Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

'अल फैजान मुस्लिम फंड लिमिटेड' का मालिक मोहम्मद फैज़ी करोड़ो ले कर फरार

बिजनौर में अल मुस्लिम फंड लिमिटेड का मालिक मोहहम्ब फ़ैज़ी खाताधारकों के द्वारा जमा नकदी ले कर फरार हो गया है। मामले में पुलिस ने लोगों के शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर जाँच शुरू कर दी है।

अल फैज़ान मुस्लिम फंड के मालिक मोहम्मद फैज़ी ने की खाताधारकों के साथ धोखाधड़ी (wikimedia commons)

बिजनौर के नगीना शहर में मोहल्ला लुहारी सराय में स्थित 'अल फैजान मुस्लिम फंड लिमिटेड' का मालिक मोहम्मद फैज़ी खाताधारकों के साथ ठगी(Fraud) कर करोड़ो रुपए की नगदी के साथ सोने-चांदी जेवरात लेकर फरार हो गया है। पुलिस ने कई लोगों के शिकायत के बाद प्रबंधक मोहम्मद फ़ैज़ी और एक अन्य के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। तमाम लोगों के शिकायत के आधार पर पुलिस ने 'अल फैजान म्युचुअल बेनिफिट निधि लिमिटेड' मोहल्ला लाल सराय नगीना के का संचालन के रहे मोहम्मद फैजी पुत्र अहमदुल्ला निवासी शाहजीर नगीना 420 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर जाँच शुरू कर दी है। नगीना के मोहल्ला लाल सराय में स्थित 'अल फैज़ान मुस्लिम फंड लिमिटेड' का संचालन मोहम्मद फैज़ी बीते पांच साल से कर रहा था। खाताधारकों को बिना कोई सूचना दिए आरोपी मोहम्मद फैज़ी शाखा बन्द कर फरार हो गया।

Bijnor, bijnor police, Bank fraud अल फैज़ान मुस्लिम फंड लिमिटेड तले मोहम्मद फैज़ी ने खाताधारकों को लगाया चूना। करोड़ो ले कर फरार। ( Pixabay )

बता दें कि 'अल फैज़ान मुस्लिम फंड' की शाखा में लोग प्रतिदिन लाखों रुपये का लेनदेन करते थे। ख़बर है की अल फैजान की शाखा में नगीना व आसपास के लोग के करोड़ों रुपए की नकदी के साथ साथ सोने चांदी के जेवरात भी जमा करते थे। रोज की तरह जब लोग अल फैज़ान फंड लिमिटेड की शाखा में लेन देन के लिए पहुंचे तो उन्हें निर्धारित समय सीमा के बाद भी शाखा बंद मिली। इसके बाद खाताधारकों को शक हुआ तो पता चला कि अल फैजान मुस्लिम फंड शाखा का संचालक मोहम्मद फैज़ी करोड़ों रुपए की नकदी के साथ साथ खाताधारकों के शाखा में जमा सोने-चांदी के जेवरात भी लेकर फरार हो गया। पुलिस की माने तो अब तक 170 से भी अधिक तहरीर दर्ज की जा चुकी हैं और पुलिस खाताधारकों के हुए नुकसान की खोज बीन में जुट गई है ।


संस्था चला रहे आरोपी मोहम्मद फैज़ी ने गांवों से अधिक ग्राहकों को बटोरने के लिए कई एजेन्ट को भी नियुक्त किया था। इसके साथ ही आरोपी मोहम्मद फैज़ी ने फरार होने से पहले नगीना में अपने मौजूदा घर को गुपचुप तरीके से बेच दिया। पुलिस सूत्रों की माने तो आरोपी मोहम्मद फ़ैज़ी ने कई करोड़ रुपये जमा किए होंगे।

यह भी पढ़ें - वर्षों से उत्पीड़न सह रहे हैं हिन्दू, जानिए हिंदुओं पर हुए अत्याचार की कहानी।

