Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
राजनीति

BJP छोड़ने के पीछे विधायकों के हैं  व्यक्तिगत स्वार्थ : सिद्धार्थ नाथ सिंह

सिद्धार्थ नाथ सिंह का भारतीय जनता पार्टी छोड़ रहे विधायकों पर पलटवार कहा व्यक्तिगत स्वार्थ और टिकट कटने के डर से छोड़ रहे हैं पार्टी।

भारतीय जनता पार्टी ( उत्तर प्रदेश में ) मंत्री एवं विधायक सिद्धार्थ नाथ सिंह।(Wikimedia Commons)

उत्तर प्रदेश में चुनाव नजदीक है, चुनावी माहौल में कई नेता अपने निजी फायदे को देखते हुए दल बदलने लगे हैं। जिनको आभास हो रहा है पार्टी उनका टिकट काट सकती है या उनको अपने मनपसंद विधानसभा सीट से हटा सकती है वह नेता अब दूसरी पार्टी में अपने फायदे को ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं।

भारतीय राजनीतिज्ञ एवं भारतीय जनता पार्टी (उत्तर प्रदेश सरकार) में मंत्री, इलाहाबाद पश्चिम (विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र) से विधायक सिद्धार्थ नाथ सिंह ने समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा कि, " मंत्री और विधायकों के पार्टी छोड़ने के कई कारण है ! व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए मंत्री और विधायक दल बदल रहे हैं। पार्टी छोड़ रहे नेताओं को डर है कि उन्हें उनकी मनपसंद विधानसभा सीट से टिकट नहीं दिया जाएगा इन सभी लोगों ने पांच साल तक भारतीय जनता पार्टी में मलाई खाने का काम किया है।"


सिद्धार्थ नाथ सिंह ने आगे कहा कि "भारतीय जनता पार्टी जनता से अपने विधायकों के बारे में फीडबैक लेती है और उस आधार पर भरतीय जनता पार्टी विधायकों को टिकट देती है या काटती है !" भारतीय जनता पार्टी जनता के अपने विधायक के नकारात्मक फीडबैक के आधार पर जब नेताओं का टिकट काटती है तो यह लोग पार्टी छोड़ के अन्य पार्टियों में अपनी दाल गलाने की कोशिस करते हैं। समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव की पार्टी में ऐसे लोगों के लिए दरवाजे खुले हैं। अखिलेश यादव सबको पार्टी में शामिल कर लें, हमे इससे कोई एतराज नही है। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी इस बार भी 300 से अधिक सीटों पर अपनी जीत दर्ज करेगी।

यह भी पढ़ें आज के युवाओं में है "Can Do" स्पिरिट- Narendra Modi

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने भारतीय जनता पार्टी को छोड़ चुके कई विधायकों द्वारा उठाये जा रहे दलित और पिछडों के मुद्दे पर पलटवार करते हुए कहा कि "उत्तर प्रदेश में पिछड़ों और दलितों को भटकाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भरतीय जनता पार्टी को छोड़ने वाले विधायक पिछड़ों और दलितों के हित में समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के किसी 10 योजनाओं के नाम बता कर देखें। समाजवादी पार्टी सिर्फ मुसलमानों और यादवों की बात करती है समाजवादी पार्टी से मैं कहूंगा की अन्य पिछड़ी जातियाँ उनका साथ कभी नही देंगी।

बता दें कि हाल ही में भारतीय जनता पार्टी को छोड़ के समाजवादी पार्टी में शामिल होने वाले मंत्री एवं विधायक उत्तर प्रदेश के वर्तमाम सरकार को पिछडो एवं दलितों का विरोधी बताया। उत्तर प्रदेश की सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रशाद मौर्य ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया और उन्होंने समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया। दल बदल रहे नेताओं के द्वारा उठाये जा रहे इन बेबुनियाद मुद्दों पर सिद्धार्थ नाथ सिंह ने एएनआई से बात करते हुए पलटवार किया।

