Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

अलर्ट पर अयोध्या!

6 दिसंबर 1992 को कार सेवकों द्वारा बाबरी मस्जिद को गिरा दिया गया था। जिसके बाद से प्रत्येक 6 दिसंबर को अयोध्या और संपूर्ण उत्तर प्रदेश अलर्ट पर रहती है।

अलर्ट पर अयोध्या। (Unsplash)

अयोध्या(ayodhya) में कोई विशेष खुफिया अलर्ट नहीं होने के बावजूद सुरक्षा बल हाई अलर्ट(Alert) पर हैं क्यों कि दिनांक 6 दिसंबर है। बता दें, 6 दिसंबर 1992 को कार सेवकों द्वारा बाबरी मस्जिद(Babri Masjid) को गिरा दिया गया , जिसने देश के राजनीतिक परिदृश्य को बदल दिया। तब से लेकर वर्तमान समय तक 6 दिसंबर पर संपूर्ण यूपी अलर्ट पर रहता है।

आला पुलिस अधिकारी का कहना है कि पुलिस(Police) कोई जोखिम नहीं उठा रही है और किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए सभी सावधानियां बरती जा रही हैं। आईएएनएस से बात करते हुए, एडीजी लखनऊ(ADG Lucknow) जोन, एस.एन. सबत(S.N.Sabat) ने कहा, "हमने अयोध्या में पर्याप्त सुरक्षा बलों को तैनात किया है और सभी सावधानी बरतने के अलावा कोई विशेष खुफिया अलर्ट नहीं है।"


सबत(S.N.Sabat) ने कहा, "किसी भी तरफ से किसी खतरे की आशंका नहीं है और हम सभी पहलुओं पर विचार कर रहे हैं।" उन्होंने कहा कि अब तक शहर में शांति है और एसएसपी स्थिति पर नजर रखे हुए हैं और आईजी इलाके की निगरानी के लिए आ रहे हैं। एडीजी(ADG Lucknow) ने कहा कि दो दिन पहले जो फोन आया था, वह गंभीर नहीं था, लेकिन सभी धमकियों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। आपातकालीन नंबर 112 पर एक गुमनाम कॉल आई थी, जिसमें अयोध्या शहर और निमार्णाधीन राम मंदिर में सिलसिलेवार विस्फोट करने की धमकी दी गई थी।

यह भी पढ़े - उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले क्यों मची है कृष्ण जन्मभूमि में हलचल?

अपको बता दें, इस मामले में भाजपा(Bjp) नेताओं लाल कृष्ण आडवाणी, एम.एम. जोशी और अन्य को अदालत ने बरी कर दिया है और मुसलमान इस दिन को 'ब्लैक डे'(Black day)के रूप में मनाते हैं।

Input : आईएएनएस ; Edited by Lakshya Gupta

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

ह्रदय रोग और उच्च रक्तचाप के कारण से होने वाली बीमारियों से अनजान। (pixabay)

एक हैरान कर देने वाले सर्वे के अनुसार, भारत में हृदय रोग के 50 प्रतिशत से अधिक रोगी केवल आपातकालीन स्थिति में ही चिकित्सकीय सलाह लेते हैं, जिससे पता चलता है कि लोगों के बीच हृदय रोग की जागरूकता ना के बराबर है। एनसीआरबी की रिपोर्ट के पिछले चार वर्षों के तुलना मे पता चला है कि 18 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में दिल के दौरे के कारण होने वाली मौतों में बढ़ौती हुई है,जो 2016 में 1,940 से बढ़कर पिछले वर्ष के दौरान 2,381 हो गई है। 45-60 आयु वर्ग में, मृत्यु दर 2016 में 8,862 से बढ़कर पिछले वर्ष के दौरान 11,042 हो गई। 60 से अधिक आयु वर्ग में, 2016 में 4,275 की तुलना में पिछले साल 6,612 लोगों की मृत्यु हुई।

"भारत में गैर-संचारी रोग" शीर्षक वाली सर्वेक्षण रिपोर्ट में देश में गैर-संचारी रोगों (एनसीडी) के बढ़ते मामलों का विश्लेषण करने के लिए 21 राज्यों में 2,33,672 लोगों और 673 सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यालयों को शामिल किया गया। यह शीर्ष व्यापार निकाय एसोचैम द्वारा दिल्ली स्थित थिंक टैंक थॉट आर्ब्रिटेज रिसर्च इंस्टीट्यूट के साथ संयुक्त रूप से आयोजित किया गया था। एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 36-45 वर्ष की आयु से हृदय रोगी वाले लोगों का जोखिम काफी बढ़ गया है। फिर भी 70 प्रतिशत से ज्यादा लोगों ने माना है कि उन्हें एक वर्ष की पीड़ा के बाद निदान किया गया था। हृदय रोग (सीवीडी) और उच्च रक्तचाप से पीड़ित 40 प्रतिशत से अधिक उत्तरदाताओं ने माना है कि उन्हें तीन साल से अधिक समय से अपनी हृदय संबंधित बीमारियों के बारे में पता नहीं था, जबकि लगभग 10 प्रतिशत लोगों ने कहा है कि वह किसी भी प्रकार के उपचार की मांग नहीं कर रहे।

Keep Reading Show less
Pixabay

आप हरे-भरे इलाकों में रहते हैं तो आपको हृदय का रोग विकसित होने की संभावनाएं कम होती हैं।

अगर आप हरे-भरे इलाकों में रहते हैं तो आपको हृदय का रोग विकसित होने की संभावनाएं कम होती हैं। एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है। ईएससी कांग्रेस 2021 में प्रस्तुत किए गए निष्कर्षों से संकेत मिलता है कि पूरे अध्ययन के दौरान उच्च हरे भरे वाले ब्लॉकों के निवासियों में कम हरे भरे वाले ब्लॉकों की तुलना में किसी भी नई कार्डियोवैस्कुलर स्थितियों को विकसित करने की 16 प्रतिशत कम संभावनाएं थीं।

यूनिवर्सिटी ऑफ मियामी, अमेरिका के विलियम ऐटकेन ने कहा, "जब कोई क्षेत्र उच्च हरापन बनाए रखता है और जब हरापन बढ़ता है, तो समय के साथ हरेपन के उच्च स्तर हृदय की स्थिति और स्ट्रोक की कम दरों से जुड़े होते हैं।"

एटकेन ने कहा, "यह उल्लेखनीय था कि ये संबंध केवल पांच वर्षों में दिखाई दिए, पॉजिटिव पर्यावरणीय प्रभाव के लिए अपेक्षाकृत कम समय में।" अध्ययन के लिए, टीम में 65 वर्ष और उससे अधिक आयु के 2,43,558 यूएस मेडिकेयर लाभार्थी शामिल थे जो 2011 से 2016 तक मियामी के एक ही क्षेत्र में रहते थे।

पांच साल के अध्ययन के दौरान दिल का दौरा, आलिंद फिब्रिलेशन, दिल की विफलता, इस्केमिक हृदय रोग, उच्च रक्तचाप और स्ट्रोक / क्षणिक इस्केमिक हमले सहित नई हृदय स्थितियों की घटनाओं को प्राप्त करने के लिए मेडिकेयर रिकॉर्ड का उपयोग किया गया था।

Heart टीम ने ब्लॉक-स्तरीय हरेपन के आधार पर किसी भी नए हृदय रोग के विकास की बाधाओं और नई हृदय स्थितियों की संख्या का विश्लेषण किया। Pixabay

Keep Reading Show less