Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर

मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं : कंगना रनौत

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर [Wikimedia Commons]

अपने तीखे अंदाज और रोमांचक किरदारों के लिए अक्सर सुर्ख़ियों में रहने वाली कंगना रनौत ने मंगलवार को एक कार्यक्रम में फिल्म 'धाकड़' के पोस्टर को व्यक्तिगत रूप से लॉन्च किया और पत्रकारों के प्रश्नों का जवाब दिया।

बॉलीवुड में अपने संघर्षों के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा कि मुझे लगता है कि मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं। अब मैं यह 'धाकड़' फिल्म कर रही हूं और मुझे उम्मीद है कि दर्शक इसे पसंद करेंगे।


इसपर जब एक पत्रकार ने उनकी तुलना अर्नोल्ड श्वार्जऩेगर से की तो कंगना ने इसकी प्रशंसा की और उन्होंने बड़ी चतुराई से इसका जवाब भी दिया।

फिल्म धाकड़ के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा की यह बॉलीवुड की पहली महिला केंद्रित जासूसी थ्रिलर है। वह आभारी हैं कि उन्हें अपनी फिल्मों में रोमांचक किरदार निभाने को मिले। कंगना ने कहा ,'' मैं इसे लेकर वास्तव में खुश हूं। मैं खुद को भाग्यशाली मानती हूं कि मैं एक ऐसे चरित्र को चित्रित करने में सक्षम हूं जो अच्छे एक्शन दृश्य करता है। मैं अपने निर्देशक रजनीश घई को धन्यवाद देती हूं जिन्होंने मुझ पर विश्वास किया और मुझे यह मौका दिया।'''

यह भी पढ़ें : अनुष्का ने अपनी बहादुर और साहसी दिखने का श्रेय अपनी बेटी वामिका को दिया

दरअसल फिल्म में कंगना एजेंट अग्नि की भूमिका में दिखेंगी जो बाल तस्करी और महिलाओं के शोषण के दोहरे खतरे का सामना करती है। फिल्म की ख़ास बात यह है की इसमें स्टंट एक अंतर्राष्ट्रीय टीम द्वारा डिजाइन किए गए हैं। साथ ही पुरस्कार विजेता जापानी छायाकार टेटसुओ नागाटा ने कैमरावर्क किया है जो कई हॉलीवुड एक्शन फिल्मों में काम कर चुके। (आईएएनएस )

Input: IANS; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

विश्व स्वास्थ्य संगठन का संकेत (Pixabay)

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, ऐसे समय में जब कोविड-19 महामारी मानसिक स्वास्थ्य सहायता की बढ़ती आवश्यकता को उजागर कर रही है, दुनिया 2020 के अधिकांश मानसिक स्वास्थ्य लक्ष्यों से चूक गई है, और लोगों को उनकी जरूरत की मानसिक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में विफल रही है। शुक्रवार को जारी की गई डब्ल्यूएचओ की ये रिपोर्ट। विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस 10 अक्टूबर से पहले जारी मानसिक स्वास्थ्य एटलस रिपोर्ट में 171 देशों के डेटा शामिल हैं। हाल के वर्षों में मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देने के बावजूद, अभी तक गुणवत्तापूर्ण मानसिक सेवाओं के पैमाने में वृद्धि नहीं हुई है जो जरूरतों के अनुरूप है।

आप को बता दे कि 2020 में, डब्ल्यूएचओ के 194 सदस्य देशो में से केवल 51 प्रतिशत ने बताया कि उनकी मानसिक स्वास्थ्य नीति या योजना अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मानवाधिकार उपकरणों के अनुरूप थी, जो लक्ष्य 80 प्रतिशत से कम है।
मानसिक स्वास्थ्य संवर्धन और रोकथाम कार्यक्रमों से केवल 52 प्रतिशत देशों ने संबंधित लक्ष्य को पूरा किया, फिर भी 80 प्रतिशत लक्ष्य से काफी नीचे है।