Various source; Edited by - Abhay Sharma

Popular

जया बच्चन, फिल्म अभिनेत्री और समाजवादी पार्टी से राज्य सभा सांसद। [Wikimedia Commons]

पनामा पेपर्स से जुड़े मामले में सोमवार को अपनी बहू ऐश्वर्या राय (Aishwarya Rai) से ED की पूछताछ को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए जया बच्चन (Jaya Bachchan) ने कहा कि सरकार अपनी ताकत का दुरुपयोग कर डराने की कोशिश कर रही है। फिल्म अभिनेत्री और समाजवादी पार्टी से राज्य सभा सांसद जया बच्चन ने संसद भवन परिसर में मीडिया से बात करते हुए कहा कि मैं अपनी पर्सनल लाइफ के बारे में कुछ नहीं बोलना चाहती, मगर हिंदुस्तान देख रहा है।

उन्होंने (Jaya Bachchan) केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आप ( सरकार ) कितने देर तक, कब तक लोगों को इस तरह से डरा कर रखेंगे। जया बच्चन ने सरकार की तुलना अंग्रेजों से करते हुए कहा कि अंग्रेज भी इसी तरह से लोगों को डरा कर रखते थे, लेकिन हमने उनको भी भगा दिया, यह इतिहास है।

यह भी पढ़ें : हेमा मालिनी ने की मथुरा में भव्य कृष्ण मंदिर बनाने की मांग

जया बच्चन ने आरोप लगाया कि सरकार चुनाव को लेकर घबरा गई है और अपनी ताकत का दुरुपयोग कर रही है। उन्होंने 'लाल टोपी सब पर भारी' की बात कहते हुए उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में सपा के जीतने की भी उम्मीद जताई। (आईएएनएस)

Keep Reading Show less

पनामा पेपर्स लीक मामले में ED दफ्तर पहुंचीं ऐश्वर्या राय। [Wikimedia Commons]

बॉलीवुड अभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन (Aishwarya Rai Bachchan) कथित फेमा उल्लंघन के मामले के संबंध में पनामा पेपर लीक (Panama Papers Leak) मामले की जांच में शामिल होने के लिए सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय (ED) के दिल्ली कार्यालय पहुंचीं। ED के एक शीर्ष अधिकारी ने उनके बयान दर्ज करने के लिए जांच में शामिल होने की पुष्टि की।

उन्होंने कहा कि जांच में शामिल होने के लिए अभिनेत्री को तीन बार तलब किया गया था। यह तीसरा समन था जो उन्हें मिला है।

ED के एक अधिकारी ने कहा, "हमने उन्हें 20 दिसंबर के लिए बुलाया था। समन उनके मुंबई स्थित आवास पर भेजा गया था। समन का पालन करते हुए वह जांच में शामिल हुईं।"

Keep Reading Show less

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने केंद्र सरकार द्वारा लाए गए अध्यादेश को मंजूरी दे है।(File Photo)

केंद्र सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। दरअसल केंद्र सरकार केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) और प्रवर्तन निदेशालय (Ed) के प्रमुखों के कार्यकाल को पांच साल तक बढ़ाने के लिए अध्यादेश लेकर आई है। जिसे राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने मंजूरी दे दी है, क्योंकि संसद सत्र का सत्र अभी नहीं चल रहा है। वह इस तथ्य से संतुष्ट हैं कि ऐसी परिस्थितियां मौजूद हैं, जिनमें तत्काल कार्रवाई बहुत जरूरी है।

बता दे, इस समय दोनों केंद्रीय जांच एजेंसियों(central investigative agencies)के निदेशकों का कार्यकाल दो वर्ष का है और अब अध्यादेशों के अनुसार, उन्हें अधिकतम तीन वर्ष का विस्तार मिल सकता है। सीवीसी (संशोधन) अध्यादेश और दिल्ली विशेष पुलिस स्थापना (संशोधन) अधिनियम अध्यादेश संसद के आने वाले शीतकालीन सत्र से पहले सीबीआई और ईडी के निदेशकों के कार्यकाल के विस्तार की अनुमति देने के लिए जारी किए गए हैं।

Keep reading... Show less