Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

ओप्पो फाइन्ड एन 5जी नाम से नया स्मार्टफोन लॉन्च कर सकता है : रिपोर्ट

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है जिसे फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है।

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। [Wikimedia Commons]

ओप्पो (Oppo) कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। अब एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हैंडसेट को फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है। टिपस्टर डिजिटल चैट स्टेशन के अनुसार, आगामी फोल्डेबल स्मार्टफोन का नाम फाइन्ड एन 5जी होगा। इसमें एक रोटेटिंग कैमरा मॉड्यूल भी हो सकता है जो उपयोगकर्ताओं को मुख्य सेंसर का उपयोग करके उच्च-गुणवत्ता वाली सेल्फी क्लिक करने की अनुमति देगा।

ऐसा कहा जा रहा है कि यह फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। डिवाइस में साइड-माउंटेड फिंगरप्रिंट रीडर होने की संभावना है। हुड के तहत, यह स्नैपड्रैगन 888 मोबाइल प्लेटफॉर्म द्वारा संचालित होगा।


foldable phone, OPPO, smartphone, 5G ऐसा कहा जा रहा है कि ओप्पो का यह फोल्डेबल फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। [Wikimedia Commons]

रिपोर्ट के अनुसार, डिवाइस के कलरओएस 12 के साथ प्रीइंस्टॉल्ड आने की उम्मीद है, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि इसमें लेटेस्ट एंड्रॉइड 12 होगा या पिछले साल का एंड्रॉइड 11।

कैमरा डिपार्टमेंट में, डिवाइस में पीछे की तरफ सोनी आईएमएक्स766 50-मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा हो सकता है।

यह भी पढ़ें : मस्क ने कर्मचारियों से टेस्ला वाहनों की डिलीवरी की लागत में कटौती करने का आग्रह किया है

इसके अलावा, डिवाइस 4,500 एमएएच की बैटरी द्वारा संचालित होगा और इसमें 65 वॉट फास्ट चार्जिग तकनीक का सपोर्ट होगा।

फोल्डेबल स्मार्टफोन के अलावा चीनी कंपनी नेक्स्ट-जेनरेशन ओप्पो (Oppo) रेनो7 सीरीज के स्मार्टफोन भी लॉन्च करने की तैयारी कर रही है। (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

नए शोध के अनुसार, शिशुओं के सिर से निकलने वाला रसायन पुरुषों को शांत करता है, लेकिन महिलाओं को अधिक आक्रामक बनाता है। [Pixabay]

साइंस एडवांसेज जर्नल के नए शोध के अनुसार, शिशुओं के सिर से निकलने वाला रसायन पुरुषों को शांत करता है, लेकिन महिलाओं को अधिक आक्रामक बनाता है।

लेखक अनुमान लगाते हैं कि यह एक रासायनिक रक्षा प्रणाली हो सकती है जो हमें अपने पशु पूर्वजों से विरासत में मिली, जिससे महिलाओं को अपने बच्चों की रक्षा करने की अधिक संभावना होती है और पुरुषों को उन्हें मारने की संभावना कम होती है।

Keep Reading Show less

द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, 2036 तक दुनिया की लगभग आधी जीवाश्म ईंधन संपत्ति बेकार हो जाएगी।(Wikimedia commons)

हाल ही में दी गार्जियन ने अपनी एक रिपोर्ट प्रकाशित करी है जिसमें कई अहम बातें कहीं गई है। रिपोर्ट में भविष्य की मांग के लिए आवश्यकता से कहीं अधिक तेल और गैस के उत्पादन के जोखिम पर प्रकाश डाला गया है , जिसमें तथाकथित संपत्तियों में 11 ट्रिलियन से 14 ट्रिलियन डॉलर की संपत्तियों के बेकार हो जाने का अनुमान है। जो देश डीकाबोर्नाइज करने में धीमे हैं, उन्हें नुकसान होगा लेकिन शुरूआती मूवर्स को लाभ होगा। अध्ययन में पाया गया है कि नवीकरणीय ऊर्जा और मुक्त निवेश वैश्विक अर्थव्यवस्था को हुए नुकसान की भरपाई से कहीं अधिक होगा।

रिपोर्ट के अनुसार यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर के प्रमुख लेखक जीन-फैंकोइस मक्र्योर ने कहा," सबसे खराब स्थिति में, लोग जीवाश्म ईंधन में तब तक निवेश करते रहेंगे जब तक कि अचानक उनकी अपेक्षित मांग पूरी नहीं हो जाती और उन्हें एहसास होता है कि जो उनके पास है वह बेकार है। तब हम 2008 के पैमाने पर एक वित्तीय संकट देख सकते हैं। अमेरिकी कार उद्योग के पतन के बाद ह्यूस्टन जैसे तेल समृद्ध क्षेत्र को चेतावनी दी गई थी कि उनका हश्र डेट्रॉइट के समान ही हो सकता है जब तक कि संक्रमण को सावधानीपूर्वक प्रबंधित नहीं किया जाता है।"

Keep Reading Show less

कोरोना के गंभीर मरीजों के इलाज में अब डॉक्टरों के लिए सही वक्त पर सही निर्णय लेना हुआ आसान।(Pixabay)

Corona के गंभीर मरीजों के इलाज के दौरान डॉक्टरों के लिए सही वक्त पर सही निर्णय लेना अब ज्यादा आसान होगा। रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (रिम्स) में हुए एक रिसर्च के निष्कर्ष से देश-दुनिया के डॉक्टरों को Corona मरीजों के इलाज में बड़ी मदद मिलेगी। इस रिसर्च में रिम्स में भर्ती 1301 गंभीर मरीजों पर अध्ययन किया गया और इसके आधार पर जो नतीजे आए, उससे संबंधित पेपर अमेरिका के जर्नल ऑफ क्रिटिकल केयर में प्रकाशित हुआ है।

यह रिसर्च रिम्स के डायरेक्टर डॉ कामेश्वर प्रसाद, जिन्हे मेडिकल फील्ड में महत्वपूर्ण योगदान के लिए पद्मश्री सम्मान प्राप्त हो चुका है, की अगुवाई में छह डॉक्टरों की टीम द्वारा किया गया। रिसर्च टीम के प्रमुख सदस्य और रिम्स के क्रिटिकल केयर डिपार्टमेंट के डॉ जयप्रकाश ने बताया कि यह रिसर्च उन मरीजों पर था, जिन्हें इलाज के दौरान या तो हाईफ्लो ऑक्सीजन देना पड़ा या फिर जिन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया।

Keep reading... Show less