Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

हिन्दू उत्पीड़न समेत आगामी वर्ष में बांग्लादेश के सामने हैं ​नई चुनौतियां

बांग्लादेश में अल्पसंख्यक ( हिन्दू ) के साथ हुए उत्पीड़न और आने वाले समय मे बांग्लादेश सरकार की अल्पसंख्यको के प्रति संवेदनशीलता और उनके धार्मिक स्वतंत्रता पर एक सार्थक चर्चा ।

बांग्लादेश में हिन्दू उत्पीड़न रोकथाम में सरकार के समक्ष है नई चुनौतियों । (Pixabay)

डॉ रिचर्ड बेन्किन लिखते है कि आज से तकरीबन साढ़े पाँच साल पहले पूर्व कांग्रेसी रॉबर्ट डोल्ड और मैं हाउस कमेटी वेज़ एंड मीन्स के एंटीचैम्बर में सयुंक्त राज्य अमेरिका में बांग्लादेश के राजदूत रहे मोहम्मद जियाउद्दीन के साथ बांग्लादेश में हिंदुओं के साथ हो रहे उत्पीड़न पर चर्चा करने के लिए बैठे थे। शक्तिशाली कांग्रेस कमेटी के सदस्य, कांग्रेसी रॉबर्ट डोल्ड ने विशेष रूप से इस बात पर जोर देने के लिए बैठक की जगह निर्धारित की कि बांग्लादेश की ओर से निरंतर इस मुद्दे पर निष्क्रियता के परिणाम आ रहे थे । इन सभी बातों के अलावा वेज एंड मीन्स अंतरराष्ट्रीय व्यापार से संबंधित मामलों को नियंत्रित करता है, जिसमें टैरिफ और व्यापार समझौते शामिल हैं।


बांग्लादेश में हिंदुओं के उत्पीड़न के मुद्दे पर हो रही चर्चा धीरे धीरे और स्पष्ट एवं खुलती गई और यह भी स्पष्ट हो रहा था की यह मुद्दा बेहद ही गंभीर है और इसपे हमारी चिन्ताएं दूर नही हो रही है। थोड़े ही समय बाद रॉबर्ट डोल्ड ने मोहम्मद जियाउद्दीन से पूछा, " क्या आप मानते है कि बांग्लादेश में हिंदुओं के साथ हो रहे उत्पीड़न से आपको समस्या है ?" जियाउद्दीन इस बात से सहमत थे। इस पर रॉबर्ट डोल्ड ने कहा कि "हम आपकी समस्या को हल करने में आपकी मदद करना चाहतें है।" इस मुद्दे पर चर्चा के बाद बांग्लादेश को धार्मिक स्वतंत्रता और उसके संविधान में निहित समानता के मूल्यों को प्राप्त करने में मदद करने के लिए संयुक्त यूएस-बांग्लादेशी कार्रवाई का द्वार खुल जाना चाहिए था। लेकिन यह कभी नही हुआ। कुछ समय बाद रॉबर्ट डोल्ड के एक कर्मचारी और मैं इस मामले में सहयोगात्मक प्रयास शुरू करने के लिए राजदूत जियाउद्दीन से मिले। जियाउद्दीन से मिलने पर उन्होंने हमसे कहा की "मैंने इस मामले पर अध्ययन किया और मैंने पाया कि मुझसे गलती हुई थी।" बांग्लादेश में हिन्दू स्वतंत्र एवं बिना छेड़छाड़ के रह रहे हैं। लेकिन जियाउद्दीन ने जो कहा उसे नकारने के लिए हमारे पास सबूत थे। हमारे पास हिंसक हिंदू-विरोधी उत्पीड़न के दशकों के सत्यापित प्रमाण भी थे, जिनमें से कुछ घातक भी थे।


तब से अब तक बहुत कुछ हुआ। रॉबर्ट डोल्ड ने निजी क्षेत्र के लिए कांग्रेस को छोड़ दिया और दूतावास में राजदूत जियाउद्दीन और अन्य को बदल दिया गया। बांग्लादेश और चीन का सम्बंध घनिष्ठ होता गया। इसके अलावा और भी बहुत कुछ। जब भी बांग्लादेश हिंदुओं पर बढ़ते हमलों के लिए कुछ कट्टरपंथियों को दोष देने की कोशिश करता है तब बाकी दुनिया अब बांग्लादेश सरकार पर विश्वास नहीं करता है।हाल ही में बांग्लादेश में दुर्गा पूजा के हिंदू त्योहार के आसपास हुई हिंदू-विरोधी हिंसा इतनी गंभीर थी कि दुनिया भर की सरकारों ने इसकी निंदा की और कई मामलों में सरकार के नियंत्रण के बावजूद, इसे रोकने में बांग्लादेश की सरकार की विफलता सामने आई है। अधिकांश सरकारें और व्यक्ति इस बात से सहमत हैं कि अपने अल्पसंख्यक नागरिकों की सुरक्षा की जिम्मेदारी बांग्लादेश की सरकार की है। उदाहरण स्वरूप यदि हम देखें तो जब कई शहरों में पुलिस अधिकारियों ने अपनी शक्ति का दुरुपयोग किया और कुछ अफ्रीकी-अमेरिकियों को मार डाला तो हमारी सरकार को कार्रवाई करनी पड़ी। हमें उन परिस्थितियों से भी निपटना था जिन्होंने इन अपराधों को जन्म दिया सरकार के लगभग सभी स्तरों पर कई पहल की गई हैं।

