Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

हिंदुओं को यह सोचकर और प्रताड़ित करना सही नहीं है कि वे कुछ नहीं करते और चुप रहते हैं :महंत विश्वप्रसन्ना​​​

महंत ने कहा कि हिंदुओं में अन्य धर्मों के लोगों की तरह हिंसक मानसिकता नहीं होती है पर सरकार को स्थिति से बाहर होने से पहले कार्रवाई करनी चाहिए

हिंदुओं में अन्य धर्मों के लोगों की तरह हिंसक मानसिकता नहीं होती है।(Wikimedia Commons)

पेजावर मठ के महंत विश्वप्रसन्ना तीर्थ स्वामीजी ने हाल के दिनों में बांग्लादेश और कश्मीर में हिंदुओं के खिलाफ हो रहे हिंसा पर शनिवार को कहा कि हिंदुओं को यह सोचकर और प्रताड़ित करना सही नहीं है कि वे कुछ नहीं करते और चुप रहते हैं।

उन्होंने कहा कि हिंदुओं में अन्य धर्मों के लोगों की तरह हिंसक मानसिकता नहीं होती है पर सरकार को स्थिति से बाहर होने से पहले कार्रवाई करनी चाहिए।


 Ram Mandir Ayodhya श्री राम मंदिर , अयोध्या (Wikimedia Commons)

उन्होंने कहा कि अगर सरकार नहीं चाहती कि उसके लोग कानून अपने हाथ में लें, तो उन्हें स्थिति को नियंत्रित करना चाहिए। सरकार को सिर्फ एक धर्म के लोगों की नहीं बल्कि समाज में सभी की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए। सभी धर्मों के लोगों को शांति से रहना चाहिए। यह सुनिश्चित करने के लिए सरकार मौजूद है। यदि सरकार इस संबंध में कार्रवाई नहीं करती है तो सांप्रदायिक झड़पें और हिंसा होगी। एक बार जब यह टूट जाता है, तो इसे रोकना संभव नहीं।

यह भी पढ़ें : हिंदू माता-पिता अपने बच्चों को धर्म के प्रति जागृत कर रोक सकते हैं धर्मांतरण!

चुनाव में नेताओं द्वारा होने वाले भड़काऊ बयानबाजी पर उन्होंने कहा कि चुनाव के समय सांप्रदायिक मुद्दों पर चर्चा की जाती है और धीरे-धीरे वे फीके पड़ जाते हैं। राजनेता विशेष जातियों से वोट पाने के लिए बयान जारी करते हैं। लेकिन ये बयान समाज में सद्भाव को प्रभावित करते हैं। ऐसा नहीं होना चाहिए।

उन्होंने इस बात पर खुशी जताई कि कर्नाटक के डोड्डाबल्लापुर क्षेत्र के ग्रेनाइट पत्थर अयोध्या में श्री राम मंदिर की नींव पर रखे जाएंगे, जिस पर मंदिर बनाया जाएगा। उन्होंने कहा,'' यह कर्नाटक के लोगों के लिए गर्व और सम्मान की बात है।''

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कोविड महामारी के बारे में कहा कि वर्ष 2020 कोविड-19 से उत्पन्न वैश्विक संकट का वर्ष रहा है, मगर साथ ही महामारी ने भारत को ‘दुनिया की फार्मेसी’ के रूप में एक नई पहचान भी दी है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शनिवार को 16वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन के समापन सत्र को संबोधित करते हुए यह बात कही।

राष्ट्रपति ने कहा, महामारी से उत्पन्न भारी चुनौतियों से निपटने के लिए वैश्विक प्रत्युत्तर विकसित करने में भारत सबसे आगे रहा है। हमने लगभग 150 देशों में दवाओं की आपूर्ति की, जिससे विश्व ने भारत को ‘दुनिया की फार्मेसी’ के रूप में देखा। उन्होंने कहा, कोविड के दो टीकों (वैक्सीन) के विकास में हमारे वैज्ञानिकों और तकनीशियनों की हाल की सफलता आत्मनिर्भर भारत अभियान के लिए एक बड़ी उपलब्धि है, जो वैश्विक कल्याण की भावना से प्रेरित है।

Keep Reading Show less
राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने ऑनलाइन कॉन्फ्रेंस के ज़रिये राष्ट्रिय पुरस्कार का वितरण किया(PIB)

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शिक्षक दिवस के मौके पर पहली बार वर्चुअल तरीके से आयोजित पुरस्कार समारोह में देशभर के 47 शिक्षकों को राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया। राष्ट्रीय पुरस्कार विजेताओं में लगभग 40 प्रतिशत महिलाएं हैं। राष्ट्रपति ने शिक्षक के रूप में महिलाओं की निभाई गई भूमिका की सराहना की। राष्ट्रपति ने पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी। पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एस. राधाकृष्णन को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, “वह एक दूरदर्शी, राजनेता और इससे भी बढ़कर एक असाधारण शिक्षक थे। शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाने वाला उनका जन्मोत्सव राष्ट्र के विकास में उनके योगदान का महज प्रतीक है और पूरे शिक्षक समुदाय के लिए सम्मान की निशानी भी है।”

यह भी पढ़ें: शिक्षक दिवस: पीएम मोदी ने शिक्षकों का जताया आभार, डॉ. राधाकृष्णन को किया याद

Keep Reading Show less
नीलकंठ भानु प्रकाश, तीव्रतम मानव कैलकुलेटर(Image: Neelakantha Bhanu Prakash J, Twitter)

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने शनिवार को हैदराबाद के नीलकंठ भानु प्रकाश को दुनिया का सबसे तेज मानव कैलकुलेटर बनने पर बधाई दी। राष्ट्रपति ने भानु को एक पत्र लिखा, जिसमें उनकी उज्जवल भविष्य की कामना की।

यह भी पढ़ें- जब यूपीए 2 में ध्यानचंद के नाम की सिफ़ारिश के बावजूद सचिन तेंदुलकर को दिया गया था भारत रत्न, पढ़ें

Keep reading... Show less