रिपोर्ट में हर तीन साल में जारी कि जाती हैं कहा गया है कि आत्महत्या की दर में 10 प्रतिशत की कमी ही एकमात्र लक्ष्य था, लेकिन फिर भी, केवल 35 देशों के पास एक स्टैंड-अलोन रोकथाम रणनीति, नीति और योजना थी।
डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ ट्रेडोस अदनोम घेब्येयियस ने कहा कि यह बेहद चिंताजनक है कि मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं की स्पष्ट और बढ़ती आवश्यकता के बावजूद, अच्छे इरादों को निवेश से पूरा नहीं किया जा रहा है।

\u092e\u093e\u0928\u0938\u093f\u0915 \u0938\u094d\u0935\u093e\u0938\u094d\u0925\u094d\u092f मानसिक स्वास्थ्य एटलस रिपोर्ट में 171 देशों के डेटा शामिल हैं।(Wikimedia Commons)

Keep Reading Show less

ह्रदय रोग और उच्च रक्तचाप के कारण से होने वाली बीमारियों से अनजान। (pixabay)

एक हैरान कर देने वाले सर्वे के अनुसार, भारत में हृदय रोग के 50 प्रतिशत से अधिक रोगी केवल आपातकालीन स्थिति में ही चिकित्सकीय सलाह लेते हैं, जिससे पता चलता है कि लोगों के बीच हृदय रोग की जागरूकता ना के बराबर है। एनसीआरबी की रिपोर्ट के पिछले चार वर्षों के तुलना मे पता चला है कि 18 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में दिल के दौरे के कारण होने वाली मौतों में बढ़ौती हुई है,जो 2016 में 1,940 से बढ़कर पिछले वर्ष के दौरान 2,381 हो गई है। 45-60 आयु वर्ग में, मृत्यु दर 2016 में 8,862 से बढ़कर पिछले वर्ष के दौरान 11,042 हो गई। 60 से अधिक आयु वर्ग में, 2016 में 4,275 की तुलना में पिछले साल 6,612 लोगों की मृत्यु हुई।

"भारत में गैर-संचारी रोग" शीर्षक वाली सर्वेक्षण रिपोर्ट में देश में गैर-संचारी रोगों (एनसीडी) के बढ़ते मामलों का विश्लेषण करने के लिए 21 राज्यों में 2,33,672 लोगों और 673 सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यालयों को शामिल किया गया। यह शीर्ष व्यापार निकाय एसोचैम द्वारा दिल्ली स्थित थिंक टैंक थॉट आर्ब्रिटेज रिसर्च इंस्टीट्यूट के साथ संयुक्त रूप से आयोजित किया गया था। एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 36-45 वर्ष की आयु से हृदय रोगी वाले लोगों का जोखिम काफी बढ़ गया है। फिर भी 70 प्रतिशत से ज्यादा लोगों ने माना है कि उन्हें एक वर्ष की पीड़ा के बाद निदान किया गया था। हृदय रोग (सीवीडी) और उच्च रक्तचाप से पीड़ित 40 प्रतिशत से अधिक उत्तरदाताओं ने माना है कि उन्हें तीन साल से अधिक समय से अपनी हृदय संबंधित बीमारियों के बारे में पता नहीं था, जबकि लगभग 10 प्रतिशत लोगों ने कहा है कि वह किसी भी प्रकार के उपचार की मांग नहीं कर रहे।

Keep Reading Show less
भारत में 47 प्रतिशत कामकाजी महिलाऐं कोरोना की वजह से तनाव में। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

भारत की 47 प्रतिशत कामकाजी महिलाएं कोविड-19 महामारी की वजह से अधिक तनाव या चिंता महसूस कर रही हैं। एक नए सर्वेक्षण में गुरुवार को यह बात कही गई है। माइक्रोसॉफ्ट के स्वामित्व वाली लिंक्डइन ने गुरुवार को ‘श्रमबल विश्वास सूचकांक’ (वर्कफोर्स कॉन्फिडेंस इंडेक्स) सर्वेक्षण में दावा किया गया है कि पांच में से दो यानी महिलाओं को अपने बच्चों की देखभाल के लिए कार्य के घंटों से आगे भी काम करना पड़ रहा है।

यह सर्वे 2,254 पेशेवरों के बीच किया गया है।

Keep reading... Show less