Bangladesh, Hindu minority, bangladesh government, बांग्लादेश में हिन्दू उत्पीड़न रोकथाम में सरकार के समक्ष है नई चुनौतियों (Pixabay)

सीनेटर रिचर्ड डर्बिन वाशिंगटन के सबसे शक्तिशाली व्यक्तियों में से एक हैं और वो वर्षों से मेरे और मेरे काम के प्रति दयालु और सहायक रहे हैं। उन्होंने हाल ही में मुझे लिखा था कि वे "हिंसा को रोकने के लिए बलों को भेजने में सरकार की प्रतिक्रिया की सराहना करते हैं," लेकिन कहते हैं कि "इन हमलों को भड़काने वाले चरमपंथी संगठनों के खिलाफ और कार्रवाई की जानी चाहिए। सरकार को उनके प्रभाव और नागरिक समाज के खिलाफ की गई भयानक कार्रवाइयों का मुकाबला करने के लिए कार्रवाई करनी चाहिए।" डर्बिन की टिप्पणी सामान्य भावना का संकेत है, और उन लोगों के लिए एक चेतावनी है जो इसे पढ़ना चाहते हैं।

हाल ही में अल जज़ीरा के एक अंश ने खुले तौर पर अनुमान लगाया कि अमेरिकी की कार्रवाई बांग्लादेश के प्रति अमेरिकी नीति में बदलाव का संकेत दे सकती है। पिछले महीने संयुक्त राज्य अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, भारत और जापान ने 111 ज्यादातर एशियाई लोकतंत्रों को चतुर्भुज सुरक्षा वार्ता क्वाड में आमंत्रित किया था। बांग्लादेश उनमे मौजूद नही था। सुरक्षा के अलावा, क्वाड देशों को व्यापार और बुनियादी ढांचे जैसी चीजों में मदद करता है जो बांग्लादेश के भविष्य के लिए महत्वपूर्ण है।बांग्लादेश में लोकतंत्र की बिगड़ती गुणवत्ता और हिंदू विरोधी हिंसा के लिए सरकार की सहनशीलता सबके सामने है।
मैं यह उम्मीद नहीं करता कि कोई भी केवल इसलिए डर से कांप रहा होगा क्योंकि हम संयुक्त राज्य अमेरिका हैं। पश्चिमी लोग यह नही सोचते क्योंकि उनका मानना है कि हम इन मामलों में बेहतर हैं। मैं जहाँ भी जाता हूं, लोग उन उनकी ओर इशारा करते हुए टिप्पणी करते हैं। अक्सर मुझसे पूछते हैं कि क्या मैं वहां अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित हूं। मैं जवाब देता हूं कि "जहां भी मैं जाता हूं, वहां 24/7 लोग रहते हैं और उनमें से प्रत्येक का जीवन उतना ही कीमती है जितना कि मेरा।"


हालाँकि, मुझे उम्मीद है कि जिम्मेदार नेता उन चीजों पर ध्यान देंगे जो उनके लोगों पर गंभीर प्रभाव डालती है और उन्हें अनदेखा नहीं करना चाहिए। संयुक्त राज्य अमेरिका रेडीमेड कपड़ों के लिए बांग्लादेश का बड़ा ग्राहक है चीन इसका सबसे बड़ा प्रतिस्पर्धी है। मैं कई वर्षों से व्यवसाय में था और हमेशा से जानता था कि अपने ग्राहकों को नाराज करना एक बुरा विचार है और जैसे-जैसे दृष्टिकोण बदलते हैं, हर जगह के लोग नियमित रूप से मुझसे अपने प्रभाव का उपयोग करके उन्हें उस बाजार का एक हिस्सा दिलाने के लिए कहते हैं। मैंने यह भी सीखा कि वर्तमान समृद्धि को कभी भी हल्के में नहीं लेना चाहिए।
यूएस-बांग्लादेश संबंध एक चौराहे पर है और वर्तमान बांग्लादेशी सरकार कौन सी सड़क पर चलती है इसका वह खुद जिम्मेदार है उनके फैसले आज और भी महत्वपूर्ण हैं क्योंकि वे रेडीमेड परिधान अर्थव्यवस्थाएं जो महामारी के बाद भी समृद्ध होती जा रही हैं फैसला केवल इसलिए करेंगी क्योंकि उनके नेता ग्राहकों के साथ संबंध मजबूत करते हैं, उन्हें कमजोर नहीं करते। वे जो कुछ भी करते हैं वह यह निर्धारित करेगा कि बांग्लादेश उन आदर्शों पर खरा रहा है या नहीं, जिन्होंने इसे जन्म दिया। चीन के करीब बढ़ने, कम लोकतांत्रिक होने और अपने अल्पसंख्यक नागरिकों को सताने वालों के खिलाफ नपुंसकता का दावा जारी रखने से यह नहीं हो पाएगा।

यह भी पढ़ें - वर्षों से उत्पीड़न सह रहे हैं हिन्दू, जानिए हिंदुओं पर हुए अत्याचार की कहानी।


अमेरिकी विदेश नीति की नब्ज पर अपनी उंगलियां रखने वाले सीनेटर डर्बिन ने मुझसे कहा, "मैं बांग्लादेशी सरकार से हिंदुओं और देश के सभी धार्मिक समुदायों के अधिकारों और सुरक्षा की रक्षा करने का आग्रह करता हूं।" अगर सरकार ऐसा नहीं कर सकती तो मैं मदद कर सकता हूं।
लेखक एक अमेरिकी विद्वान और एक भू-राजनीतिक विश्लेषक हैं।


Source dailyasianage.com ; Edited by Abhay Sharma

Popular