंद सत्याग्रह' जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर, डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था।

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।


चंदा बंद सत्याग्रह, डॉ. मुनीश रायजादा (Dr. Munish Raizada) द्वारा आम आदमी पार्टी की फंडिंग को पारदर्शी किए जाने और चंदे की पारदर्शिता को बनाए रखने के लिए शुरू किया गया था। आपको बता दें कि, AAP पार्टी एक बुनियादी सिद्धांत वित्तीय पारदर्शिता के साथ सत्ता में आई थी। उनका कहना था कि AAP जनता से जो भी पैसा लेगी, उनको वेबसाइट के माध्यम से जनता को दान किए गए सभी रिकॉर्ड दिखाएगी। पार्टी ने दावा किया था कि वह जनता के प्रति जवाबदेह होगी और जनता के हितों के लिए काम करेगी। पार्टी ने शुरुआती कुछ दिनों तक सूची को सार्वजनिक रूप से दिखाया। लेकिन जून 2016 में सत्ता में आने के बाद पार्टी ने वेबसाइट से दानदाताओं की सूची को दिखाना बंद कर दिया। इससे आम आदमी पार्टी के कई प्रमुख समर्थकों और स्वयंसेवकों का मोहभंग हो गया। उस समय सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे और डॉ. मुनीश रायजादा ने अपने पत्र के माध्यम से अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) से अपने सिद्धांतों पर वापस लौटने की मांग भी उठाई थी। आम आदमी पार्टी को चंदा देने वालों और चुनाव आयोग को सौंपी गई सूची में विसंगति को लेकर आयकर विभाग ने आम आदमी पार्टी को नोटिस भी भेजा था लेकिन कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया।

जिसके बाद ही डॉ. मुनीश रायजादा ने पार्टी के खिलाफ चंदा बंद सत्याग्रह का अभियान शुरू किया था। डॉ. मुनीश सहित अन्य सभी स्वयंसेवक और सहभागियों ने नई दिल्ली के राजघाट पर जमीनी स्तर पर सत्याग्रह शुरू किया था। इस अभियान के तहत उस समय एकल बिंदु प्रश्नावली शुरू की गई थी, ताकि जनता की राय को भी दर्ज किया जा सके। उस समय चंदा बंद सत्याग्रह के सत्याग्रहियों ने बैनर और तख्तियों के साथ दिल्ली में सार्वजनिक स्थानों पर खड़े होते हुए यह संदेश जनता तक पहुंचाया की आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) को तब तक दान न करने का संकल्प लें, जब तक वह अपनी राजनीतिक फंडिंग को सार्वजनिक नहीं कर देते।

उस वक्त इस सत्याग्रह के तहत 15,000 से भी अधिक लोगों ने प्रतिज्ञा पर हस्ताक्षर किए थे। अनाधिकृत कॉलोनी विकास संघ, जिसमें 26 रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन शामिल हैं, ने भी चंदा बंद सत्याग्रह (Chanda Bandh Satyagraha) को समर्थन दिया था। बड़ी संख्या में इस सत्याग्रह को लोगों का समर्थन मिला था। अलग – अलग राज्यों और सबसे अधिक पंजाब से आए लोगों ने इस सत्याग्रह का समर्थन किया था।

उस समय AAP के खिलाफ इस सत्याग्रह अभियान को बड़ी संख्या में लोगों का समर्थन मिला था। (File Photo)

डॉ. मुनीश रायजादा सहित अन्य सभी सत्याग्रहियों ने AAP से कुछ विशिष्ट शर्तों को पूरा करने की मांग उठाई थी। पहला, जनता द्वारा दिए गए दान को सार्वजनिक डोमेन में रखा जाए। सभी दान दाताओं को नाम से खोजा जाना चाहिए न की केवल रसीद संख्या के माध्यम से। 2014 के बाद की गुम बैलेंस शीट को सार्वजनिक किया जाए और पार्टी को संदिग्ध रूप से जो 2 करोड़ रूपये मिले थे उसकी जांच की जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें : Transparency Web Series : स्वराज से लेकर भ्रष्टाचार तक का सफर

उस समय AAP के खिलाफ इस सत्याग्रह अभियान को बड़ी संख्या में लोगों का समर्थन मिला था। लेकिन इतने समर्थन और सवाल – जवाब के बावजूद पार्टी की तरफ से कोई भी ठोस कदम नहीं उठाया गया। एक आम आदमी के रूप में आए व्यक्ति ने न केवल चंदे में हेरा–फेरी की, बल्कि सत्ता के लालच में वह जानता से किए वादों को भी भूल बैठा।

Popular

छत्तीसगढ़ पश्चिम बंगाल के अलावा भाजपा शासित राज्य मध्यप्रदेश में भी घटित हुई घटना।

नवरात्रि का पर्व समाप्त हो चुका है देश ही नहीं अपितु विदेश में भी दुर्गा विसर्जन के कार्यक्रम जगह जगह चल रहे हैं। लेकिन किसी धर्म विशेष के कुछ लोगों को यह विसर्जन रास नहीं आ रहा है। सबसे पहले हमने अपने पड़ोसी देश बांग्लादेश में देखा था कि किस तरीके एक गलत अफवाह फैलाकर नवरात्रि के पर्व में हिंदुओं का कत्लेआम किया गया जो अभी भी चालू है। अब प्रश्न उठता है बांग्लादेश में यह घटना क्यों संभव हो पाई? क्योंकि बांग्लादेश में हिंदू अल्पसंख्यक हैं। वहां पर ना बांग्लादेश की सरकार और ना ही पुलिस प्रशासन हिंदुओ की सुनते हैं, जिस कारण ऐसी दर्दनाक घटना घटित होती है।