मुस्लिम समुदाय के लोग शरीयत को मानते हैं और शरीयत में जमा राशि पर ब्याज अर्जित करना या ब्याज देना गैर-इस्लामी होता है। इसलिए मुस्लिम समुदाय के लोग बैंको में अपना पैसा जमा करने से भागते हैं और ब्याज मुक्त सुविधाओं को खोजते हैं। मुस्लिम समुदाय को यह सुविधाएं मुस्लिम फंड बैंक के के रूप में निजी संस्थान मुहैय्या कराती हैं। नगीना स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) कृष्णा मुरारी के अनुसार, "पुलिस ने आरोपी मोहम्मद फैजी और उसके साथी के खिलाफ सम्बंधित आईपीसी की धारा के तहत शिकायत दर्ज किया है।"

Various source; Edited By: Abhay Sharma

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

केजरीवाल-सिसोदिया पर 500 करोड़ रिश्वतखोरी का आरोप! Kumar Vishwas on Arvind Kejriwal | NewsGram youtu.be


Popular

रिपोर्ट के अनुसार, पिछले चार वर्षों में इंटरनेट का उपयोग दोगुना से अधिक हो गया है (WIKIMEDIA COMMONS)

पिछले साल कोविड प्रेरित लॉकडाउन के दौरान, स्कूलों ने बच्चों को संक्रामक बीमारी से बचाने और उनके पाठों के सुचारू प्रवाह को बनाए रखने के लिए अपनी कक्षाओं को ऑनलाइन स्थानांतरित कर दिया था। लेकिन शुक्रवार को एक रिपोर्ट आई है जो सरकार एवं समाज से कई प्रश्न करती है? दरअसल रिपोर्ट से पता चला है कि उस अवधि के दौरान भारत में एक तिहाई से अधिक बच्चों की इंटरनेट तक पहुंच नहीं थी। अब आप लोग यह सोचिए जबकि किसी वस्तु का माध्यम ही नहीं होगा तो वह वस्तु का प्रवाह कैसे संभव होगा? अर्थात बिना इंटरनेट के ऑनलाइन शिक्षण कार्य कैसे हो सकता है?

डिजिटल नीति के मुद्दों पर काम करने वाले एक क्षेत्रीय थिंक टैंक, लिरनेशिया की रिपोर्ट के अनुसार एक आर्थिक नीति थिंक टैंक, आईसीआरआईईआर के साथ साझेदारी में ने दिखाया कि नामांकित स्कूली बच्चों वाले सभी परिवारों में से 64 प्रतिशत के पास इंटरनेट का उपयोग था जबकि शेष 36 प्रतिशत के पास इंटरनेट की पहुंच नहीं थी। बता दें, शोध में 350 गांवों और वार्डो सहित पूरे भारत में 7,000 घरों का एक सर्वेक्षण शामिल था।

Keep Reading Show less
Wikimedia Commons

मोबइल के कारण गर्दन में दर्द।

कोरोना की वजह से पिछले कुछ समय में लोगों की जीवन शैली में बहुत बदलाव आया है। बहुत से लोगों पर घर में रहने की वजह से सीधा प्रभाव पड़ा है खास तौर से बच्चों पर। कोविड-19 की वजह से ऑफलाइन से लगभग सब कुछ ऑनलाइन होता जा रहा है। वैसे ही बच्चों की पढ़ाई भी अब ऑनलाइन होने लगी है। जिसके कारण बच्चे देर तक मोबाइल में लगे रहते है। कोरोना की वजह से उतपन्न हुई मज़बूरी अब सभी के लिए मुसीबत बनती जा रही है। सिर्फ बच्चों को ही नहीं बल्कि बड़ों को भी काम के सिलसिले में कई घंटों तक लैपटॉप या मोबाइल के सामने बैठे रहना पड़ता है। लगातार मोबाइल का उपयोग करने से यह एक एडिक्शन बनता जा रहा है।

किसी भी चीज़ को अगर हम ज्यादा मात्रा में करने लग जाते हैं तो उस चीज़ की हमें लत लग जाती है। और लत किसी भी तरह की हो वह बुरी ही होती है। मोबाइल की लत भी बुरी है और साथ ही साथ खतरनाक भी। इस तरह की लत आज कल युवाओं में बहुत ज्यादा देखी जा सकती है। वह बिना खाना खाए तो रह सकते हैं लेकिन अपने मोबाइल के बग़ैर नहीं।

Keep Reading Show less