लेकिन जब अपने भारत देश में भी ऐसी कुछ घटनाएं सामने आ रही है, जहां पर हिंदू समाज बहुसंख्यक हैं तो प्रश्न उठना स्वाभाविक है। आपको भारत में हुई कुछ घटनाएं बताते हैं। सबसे पहले ऐसी घटना छत्तीसगढ़ में देखने को मिली जहां दुर्गा विसर्जन में जा रहे हैं भक्तों पर एक तेज स्पीड से आती हुई गाड़ी रौंद कर चली गई और जिसके बाद इसका वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस प्रशासन हरकत में आया। इस वीडियो को देखकर साफ पता चल रहा था कि यह घटना जानबूझकर करवाई गई है। इस घटना में 10 से ज्यादा लोग घायल और 1 लोग की मृत्यु होने की खबर है। इसके अलावा ऐसी घटना मध्य प्रदेश में भी देखने को मिली जहां पर बीजेपी की सरकार है। यह घटना भोपाल के बजरिया थाना क्षेत्र में हुआ जब दुर्गा विसर्जन के लिए भीड़ जमा थी इसी दौरान अचानक एक कार भीड़ में घुस गई और कार चालक ने कार को तेज रफ्तार से रिवर्स में चलाना शुरु कर दिया जिसके कारण भगदड़ मच गई और कई लोग घायल हो गए जिसमें एक बच्चा भी शामिल है।

Keep Reading Show less

बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति दिन-प्रतिदिन हो रही है खराब।

संपूर्ण भारत ही नहीं अपितु पूरे विश्व में नवरात्रि त्यौहार धूमधाम से मनाया जा रहा है। नवरात्रि के इस पावन पर्व में मां दुर्गा के पंडाल जगह-जगह लगाए जाते हैं। ऐसा ही भारत के पड़ोसी देश बांग्लादेश में भी होता है। बांग्लादेश के हिंदू अल्पसंख्यक समुदाय के लिए नवरात्रि का त्यौहार विशेष रूप से महत्वपूर्ण होता है। लेकिन बांग्लादेश के कट्टरपंथी मुसलमानों को यह बर्दाश्त नहीं होता , इसलिए वह लोग त्यौहार में खलल डालने के लिए कोई ना कोई तरीका अपनाते रहते हैं। इसी तरह की घटना हाल फिलहाल में भी सामने आई है।

बुधवार को सोशल मीडिया पर एक पंडाल में 'कुरान का अपमान' करने का दावा करने वाली एक फेसबुक पोस्ट वायरल हुई। जिसके बाद हिंसक झड़प का धार प्रारंभ हो गया। कट्टरपंथियों इस्लामियो ने कई दुर्गा पंडालों में तोड़फोड़ की गई, करीब 150 से अधिक परिवारों पर हमला किया गया और तीन हिंदुओं के मारे जाने की भी खबर है। खबर यह भी है कि इस्लामिक कट्टरपंथियों ने सड़कों पर उतर कर चांदपुर के हाजीगंज चट्टोग्राम के बंशखली, चपैनवागंजके शिवगंज और कॉक्स बाजार में मंदिरों में भी तोड़फोड़ करी और हिंदू धर्म के अनुयायियों की बेरहमी से हत्या करने की भी कोशिश की गई।

Keep Reading Show less

पटाखों की बिक्री और फोड़ने पर प्रतिबंध। (Pixabay)

भारत एक खूबसूरत देश है जो अपनी अलग संस्कृति, परंपरा, भाषा, रंग, वेशभूषा, धर्म और खानपान के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। भारत का संविधान भारत के सभी लोगों को एक समान देखता है। भारत का कानून सभी धर्म, जात आदि के लिए एक समान है, परंतु जब बात आती है, भारत के संविधान को जमीनी हकीकत पर लागू करने की तो भारत में सरकारें ऐसा करने में चूक जाती है, क्योंकिऐसा प्रतीत होता है कि कुछ सरकारों का झुकाव एक धर्म विशेष की ओर ज्यादा होता है ताकि वह अपनी वोट बैंक वाली राजनीति को बेरोकटोक चला सके।

उदाहरण के तौर पर : पश्चिम बंगाल की सरकार ने घोषणा की है कि पिछले साल की तरह इस साल भी लोगों को पांडाल में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी, लेकिन हम आपको बता दें यह वही राज्य है जहां महामारी के दूसरी चरण पर सभी राजनेताओं ने विधानसभा चुनाव के लिए रैलियां निकाली थी, जिसमें प्रचार के दौरान भारी मात्रा में भीड़ जमा हुई थी। उसके लिए कोई कोविड -19 प्रतिबंध नहीं देखा गया था। लेकिन दुर्गा पूजा के दौरान, राज्य को प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा। इतना पक्षपात क्यों, यह विचार करने वाला विषय है।

Keep reading... Show less